सोशल मीडिया वाली बहू:फेसबुक देखकर जांची-परखी जा रहीं लड़कियां, प्रेशर में बना रहीं फेक प्रोफाइल

2 महीने पहलेलेखक: कमला बडोनी
  • कॉपी लिंक

शादी की बात शुरू होते ही सबसे पहले लड़की का सोशल मीडिया स्टेटस खंगाला जाता है और देखा जाता है कि लड़की की लाइफस्टाइल कैसी है, कैसे लोगों के साथ उठना-बैठना, लड़कों से कितनी दोस्ती है, जब अच्छी बहू की कसौटी पर वो खरी उतरती है, तब रिश्ते की बात आगे बढ़ाई जाती है। यही वजह है कि शादी की बात चलते ही लड़कियां सबसे पहले अपना सोशल मीडिया प्रोफाइल एडिट करती हैं और ऐसी सभी तस्वीरों को डिलीट कर देती हैं, जिनसे उसकी शादी में दिक्कत आ सकती है।

सोशल मीडिया प्रोफाइल देखकर लड़की को जज किया जाता है

चेन्नई की CA अंतरा अनुराग ने अपने भाई के रिश्ते की बात बताते हुए कहा, “मेरे भाई के लिए एक लड़की की बात चल रही थी। लड़की के बारे में जानने के लिए घरवालों ने भाई को सोशल मीडिया पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजने के लिए कहा। जब भाई ने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी, तो लड़की ने प्रोफाइल पर हेलोवीन का वीडियो लगाया हुआ था, जिसमें वो चारों हाथ-पैर से चलते हुए आती है और फिर स्क्रीन पर उसका डरावना चेहरा फ्लैश होता है। जब भाई ने हमें उसका प्रोफाइल बताया तो सब हंस पड़े और शादी की बात वहीं पर रुक गई। लड़की का प्रोफाइल देखकर घर के युवाओं का कहना था कि लड़की बहुत क्रिएटिव है, लेकिन बड़ों ने कहा, ये सब सोशल मीडिया पर करने की क्या जरूरत है। सबने अपने हिसाब से लड़की को जज किया और फाइनली शादी की बात आगे नहीं बढ़ सकी।”

फेक प्रोफाइल लड़कियों को झूठ बोलना सिखा रहा है

मुंबई की साइकोलॉजिस्ट और हेल्थ काउंसलर नम्रता जैन ये मानती हैं कि पेरेंट्स को बच्चों की भावनाओं को समझना चाहिए। वो कहती हैं, “लड़कियों के पेरेंट्स उन पर ये दबाव बनाते हैं कि वो सोशल मीडिया पर ऐसा कुछ शेयर न करें, जिससे उसकी शादी में दिक्कत आए। इस प्रेशर से बचने के लिए लड़कियां सोशल मीडिया पर फेक प्रोफाइल बनाती हैं और जब वो अपनी फेक आइडेंटिटी से मशहूर होने लगती हैं, तो उन्हें इस झूठ को जीने में खुशी मिलने लगती है। फिर वो पर्सनल लाइफ में भी ऐसे ही झूठ बोलने लगती हैं और उनकी असल पर्सनैलिटी गुम होने लगती है। यूथ को इस झूठ से बचाने के लिए पेरेंट्स को उन पर विश्वास करना चाहिए और उन्हें अच्छे-बुरे का फर्क बताकर उचित छूट भी देनी चाहिए, ताकि वो आपसे अपनी हर बात खुलकर कह सकें।

शादी के समय सोशल मीडिया प्रोफाइल लॉक करना पड़ा

जयपुर की सरिता भंडारी अपनी शादी की बात बताते हुए कहा, “जब मेरी शादी की बात चल रही थी, तो मेरे पेरेंट्स और भाई ने मुझे अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल से कई फोटो हटाने को कहा, उनका कहना था कि ऐसी फोटोज से मेरी शादी में रुकावट आ सकती हैं। उनके कहने पर मुझे अपने ऑफिस पार्टी, फ्रेंड्स के साथ की कई फोटो हाइड करनी पड़ी, कुछ समय के लिए अपना सोशल मीडिया प्रोफाइल लॉक करना पड़ा। शादी के बाद भी एक-डेढ़ साल तक मैं सोशल मीडिया में बहुत कम एक्टिव रहती थी। अभी हाल ही में मेरे देवर की शादी की बात चल रही थी। जब देवर ने लड़की का सोशल मीडिया प्रोफाइल देखा, तो उसने फ्रेंड्स के साथ पब-पार्टी की फोटोज शेयर की थी। मेरे देवर को ये सब अच्छा नहीं लगा और उसने शादी के लिए मना कर दिया। “

पेरेंट्स को बच्चों की चिंता रहती है

मुंबई की रिलेशनशिप काउंसलर माधवी सेठ ने एक केस स्टडी का जिक्र किया और बताया कि एक मां अपनी फैशन डिजाइनर बेटी की चिंता में उनके पास आई। बेटी को इंस्टाग्राम पर फोटो और वीडियो शेयर करने की ऐसी लत लग गई कि इसके लिए वो बजट से बाहर पैसे खर्च करने लगी। पैसे कम पड़ते तो मां से पैसे मांगकर अपने लिए कपड़े, जूते, बैग खरीदकर उन्हें पहनकर अपनी फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करती। माधवी सेठ कहती हैं, "उस मां ने बताया कि उनकी बेटी को लाइक्स और फॉलोवर्स बढ़ाने का ऐसा जुनून है कि इसके लिए वो फ्रेंड्स से कपड़े मांगकर पहनती है और फिर अपनी फोटोज सोशल मीडिया पर शेयर करती है। उस मां की चिंता ये है कि बेटी बहुत बोल्ड फोटो शेयर करती है और इससे उसकी इमेज खराब हो सकती है। सोशल मीडिया पर फॉलोवर्स बढ़ाने के लिए लड़कियां कई बार बहुत बोल्ड पिक्चर्स शेयर करती हैं, जिससे पेरेंट्स की चिंता बढ़ जाती है।

सोशल मीडिया पर कई युवा लडकियां अपने करियर को नई उड़ान दे रही हैं, ऑनलाइन बिजनेस शुरू कर रही हैं, वहीं ऐसी भी लडकियां हैं जो सोशल मीडिया पर फॉलोवर्स बढ़ाने, ज्यादा से ज्यादा लाइक्स, कमेंट्स पाने और वायरल होने के लिए अपना बहुत सारा समय बर्बाद कर रही हैं। इसका असर उनकी शादी पर भी पड़ रहा है। सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा एक्टिव लड़कियों को घर की बहू बनाने में लड़के वालों की हिचक बरकरार है और लडकियां भी शादी तय होने के दौरान सोशल मीडिया से दूरी बना रही हैं।

खबरें और भी हैं...