• Hindi News
  • National
  • Hind Tips On Becoming A Mother For The First Time | Helpful Tips For A First Time Maa

पहली बार मां:पहली बार मां बन रही हैं तो ये 10 बातें आपके काम की हैं

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पहली बार मां बनने का एहसास ही अलग होता है। सब कुछ नया नया और खास होता है। पर कई बातें ऐसी होती है जो पता नहीं होती। समझ नहीं आता डॉक्टर कि सुने या मां या सासू मां की। ऐसे में 10 बातें जो आपको पता होनी चाहिए-

1- बच्चों में पेट की दिक्कत और उपाय -

बच्चा इतना छोटा होता है की न कुछ बोल पाता है, न हम कुछ समझ पाते हैं। पर बच्चों में गैस की दिक्कत होती है। उसके हाथ पैरों को हिलाना, साइकिलिंग करवाना, हलके गर्म कपड़े से सिकाई सब करके भी आराम न मिल रहा हो तो डॉक्टर की मदद लें। डॉक्टर गैस ड्राप या ग्राइप वाटर देने के लिए बोलते हैं, जो बच्चे को तुरंत आराम पहुंचाता है।
2- पानी पीना -

भले ही आपने ज़िन्दगी भर ये सुना हो की ज्यादा पानी पीना चाहिए लेकिन यकीन मानिये एक स्तनपान कराने वाली मां का ज्यादा पानी पीना बहुत जरूरी है। ये स्तनपान को अधिक आसान बनाता है।
3- पब्लिक टॉयलेट्स के हैंडीकैप टेबल -

सुनने में भले ही अजीब लगे लेकिन एक मां ही समझ सकती है की जब बच्चे का किसी सार्वजनिक जगह पर डायपर बदलना हो तो कितनी दिक्कत होती है। कई बार पब्लिक टॉयलेट के सिंक में या ज़मीन पर बच्चे को लिटाकर डायपर बदलना पड़ता है। ऐसे में ध्यान रखे की सभी पब्लिक टॉयलेट्स में दिव्यांगों के लिए स्टॉल, या टेबलनुमा जगह रहती है जिसमें बच्चे को लिटाकर डायपर बदला जा सकता है।
4- बच्चे के मूड बिगड़ने का समय-

धीरे धीरे आप जान जाएँगी की आपके बच्चे के सोने का, खुश होने का या मूड ख़राब होने का एक समय है। ये बदलता रहता है, लेकिन एक पैटर्न आपको जल्द समझ आ जायेगा। उसे समझ लेंगी तो उस हिसाब से खुद को तैयार रख पाएंगी।
5- झटपट बनने वाला खाना -

अगर बच्चे के साथ ज्यादातर समय आप अकेली घर पर रहती है तो ऐसे कुछ पौष्टिक खाना बनाने की विधि सीख ले जो जल्दी बन सके। कई बार बच्चा ठीक उसी वक़्त रोने लगता है जब आपको भूख लग रही होती है। कुछ रेडीमेड खाने का सामान जैसे फल, ड्राई फ्रूट्स, सूखा चूरा भी घर पर रखे। आपका सही समय पर खाना भी बहुत ज़रूरी है।
6- शरीर में बदलाव -

बच्चे को जन्म देने के तुरंत बाद जो बदलाव आपके शरीर में आएंगे, वो शुरुआत में अजीब लगेंगे। लेकिन दुखी न हो। ये हमेशा ऐसे ही नहीं रहेंगे। पर फिलहाल के लिए इन बदलावों को भी अपना ले, वरना डिप्रेशन होगा। टॉयलेट जाना भी पहले जैसा नहीं होगा, लेकिन यकीन मानिये-धीरे धीरे सब बदलेगा।
7- स्तनपान दर्द भरा हो सकता है -

ज्यादातर नई माओं को बताया जाता है कि शुरुआत में स्तनपान कराने में दर्द होता है। लेकिन ये दर्द लम्बे समय तक बना रह सकता है। हालांकि जैसे जैसे समय बीतता है, आप सही ढंग से स्तनपान कराने लगते हैं जिससे दर्द नहीं होता।
9- नर्सिंग सेंटर्स -

ऐसे तो ये बड़ा नया कांसेप्ट है। इसके मायने ये है की जैसे पब्लिक टॉयलेट्स होते हैं वैसे ही बच्चे को दूध पिलाने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर नर्सिंग सेंटर्स भी बनाये जायेंगे। कई जगह ये सेंटर्स बने भी है। मॉल या मल्टीप्लेक्सेज में कई शहरों में भी ये नर्सिंग सेंटर्स बने है। आप अपने शहर की जानकारी जुटा लेंगी तो फायदा होगा।
10- हार न माने -

गर्भवती स्त्री कल्पना का एक संसार बुनती है। कई बातें मन में तय कर लेती है। बच्चा होगा तो ये करूंगी, ऐसे करूंगी। लेकिन जब बच्चा संभालना होता है तब समझ आता है की ये उतना आसान नहीं है जितना सोचा था। एक पल को तो आप हार मानने लगेंगी। लगेगा कि मैं कुछ नहीं कर पा रही। पर ये सबके साथ होता है। इसलिए हार न माने। आप एक बेहतरीन मां है। खट्टे मीठे अनुभवों के बाद जब बच्चे की मुस्कान देखेंगी तो यकीन मानिये गम छू मंतर हो जायेगा।

खबरें और भी हैं...