• Hindi News
  • National
  • Lack Of Nutrients In Pregnancy Increases The Risk Of Obesity In Children, In Such A Diet, Eat Folic Acid And Protein rich Diet.

डाइट इन प्रेग्नेंसी:प्रेग्नेंसी में पोषक तत्वों की कमी से बच्चे में मोटापे का खतरा ज्यादा, ऐसे में लें फोलिक एसिड और प्रोटीन युक्त डाइट

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए, मां की डाइट को बैलेंस और पौष्टिक बनाने की जरूरत होती है। इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फैट का सही संतुलन शामिल होता है। इस दौरान सब्जियों और फलों का सेवन बढ़ाया जाता है, ताकि बच्चे का सही ढंग से विकास हो सके। प्रेग्नेंट महिला को यह जानकारी होनी चाहिए कि उन्हें इस दौरान क्या करना है और क्या नहीं।

गर्भवती महिलाओं पर हुई हालिया रिसर्च चौंकाने वाली है। अमेरिकी वैज्ञानिकों का कहना है कि प्रेग्नेंसी के दौरान अगर मां का खान-पान पौष्टिक नहीं है तो भविष्य में इसका असर बच्चे पर दिखता है। ऐसे बच्चों में फैट की अधिक मात्रा पाई जाती है और मोटापे का खतरा बढ़ता है। यह दावा आयरलैंड के यूनिवर्सिटी कॉलेज डबलिन ने किया है। जानिए, गर्भवती महिलाओं को डाइट में कौन सी चीजें शामिल करनी चाहिए...

  • फोलिक एसिड

प्रेग्नेंसी के दौरान महिला को अपनी डाइट में फोलिक एसिड का भरपूर सेवन करना चाहिए। इसके लिए आप पालक, हरी सब्जियां खा सकते हैं। फोलिक एसिड लाल रक्त कोशिकाओं को बनाती है और बच्चे में जन्मजात बीमारियों का खतरा घटाती है।

  • आयरन

प्रेग्नेंट महिला को अपने खाने में आयरन शामिल करना भी जरूरी है। इसके लिए आप पालक, गुड़, मूंगफली, मैथी, बथुआ, ब्रॉकली, तरबूज, सोयाबीन, हरे मटर आदि का सेवन कर सकते हैं। खाने में आयरन शामिल करना इसलिए जरूरी है, क्योंकि इसकी कमी होने पर महिला एनीमिक हो सकती है।

  • कैल्शियम

बच्चों की हड्डियों और दांतों के विकास के लिए कैल्शियम काफी जरूरी है। प्रेग्नेंसी के दौरान महिला को अपने खाने में दूध, पनीर, छेना आदि शामिल करना चाहिए।

  • प्रोटीन

डॉक्टर भी प्रेग्नेंट महिला को ज्यादा से ज्यादा प्रोटीन बेस्ड डाइट लेने की सलाह देते हैं। यह हाई रिस्क प्रेग्नेंसी फैक्टर और महिला की शारीरिक कमजोरी को दूर करता है। ऐसे में आप दालें, दूध, दही, अंडा, मूंगफली, पनीर खा सकते हैं।

  • विटामिंस

विटामिन मां और बच्चे दोनों को कई समस्याओं से दूर रखने में काफी मददगार होता है। ऐसे में इस दौरान मौसमी सब्जियां, फल और दूध, विटामिन-ए, ई, बी6 आदि का सेवन जरूर करें।

ये 5 बातों का रखें ध्यान

  • प्रेग्नेंसी में मॉर्निंग वॉक और योग जैसी हल्की एक्सरसाइज कर सकती हैं। अगर आपको अस्थमा, हार्ट डिजीज, डायबिटीज, ब्लीडिंग या अन्य समस्याएं हैं, तो एक्सरसाइज करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
  • अक्सर पहली डिलीवरी के दौरान ब्लड में हीमोग्लोबिन की कमी, ब्लड प्रेशर में उतार-चढ़ाव, किडनी से जुड़ी समस्या जैसी कई दिक्कतें सामने आती हैं, इसलिए प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले डॉक्टरी सलाह जरूर लें।
  • ब्लड में हीमोग्लोबिन का स्तर सामान्य (10-12) से कम होने पर एनीमिया की शिकायत होती है। ऐसे में आयरन युक्त चीजों को भोजन में शामिल कर इसे सामान्य बनाया जा सकता है।
  • स्वस्थ इंसान का ब्लड प्रेशर 140/90 होना चाहिए। अगर इसमें मामूली उतार-चढ़ाव हो तो तनाव से दूर रहें और खान-पान का ध्यान रखें। फिर भी कंट्रोल न हो तो डॉक्टर से सलाह लें।
  • प्रेग्नेंसी से पहले ब्लड टेस्ट, यूरिन टेस्ट और दूसरी सामान्य जांचें कराना जरूरी है। ऐसे में अगर कोई दिक्कत सामने आती है तो डॉक्टर के बताए मुताबिक एहतियात बरतें।

नोट- प्रेग्‍नेंसी के दौरान कोई भी चीज अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

खबरें और भी हैं...