पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Women
  • Work From Home Going On In Covid, Yet Why The Purchase Of Makeup Products Increased

कोविड और ब्यूटी वर्ल्ड:कोविड में चल रहा वर्क फ्रॉम होम, फिर भी क्यों बढ़ी मेकअप प्रोडक्ट की खरीदारी

10 दिन पहलेलेखक: सुनाक्षी गुप्ता
  • कॉपी लिंक
  • कोविड में घरों में बंद रहने पर भी महिलाएं क्यों कर रहीं ज्यादा मेकअप

कोरोना के दौर में काफी कुछ बदला है। वर्क फ्रॉम होम का बड़ा असर महिलाओं के वॉर्डरोब पर भी पड़ा है। हालांकि इस बीच महिलाओं का मेकअप से नाता जरा भी कमजोर नहीं पड़ा, बल्कि बढ़ा ही है। जर्नल ऑफ कॉस्मेटिक मेडिसिन की रिपोर्ट में दावा किया गया कि कोविड के कारण भले ही महिलाएं घर में बंद रहीं है लेकिन वह सोशल मीडिया के जरिए पूरी दुनिया से लगातार जुड़ी रहीं। वर्चुअल वर्ल्ड में खुद को बेहतर प्रेजेंट करने के लिए उन्होंने मेकअप का भी भरपूर इस्तेमाल किया है।

इस रिपोर्ट से यह पता चलता है कि कोविड और लॉकडाउन के कारण ओवर ऑल मेकअप करने वाली महिलाओं की संख्या में कमी आई है। कोविड से पहले 3.59 % महिलाओं के मुकाबले कोविड के दौरान 2.84 % महिलाओं ने ही मेकअप किया है, लेकिन साथ ही यह भी पता लगता है कि घर में बंद रहने के बावजूद सिर्फ 0.75 % महिलाओं ने ही मेकअप से दूरी बनाई। कोविड और खासकर लॉकडाउन के दौरान घर में रहने के बाद भी मेकअप इन्फ्लुएंसर से लेकर महिलाओं के मेकअप ट्रेंड में जबरदस्त बदलाव आया और वे ट्रेंड सैटर बनीं। जहां स्टूडेंट और वर्किंग वुमन मेकअप करने में सबसे आगे रहीं, वहीं होम मेकर मेकअप करने से पीछे नहीं हटी।

सोशल मीडिया के इन्फ्लुएंस से बढ़ी मेकअप की डिमांड

साउथ कोरिया में 245 महिलाओं के बीच हुए सर्वे में पता लगा कि कोविड के बाद से महिलाएं ज्यादा मेकअप करने लगी हैं। भारत में महिलाओं ने सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर को देखकर ट्रेंड में रहना शुरू कर दिया है, वे उन्हीं की तरह मेकअप और ड्रेसअप होकर बनाती हैं। बल्कि लॉकडाउन के समय ही ज्यादातर लड़कियों ने मेकअप ट्यूटोरियल के वीडियो बनाए थे जो काफी हिट रहे।

मास्क लगाने के बाद यूं बदली महिलाओं की मेकअप किट

कोरोना काल में जब भी मेकअप की बात की जा रही है तो ज्यादातर महिलाओं की दिलचस्पी आई मेकअप में दिख रही है। वे कलरफुल आई लाइनर, आई शैडो पैलेट, कलरफुल मस्कारा, लैशेस, आईब्रो डिफाइनर, आईब्रो पैलेट और आईब्रो फिलर पैंसिल जैसे प्रोटक्ट मेकअप किट का अहम हिस्सा बन गए हैं।

ऑफिस की ऑनलाइन मीटिंग के लिए होती हैं ड्रेसअप
ये कोरोना का ही असर है कि महिलाएं तेजी से डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आई हैं। वर्किंग वुमन ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में खुद को अच्छा और एनर्जेटिक दिखाने के लिए आई लाइनर और काजल के बाद अब आई लैशेस और आई शैडो जैसे कई आई मेकअप प्रोडक्ट्स को अपनाना शुरू कर दिया है। यही वजह है कि कई ई-कॉमर्स साइट खासकर की नाइका और लॉरियर पेरिस जैसी ब्यूटी साइट्स खुलकर कह रही हैं कि आई शैडो पैलेट लॉकडाउन के समय भी उनके टॉप फाइफ प्रोडक्ट्स की लिस्ट में शामिल रहा। अब लोग जैसे-जैसे घर से बाहर निकलने लगे हैं ये आई मेकअप टॉप थ्री प्रोडक्ट्स में जगह बनाए हुए है।

