• Hindi News
  • Women
  • Rishtey
  • Couples Live More Than Single People, Happy Hormones Increase Immunity, Also Reduce Pain

उम्र बढ़ाता है पार्टनर का प्यार:सिंगल लोगों के मुकाबले ज्यादा जीते हैं कपल, हैप्पी हार्मोन बढ़ाते हैं इम्यूनिटी, दर्द भी करते हैं कम

नई दिल्ली5 महीने पहलेलेखक: ऐश्वर्या शर्मा
  • कॉपी लिंक

कहते हैं प्यार में बड़ी ताकत होती है। यह हर मर्ज की दवा होती है। जब कपल एक-दूसरे के साथ खुश रहते हैं तो बड़ी से बड़ी मुसीबत भी छोटी लगने लगती है।

वहीं, अगर कोई पार्टनर बीमार पड़ जाए तो दूसरा उसकी मेडिसिन बन जाता है। हाल ही में चीन में एक शोध हुआ जिसमें पाया गया कि पेट के कैंसर से जूझ मरीज अगर खुशहाल शादीशुदा रिश्ते में हैं तो वो सिंगल लोगों के मुकाबले ज्यादा जीते हैं।

72% शादीशुदा पुरुष और महिलाओं की बढ़ी सांसें

चीन की अनहुई मेडिकल यूनिवर्सिटी में एक स्टडी हुई। इसमें 2010-2015 के बीच पेट के कैंसर से जूझ रहे 3600 लोगों पर स्टडी की गई। इन मरीजों की ठीक होने की दर को उम्र, ट्यूमर के साइज और उनके सिंगल या शादीशुदा होने के पैमाने से नापा गया। चीन के वैज्ञानिकों ने पाया कि 72% शादीशुदा पुरुष और महिलाएं कैंसर मिलने के बाद भी लंबे समय तक जिंदा रहे। जबकि सिंगल लोगों के साथ ऐसा नहीं हुआ।

इस स्टडी में यह भी पाया गया कि महिलाओं की जिंदगी पुरुषों के मुकाबले ज्यादा होती है। दरअसल कपल्स एक-दूसरों को इमोशनल सपोर्ट करते हैं जो एक दवा का काम भी करता है।

कुछ हार्मोन दूर कर देते हैं टेंशन

उदयपुर स्थित जीबीएच अमेरिकन हॉस्पिटल के पैड्रिएटक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट डॉक्टर विनोद बोकाडिया ने बताया कि इंसान के दिमाग में न्यूरोट्रांसमीटर होते हैं जो इमोशन को कंट्रोल करते हैं। जब किसी व्यक्ति को टेंशन होती है तो स्ट्रेस लेवल बढ़ता है और लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियां घेरने लगती हैं जैसे डायबिटीज, ब्लडप्रेशर, कॉलेस्ट्रोल, मोटापा।

जब कपल के बीच प्यार हो, कोई मनमुटाव न हो तो वह आपस में खुश रहते हैं। इससे हैप्पी हार्मोन रिलीज होते हैं। डोपामाइन और एडेनोसाइन स्ट्रेस को कम करते हैं। ऐसे में अगर इंसान बीमार पड़ जाए और पार्टनर उनका ख्याल रखें तो बीमारी का असर कम होने लगता है।

लंबे समय तक साथ रहने पर बनता है हीलिंग रिलेशनशिप

काउंसलर गीतांजलि शर्मा ने बताया कि अगर हसबैंड-वाइफ का रिश्ता खुशहाल है तो उनमें हीलिंग रिलेशनशिप बन जाता है। एक को तकलीफ हो तो दूसरा उसे दूर करने का हर संभव प्रयास करता है।

यह कनेक्शन तभी बनता है जब रिश्ते में भरोसा, ईमानदारी, प्यार और सब्र हो। जब 2 लोग लंबे समय से एक साथ रहते हैं तो उनमें यह रिलेशनशिप बनता है।

यूएन नेशनल हेल्थ इंटरव्यू सर्वे के अनुसार खुशहाल शादीशुदा लोग सिंगल इंसान की तुलना में 58% ज्यादा जीते हैं।
यूएन नेशनल हेल्थ इंटरव्यू सर्वे के अनुसार खुशहाल शादीशुदा लोग सिंगल इंसान की तुलना में 58% ज्यादा जीते हैं।

पति का हाथ थामा तो कम लगा शॉक

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन के अनुसार लंबे समय से एक साथ रह रहे कपल एक-दूसरे का दर्द भी कंट्रोल करते हैं।

यह स्टडी 1 लाख से ज्यादा सिंगल और मैरिड कपल पर हुई। इन सभी को सिरदर्द और पीठ दर्द की समस्या थी। इसमें शादीशुदा लोगों पर दर्द का असर कम देखा गया।

वहीं, साइकोलॉजिकल साइंस में छपी स्टडी के अनुसार 16 शादीशुदा महिलाओं को इलेक्ट्रिक शॉक दिया गया। जिन महिलाओं ने अपने पति का हाथ पकड़ा हुआ था उनके दिमाग पर शॉक का असर कम दिखा।

पॉजिटिव रिश्ते में दोगुनी तेजी से ठीक होती है चोट

कपल के बीच पॉजिटिव रिलेशनशिप घाव को जल्दी ठीक करता है। यह ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर की रिसर्च में पाई गई। जिसे आर्काइव्स ऑफ जनरल साइकाइट्री में छापा गया। इसमें पाया गया कि जो कपल एक-दूसरे के साथ खुश हैं तो उनकी चोट दूसरे लोगों के मुकाबले दोगुना तेजी से ठीक होती है।

जब इंसान अपने पार्टनर से खुश रहता है तो उनकी इम्यूनिटी भी बढ़ती है। शरीर में ऑक्सीटोसिन हार्मोन का लेवल बढ़ने से स्ट्रेस कम होता है और दुख, दर्द, डिप्रेशन सब दूर हो जाता है।
जब इंसान अपने पार्टनर से खुश रहता है तो उनकी इम्यूनिटी भी बढ़ती है। शरीर में ऑक्सीटोसिन हार्मोन का लेवल बढ़ने से स्ट्रेस कम होता है और दुख, दर्द, डिप्रेशन सब दूर हो जाता है।

डॉक्टर के पास कम जाते हैं कपल

अमेरिका के स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग ने शादी और सेहत पर स्टडी की। इसमें पाया गया कि शादीशुदा लोग डॉक्टर के पास कम जाते हैं। इसके पीछे यह तर्क दिया गया कि जब 2 लोगों के बीच खुशहाल रिश्ता होता है तो वह अपना और अपने पार्टनर का ख्याल रखते हैं।

इसमें यह भी कहा गया कि खुशहाल दांपत्य जीवन महिला और पुरुषों को डिप्रेशन से दूर रखता है। कपल का ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है।

खबरें और भी हैं...