पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Women
  • Rishtey
  • Gone Are The Days When Love Was On Guard, Nowadays Love Is Reflected In The Window Of Dating Apps

लव आजकल:गए वो जमाने जब प्यार पर थे पहरे हजार, अब डेटिंग ऐप्स की खिड़की से झलकता प्यार

4 दिन पहलेलेखक: गीतांजली
  • कॉपी लिंक
  • कब शुरू हुई दुनिया की पहली डेटिंग साइट
  • एक क्लिक और मिल गया पार्टनर, क्या यह वाकई इतना आसान है?

कुछ साल पहले तक पहली मुलाकात इतनी आसान नहीं हुआ करती थी। लड़कियों पर कई बंदिशें लगती लेकिन अब है इस्टेंट डेटिंग का कल्चर। मोबाइल पर एक क्लिक और आपका दोस्त आपकी आंखों के सामने।

कब शुरू हुआ डेटिंग साइट का ट्रेंड :

साल 1995 में मैच.कॉम से इस ट्रेंड की शुरूआत हुई। उसके बाद टिंडर, बम्बल, मीट मी जैसे डेटिंग ऐप का सिलसिला बढ़ता चला गया।

फॉलो करें ये ऑनलाइन डेटिंग टिप्स

1. स्मार्ट प्रोफाइल पिक्चर बनाएं

2. रियल डेट से पहले ऑनलाइन चैटिंग करें

3. इंसान को पहचानने की कोशिश करें

4. क्वालिफिकेशन, उम्र और रिलेशनशिप के बारे में सही से सर्च करें।

5. चीटिंग से बचें

इन डेटिंग टिप्स के जरिए बनाए पहली मुलाकात को स्पेशल

1. रोमांटिक जगह चुनें।

2. अपने लुक को बनाएं एट्रेक्टिव

3. कॉन्फिडेंट और रिलैक्स दिखें व रहें।

4.अपने पार्टनर को कम्फर्टेबल फील कराएं।

5. मैनरर्स व एटीकेट्स न भूलें।

6. मिलने पर फूल या गिफ्ट देना ना भूलें।

डेटिंग ऐप्स जो हैं ट्रेंड में:

टिंडर, ओकेक्यूपिड, थ्रिल, वू, मैडली, मैच डॉटकॉम, गो गागा, मोको, हिंज, ग्रिंडर कुछ ऐसे ऐप्स हैं जो आजकल काफी ट्रेंड में हैं।

रिलेशनशिप काउंसलर 'बिंदा सिन्हा
रिलेशनशिप काउंसलर 'बिंदा सिन्हा

एक क्लिक की दोस्ती पर रिलेशनशिप काउंसलर ‘बिंदा सिन्हा’ ने दी अपनी राय

रिलेशनशिप काउंसलर ‘बिंदा सिन्हा इन ऑनलाइन डेटिंग ऐप्स के जरिए बनने वाले रिश्तों पर कहती हैं कि दुनिया में कोई भी चीज बुरी नहीं होती, लेकिन हम उसका उपयोग किस तरीके से कर रहे हैं यह बहुत मायने रखता है। उन्होंने कहा कि यूथ आज फैंटसी वर्ल्ड में जी रहे हैं। उम्र कम होने की वजह से उन्हें सही- गलत का पता नहीं होता और वे ऐसे साइबर क्राइम का शिकार हो जाते हैं जिससे निकलना कभी- कभी उनके लिए बेहद मुश्किल हो जाता है। उनके पास 90% ऐसे ही केसेज आते हैं जिनमें डेटिंग ऐप्स के जरिए पहले यूथ डेटिंग और चैटिंग करते हैं और अगले पड़ाव पर धोखे का शिकार होते हैं। तब शुरू होता है डिप्रेशन का दौर। सच्चे दोस्त की तलाश उन्हें खुद से ही दूर कर रही है। जो चीज जैसी दिखती है वैसी होती नहीं इसलिए उन्होंने इन डेटिंग ऐप्स के यूज के साथ ही इसके सेफ्टी मेजर्स की बात पर जोर दिया है। प्रोफाइल पिक सिंगल लगाने के बजाय उन्होंने ग्रुप में लगाने की बात कही, ताकि पिक्चर्स के साथ होने वाली छेड़छाड़ से बचा जा सके। इस पूरे मामले में उन्होंने परिवार के रोल को भी अहम बताया है। उनका कहना है कि पैरेंट्स का अपने बच्चों के साथ दोस्ताना व्यवहार जरूरी है। बढ़ती उम्र में बहुत जरूरी है कि उनसे हर मसले पर खुलकर बात की जाए। आज की इस दौड़ती-भागती जिंदगी में फैमली सपोर्ट से बढ़कर कुछ भी नहीं।

इंस्टेंट प्यार को लेकर क्या सोचता है यूथ

इस इंस्टेंट प्यार को लेकर क्या सोचता है यूथ? उनके लिए ये राह कितनी आसान है, जानने के लिए हमने बात की कुछ ऐसे युवाओं से, जो इन डेटिंग ऐप्स को फॉलो करते हैं।

‘DU की स्टूडेंट श्रेया ने कहा कि कोरोना के इन मुश्किल दिनों में उनके लिए ऑनलाइन डेटिंग बहुत हेल्पफुल रही, क्योंकि इस समय किसी से मिलना इतना आसान नहीं। घर बैठे-बैठे दोस्तों की कमी खलने लगी थी।

ऐसे समय में नए लोगों से मिलना, प्यार भरी बातें करना काफी इंट्रेस्टिंग रहा। उनका कहना है कि ऑनलाइन डेटिंग- चैटिंग ने उनकी बोरिंग लाइफ को काफी हैपनिंग बना दिया।

अच्छे कमेंट्स के साथ-साथ ऑनलाइन डेटिंग को लेकर कुछ नेगेटिव कमेंट्स भी सामने आए। इंस्टा संसेशन ‘तन्वी शर्मा’ ने कहा कि ऐप की यह दुनिया बहुत आसान है, लेकिन एक सच यह भी है कि यहां आप किसी पर भरोसा नहीं कर सकते। आजकल फेक प्रोफाइल बनाना काफी आसान है। लोग यहां फेक आईडी बनाकर झूठे प्यार का वादा कर फंसाने की कोशिश करते हैं इसलिए सर्तक रहना जरूरी है।

दिल्ली की मल्टी नेशनल कंपनी में काम करने वाली श्रेया अग्रवाल पिछले एक साल से टिंडर यूज कर रही हैं। उन्होंने कहा, “डेटिंग ऐप का यूज काफी आसान है। इन ऐप्स पर बस खुद की डीटेल्स डालनी होती है। अपना इंट्रेस्ट बताना होता है। इन ऐप्स की सबसे अच्छी बात यह है कि ये यूजर फ्रेंडली हैं और आपके इंट्रेस्ट जोन के लोगों से ही आपको मिलवाते हैं।

पटना की बैंकर ‘नेहा शर्मा’ इन डेटिंग ऐप्स पर पिछले दो सालों से एक्टिव हैं। नए- नए लोगों के साथ दोस्ती करना, उन्हें काफी पसंद है। उनकी इन डेटिंग ऐप्स के बारे में राय है कि इन्हें मैरिज बॉउंडेशन की सीमा में न बांधे। ऐप्स के जरिए की गई डेटिंग सिर्फ एक-दूसरे को जानने, समझने और एक्सप्लोर करने के लिए करें। साथ ही डेटिंग-चैटिंग के दौरान पार्टनर से अपनी इच्छा और जरूरतों के बारे में खुलकर बताएं।

खबरें और भी हैं...