पति में हिस्सेदारी रास नहीं आई, पत्नी ने फांसी लगाई:कोर्ट ने 'मेरा पति सिर्फ मेरा है' की सोच को ठहराया सही

नई दिल्ली3 महीने पहलेलेखक: निशा सिन्हा
  • कॉपी लिंक

कुछ दिन पहले ही इलाहाबाद उच्च न्यायालय में आए एक मामले की सुनवाई के दौरान जज का आदेश था, "भारतीय पत्नी अपने पति को साझा नहीं करना चाहती है। उनके लिए यह बेहद संवेदनशील मामला होता है।"

महिला के मुकाबले पुरुष के अधिक अपोजिट सेक्स सेक्शुअल पार्टनर्स क्यों ? विषय पर हुए एक ब्रिटिश नेशनल प्रोबैबिलिटी सर्वे के अनुसार महिलाएं कैजुअल इंटीमेट रिलेशनशिप को लेकर रूढ़िवादी सोच रखती हैं। वे विवाहित स्त्री-पुरुष को अपने साथी को छोड़कर किसी और के साथ शारीरिक संबंध रखने को गलत मानती हैं।
महिला के मुकाबले पुरुष के अधिक अपोजिट सेक्स सेक्शुअल पार्टनर्स क्यों ? विषय पर हुए एक ब्रिटिश नेशनल प्रोबैबिलिटी सर्वे के अनुसार महिलाएं कैजुअल इंटीमेट रिलेशनशिप को लेकर रूढ़िवादी सोच रखती हैं। वे विवाहित स्त्री-पुरुष को अपने साथी को छोड़कर किसी और के साथ शारीरिक संबंध रखने को गलत मानती हैं।

क्या था मामला
याची सुशील कुमार की पत्नी ने उस समय फांसी लगा ली जब उसे पता चला कि उसका पति पहले से शादीशुदा था और एक और शादी करने जा रहा था। बनारस के मडुवाडीह थाने में यह मामला दर्ज किया गया। इसमें पति के ऊपर पत्नी को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगा। बाद में यह मामला निचली अदालत में गया, जहां पति को दाेषी ठहराया गया। निचली अदालत के इस निर्णय को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी सही माना।

यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा में हुए अध्ययन के अनुसार, शॉर्ट टाइम रिलेशनशिप में व्यक्ति के हेल्थ इश्यू, उससे आने वाली दुर्गंध, हाइजीन को लेकर लापरवाही, शादी को छिपाना और सेक्शुअल संबंधों में नाकामी को डीलब्रेकर माना गया। रिलेशनशिप डीलब्रेकर्स (रिश्ते को तोड़नेवाली चीजें) को लेकर हुई स्टडी में इसका खुलासा हुआ।
यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा में हुए अध्ययन के अनुसार, शॉर्ट टाइम रिलेशनशिप में व्यक्ति के हेल्थ इश्यू, उससे आने वाली दुर्गंध, हाइजीन को लेकर लापरवाही, शादी को छिपाना और सेक्शुअल संबंधों में नाकामी को डीलब्रेकर माना गया। रिलेशनशिप डीलब्रेकर्स (रिश्ते को तोड़नेवाली चीजें) को लेकर हुई स्टडी में इसका खुलासा हुआ।

अदालत का आदेश
इस मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि भारतीय महिलाएं अपने पति को लेकर बेहद संवेदनशील होती हैं। वह उसे किसी और के साथ साझा नहीं करना चाहती। अगर उसे यह पता चल जाए कि उसका पति पहले से शादीशुदा है और तीसरी शादी भी कर रहा है, तो उससे समझदारी दिखाने की उम्मीद करना बेमानी होगा।

कोर्ट ने यह भी कहा कि पत्नी का यह आरोप कि ‘पति पहले से विवाहित है, उसके 2 बच्चे हैं और अब बिना डिवोर्स दिए उसने तीसरी शादी कर रहा है। इसके अलावा महिला के साथ मारपीट हुई। उसे मानसिक प्रताड़ना का सामना करना पड़ा। ये सब वजहें ही सजा दिलाने के लिए काफी है।

