• Hindi News
  • Women
  • Rishtey
  • In A Revenge Relationship, The Hatred Of One Partner Has To Be Faced By The Other, Then The Extra Marital Affair Starts.

बदले का रिश्ता:रिवेंज रिलेशनशिप में एक पार्टनर की नफरत दूसरे को झेलनी पड़ती है, फिर शुरू होता है एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर

5 महीने पहलेलेखक: कमला बडोनी
  • कॉपी लिंक

हिंदी फिल्मों की तरह हर शादी के बाद हैप्पी एंडिंग हो ये जरूरी नहीं, रियल लाइफ में असली प्रॉब्लम शादी के बाद शुरू होती है, खासकर शादी अगर एक्स से रिवेंज लेने के लिए की गई हो। रिवेंज रिलेशनशिप का अंजाम क्या होता है, इसके बारे में बता रही हैं रिलेशनशिप काउंसलर माधवी सेठ।

शादी के बाद भी कपल एक्स को भूल नहीं पाते
शादी के बाद भी कपल एक्स को भूल नहीं पाते

दिल पे पत्थर रख के मुंह पे मेकअप कर लिया, मेरे सैयां जी से आज मैंने ब्रेकअप कर लिया... ‘ऐ दिल है मुश्किल’ फिल्म के इस मशहूर गाने की तर्ज पर आज के कई कपल्स आनन-फानन में ब्रेकअप तो कर लेते हैं और लाइफ में ‘मूव ऑन’ भी कर जाते हैं, लेकिन उनका अगला रिश्ता प्यार का नहीं, रिवेंज का होता है। इस रिवेंज रिलेशनशिप में एक पार्टनर की नफरत दूसरे को झेलनी पड़ती है। अपने एक्स को सबक सिखाने के लिए वो किसी और से शादी तो कर लेते हैं, लेकिन उनका दिल एक्स के पास ही अटका रहता है।

एक्स को भूल नहीं पाते

रिलेशनशिप काउंसलर माधवी सेठ कहती हैं, “आज के युवा अपने पुराने रिश्ते को पार्टनर से छुपाते नहीं हैं। शादी करने से पहले ही वो अपने एक्स के बारे में पार्टनर को सबकुछ बता देते हैं। अफेयर और ब्रेकअप आज के युवाओं के लिए आम बात है। दोनों को इससे कोई प्रॉब्लम नहीं होती, लेकिन आगे चलकर यदि इनके रिश्ते में खटास आती है, तो इनके एक्स के पास फिर से लौट जाने की पूरी संभावना होती है। ऐसे रिश्ते में कपल बार-बार पार्टनर की तुलना अपने एक्स से करते हैं और जब उन्हें कोई कमी नजर आती है या रिश्ते में अनबन होने लगती है, तो वे एक्स के पास जाने को आतुर हो जाते हैं। इस स्थिति में एक्स के साथ इनके एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर होने की संभावना बढ़ जाती है। फिर उन्हें अपने नए रिश्ते से ब्रेकअप की तलब उठने लगती है। ऐसे में कुछ लोग अपने दोनों रिश्तों को एक साथ निभाते हैं और कुछ की शादी टूट जाती है।

बढ़ने लगे हैं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर

पहले के लोग ऐसे नहीं थे। पहले यदि किसी की अपने प्यार से शादी नहीं हो पाती थी, तो शादी के बाद वो उससे कोई रिश्ता नहीं रखता था। एक बार शादी कर ली, तो लोग उसे जिंदगी भर निभाते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है। आज के युवा अफेयर की तरह ही शादी से भी ‘मूव ऑन’ कर जाते हैं, जिससे चार जिंदगियों और दो परिवारों की तकलीफें बढ़ जाती हैं।

शादी के बाद एक्स से फिर मिलने लगते हैं और एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर शुरू हो जाता है
शादी के बाद एक्स से फिर मिलने लगते हैं और एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर शुरू हो जाता है

ऐसे बनता है रिवेंज का रिश्ता

काउंसलर माधवी के अनुसार, कई केसेस में ऐसा भी होता है कि पति के अफेयर की बात पता चलने पर पत्नी का झुकाव भी किसी अन्य पुरुष की तरफ बढ़ जाता है और दोनों के बीच दरार बढ़ने लगती है। ऐसे रिश्तों में सबसे ज्यादा नुकसान बच्चों का होता है। पेरेंट्स अपनी अनबन में उलझे रहते हैं और बच्चों पर ध्यान नहीं देते। ऐसे बच्चे आगे चलकर किसी पर विश्वास नहीं कर पाते। कई केसेस में ऐसा भी होता है कि पत्नी के अफेयर की बात पता चलने पर पुरुष का महिलाओं पर से विश्वास उठ जाता है, फिर वो किसी भी महिला पर विश्वास नहीं कर पाता।

शादियां टूटने लगी हैं

काउंसलर माधवी सेठ ने बताया, “मेरे पास एक महिला आई थी, जिसे अपने पति से कोई शिकायत नहीं थी, लेकिन उसके परिवार की दखलंदाजी उसे पसंद नहीं थी। जब बात बहुत बढ़ने लगी, तो घर से दूर रहने के लिए वो फिर से अपने एक्स से मिलने लगी। जब एक्स के साथ उसका झुकाव ज्यादा बढ़ने लगा, तो उसे अपराधबोध होने लगा। अपनी बात वो किसी से कह नहीं सकती थी इसलिए वो मेरे पास आई। मैंने उसे समझाया कि तुम्हारा एक्स भी शादीशुदा है, उससे शादी करने के लिए तुम दो घर और चार जिंदगियां खराब करोगी। क्या तुम इसके लिए तैयार हो? पति को खबर भी नहीं थी कि बीवी की जिंदगी में क्या चल रहा है। उसने खुद बताया कि एक्स भी उससे शादी नहीं कर पाएगा, क्योंकि इससे उसके बच्चों के भविष्य पर असर पड़ेगा। काउंसलिंग के बाद उसे समझ आ गया कि शादी तोड़ना उसके लिए सही फैसला नहीं है। कई युवा जल्दबाजी में गलत फैसला तो कर लेते हैं, लेकिन उसके नतीजे के बारे में नहीं सोचते।

दिल का रिश्ता बार-बार दस्तक देता है
दिल का रिश्ता बार-बार दस्तक देता है

रिश्ता तोड़ने से पहले सोचें

आज के युवा बहुत प्रैक्टिकल हैं, वो रिश्तों में भी नफा-नुकसान देखते हैं और अपना फायदा न दिखने पर रिश्ता तोड़ने में जरा भी देर नहीं लगाते। इसी वजह से तलाक के मामले बढ़ने लगे हैं। रिश्तों की उम्र बढ़ाने के लिए पेरेंट्स को अपने बच्चों के सामने अच्छे उदाहरण प्रस्तुत करने होंगे। उन्हें शादी और परिवार का महत्व समझाना होगा। शादी तोड़ने से पहले उससे होने वाले नुकसान के बारे में सोचना जरूरी है। अब रिश्तों की काउंसलिंग जरूरी हो गई है, वरना बेवजह शादियां टूटती रहेंगी और हासिल कुछ नहीं होगा।