लिपस्टिक हो ऐसी, जो मास्क के अंदर भी टिकी रहे

कोरोना से पहले महिलाएं मेकअप करते समय लिपस्टिक व अलग-अलग तरह के लिप मेकअप के ट्रेंड पर ज्यादा गौर करती थी, मास्क लगने के कारण उनका पूरा फोकस आई मेकअप पर शिफ्ट हो गया है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि लिपस्टिक मार्केट से ही गायब हो गई है, क्योंकि हर महिला यह जानती है कि लिपस्टिक के बिना मेकअप पूरा नहीं हो सकता। यही वजह है कि अब कई बड़े ब्यूटी ब्रांड्स ने मास्क के अंदर टिकी रहने वाली लिपस्टिक तैयार करना शुरू कर दिया है। मैट लिपस्टिक के अलावा स्मच फ्री लिपस्टिक को प्रमोट कर रहे हैं जो मास्क लगाने पर भी जल्दी नहीं हटती।

हाइजीन के साथ ब्यूटी सर्विस भी हुई महंगी

कोविड से पहले महिलाएं पार्लर जाने पर सिर्फ पैकेज पूछा करती थी, तब इस बात की फ्रिक नहीं होती थी कि वहां जो ब्यूटी किट इस्तेमाल हो रही है क्या वो सिर्फ हमारे लिए ही है या नहीं, मेरे से पहले कौन उस चेयर पर बैठा था? पार्लर में कितनी बार शीट्स बदली जाती होगी ? वहीं महामारी के बाद अब पार्लर जाते ही सबसे पहले यही पूछते हैं कि क्या आपने चेयर को सैनिटाइज किया है? क्या मेरे बैठने से पहले पेपर शीट बदली गई है? ये सवाल इस बात का सबूत है कि कोविड के बाद से हम सभी हाइजीन को लेकर कितने एलर्ट हो गए हैं। जब ग्राहक को हाइजीन चाहिए तो उसकी रकम भी वही अदा करेगा, यही कारण है कि आज महिलाएं चाहे पार्लर में जाकर ब्यूटी सर्विस लें या फिर घर पर ही तरह-तरह के ऐप से ब्यूटी एक्सपर्ट बुलावाएं। सैनेटाइजर, मास्क और वेट टिशू पेपर साथ लगी 100- 200 रुपये की एक हाइजीन किट आपके खाते में जुड़ जाती है। हाइजीन वाली ब्यूटी सर्विस और महंगी हो गई है। पार्लर में सिंगल कस्टमर बुकिंग तक होने लगी है, कुछ महिलाएं फेशियल और क्लीनअप से पहले नई किट खुलवाने लगी है ताकि उन्हें हर चीज अनछुई मिले और वे खुद को कोविड से सुरक्षित रख सकें।

समय मिला तो स्किन केयर पर दिया ज्यादा ध्यान

अमेरिका में पावर रिव्यू संस्था ने 10,646 लोगों के बीच हुए सर्वे में देखा कि कोरोना काल में 56 % लोगों ने स्किन केयर प्रोडक्स्ट अपनाए हैं, क्योंकि पहले के मुकाबले अब उनके पास अपनी त्वचा और खुद का ख्याल रखने के लिए ज्यादा समय मिल रहा है। लॉकडाउन में करीब 57 % महिलाओं ने ऑनलाइन शॉपिंग से ब्यूटी प्रोडक्ट्स ऑर्डर किए, जबकि 2019 तक इसकी संख्या मुश्किल से 16-18 % के बीच थी।

ब्यूटी एक्सपर्ट श्रुति कुकरेजा
ब्यूटी एक्सपर्ट श्रुति कुकरेजा

टिप्स फॉर मेकअप विज मास्क
मास्क लगाने से पहले मेकअप करते समय महिलाओं को किन बातों का ख्याल रखना चाहिए, बताती हैं ब्यूटी एक्सपर्ट श्रुति कुकरेजा
- सिलिकॉन बेस प्राइमर का इस्तेमाल करें, यह ज्यादा देर तक टिका रहता है।
- लिपस्टिक लगाने के बाद होठों के ऊपर टिशू पेपर रखकर ब्रश से पाउडर लगाएं, इससे लिपस्टिक मैट हो जाती है और जल्दी नहीं हटती।
- ऑयली मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करने से बचें।
- फाउंडेशन के बजाए बीबी क्रीम यूज करें।
- मेकअप करने के बाद फेस पाउडर जरूर लगाएं।
- मेकअप को बनाए रखने के लिए मेकअप फिक्सिंग स्प्रे का इस्तेमाल करें।