सुप्रीम कोर्ट के एडवोकेट निपुण सक्सेना के अनुसार, “कानून में एडल्टरी (विवाहेतर संबंध) को बेवफाई माना गया है। भारतीय दंड संहिता में इसे दंडनीय अपराध माना जाता था लेकिन यह कानून स्त्री और पुरुष के बीच में भेद करता हुआ पाया गया इसलिए जोसेफ शाइन वर्सेज यूनियन ऑफ इंडिया के मामले में इस प्रावधान को असंवैधानिक करार कर दिया गया।
पति का किसी और के साथ संबंध मानसिक उत्पीड़न के दायरे में आता है। यह तलाक लेने का आधार होता है। यही स्थिति पत्नी के साथ भी लागू होती है। बीवी की बेवफाई साबित होने पर पति को तलाक मिल सकता है, हालांकि गैर मर्द के साथ संबंध को दंडनीय अपराध नहीं माना जाएगा।

पत्नी कब बेवफा
वर्तमान कानून के अनुसार पत्नी किसी और के साथ शारीरिक संबंध बनाए, तो यह बेवफाई मानी जाएगी। यह दंडनीय अपराध नहीं है पर इसके आधार पर तलाक की याचिका दायर की जा सकती है। हिंदू मैरिज में पत्नी के साथ किसी भी तरह की बेवफाई का मामला होने पर एडल्ट्री के आधार पर तलाक दिया जा सकता है। पति भी अगर पत्नी को शादी के बाहर संबंधों में लिप्त पाता है, तो वह तलाक मांग सकता है लेकिन

अगर यह साबित हो जाता है कि पति ही पत्नी को ऐसे संबंधों को बनाने के लिए विवश कर रहा है, तो इसे एडल्ट्री या बेवफ़ाई नहीं मानी जाएगी। एडवोकेट निपुण सक्सेना के अनुसार, पति अगर जानबूझकर पत्नी को किसी के साथ सोने को कह रहा है, तो इस मामले में स्त्री को विवाहेत्तर संबंध का दोषी नहीं माना जा सकता है लेकिन अगर पति के संबंधों के कारण पत्नी को मानसिक प्रताड़ना झेलनी पड़ती है।

द जर्नल ऑफ सोशल साइकोलॉजी के अनुसार महिलाओं की तुलना में पुरुष जल्दी प्यार में पड़ते हैं और वे अपनी भावनाओं का जल्दी इजहार करते हैं। 172 स्टूडेंट को लेकर किया गया यह अध्ययन साबित करता है कि यह एक समाजिक धारणा है कि दिल के मामले में महिलाएं भोली होती है।
द जर्नल ऑफ सोशल साइकोलॉजी के अनुसार महिलाओं की तुलना में पुरुष जल्दी प्यार में पड़ते हैं और वे अपनी भावनाओं का जल्दी इजहार करते हैं। 172 स्टूडेंट को लेकर किया गया यह अध्ययन साबित करता है कि यह एक समाजिक धारणा है कि दिल के मामले में महिलाएं भोली होती है।

क्या पत्नी भी सजा की हकदार
फ्लोरिडा स्टेट यूनिवर्सिटी की स्टडी के अनुसार
कई लोगों के शादीशुदा जीवन में खुशियां ही खुशियां होती है लेकिन एक अनुमान के अनुसार सौ में से 25 लड़के और 100 में से 20 लड़कियां एक्सट्रामैरिटल सेक्स में लिप्त हैं।
किसी मामले में अगर पति साबित कर देता है कि पत्नी के विवाहेत्तर संबंध की वजह से वह मेंटल ट्रॉमा में रहा और इस वजह से सुसाइड करने के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं बचा है। वह सुसाइड नोट में यह सब लिखकर मरता है, तो पत्नी को धारा 306 के तहत सजा होगी।