मां के अफेयर ने बिगाड़ी बेटे की दिमागी हालत:छुपकर पढ़ता था मैसेज, जब नफरत बढ़ी तो उठाया सख्त कदम

4 महीने पहलेलेखक: कमला बडोनी
  • कॉपी लिंक

टीनेजर के खुद अपने अफेयर की उम्र में जब उन्हें पता चलता है कि माता-पिता का रोमांस किसी और के साथ चल रहा है, तो उनकी मानसिक स्थिति क्या होती है? पेरेंट्स के साथ उनके रिश्ते कैसे हो जाते हैं? माता-पिता के प्रेम प्रसंग का टीनेजर पर क्या साइड इफेक्ट होता है, इसके बारे में बता रही हैं साइकोलॉजिस्ट और हेल्थ काउंसलर नम्रता जैन।

पेरेंट्स का अफेयर टीनेजर को कंफ्यूज कर देता है। उन्हें समझ नहीं आता कि जब अपने ही माता-पिता पर से विश्वास उठ जाए, तो फिर किस पर विश्वास करें। हेल्थ काउंसलर नम्रता जैन ने हमें 18 वर्ष के एक ऐसे टीनेजर की कहानी बताई, जिसकी मां के अफेयर ने उसे इतना परेशान कर दिया कि उसका महिलाओं पर से विश्वास उठ गया।

वो मां के अफेयर के चैट छुपकर पढ़ने लगा था

नम्रता जैन उस लड़के के बारे में बताते हुए कहती हैं, “एक दिन मां का मोबाइल जब उस लड़के के हाथ लगा, तो उसने कुछ ऐसे मैसेज पढ़े, जिनसे उसे शक हो गया कि मां का अफेयर चल रहा है। अपने शक को पुख्ता करने के लिए लड़के ने चुपके से मां के व्हॉट्सऐप को अपने लैपटॉप से कनेक्ट कर दिया। फिर लड़का रोज छुप-छुप कर मां के मैसेज पढ़ने लगा। उसे मां से नफरत होने लगी थी। उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो ये बात किससे कहे।"

उसका महिलाओं पर से विश्वास उठ गया

अफेयर के बारे में पता चलने के बाद वो मां से बात-बात पर उलझने लगा, उन्हें ताने देने लगा। घर में भी उसका व्यवहार बदलने लगा था। वो परिवार में सबसे कटने लगा था, घंटों अकेले अपने कमरे में रहता था। महिलाओं पर से उसका विश्वास उठ गया था, जिसकी वजह से बार-बार उसका ब्रेकअप हो रहा था। वो किसी भी लड़की पर विश्वास नहीं कर पा रहा था। फिर उसने मां के अफेयर की बात अपनी बड़ी बहन को बताई। बहन को भी समझ नहीं आ रहा था कि मां से इस बारे में कैसे बात करे। फिर दोनों भाई-बहन हमारे पास आए।

जब उसने मां के अफेयर को उजागर किया

उस लड़के की बात सुनकर हमने उसकी काउंसलिंग शुरू की। लड़का चीटेड फील कर रहा था, उसे लग रहा था कि मां ने उसका विश्वास तोड़ा है। मां की वजह से वो अपनी गर्लफ्रेंड पर विश्वास नहीं कर पा रहा था, जिसके कारण बार-बार उसके अफेयर टूट रहे थे। हमने खुद उसकी मां से उनके अफेयर की बात नहीं की, लेकिन लड़के से कहा कि वो मां से इस बारे में मां से बात करे। हालांकि मां ने अपने अफेयर की बात उसके सामने स्वीकार नहीं की, लेकिन बेटे से बात करने के बाद उनका घर और बच्चों के प्रति व्यवहार बदल गया। बाद में लड़के ने खुद बताया कि अब उसकी मां उस अफेयर में नहीं है, वो अपना पूरा समय परिवार को देती हैं।

ऐसे बदला उनके घर का माहौल

इस घर में मां को घूमने जाना, पार्टी करना अच्छा लगता था, लेकिन पिता को ये सब अच्छा नहीं लगता था। इसी बात पर दोनों की अक्सर अनबन होती थी। पति से विचार न मिलने के कारण मां का भावनात्मक जुड़ाव किसी और के प्रति बढ़ गया। हमने उनके माता-पिता को बिना बताए उनकी फैमिली पर काम करना शुरू किया। दोनों भाई-बहन से कहा कि वो पेरेंट्स को करीब लाने की कोशिश करें। उन्होंने यही किया। वो जिद करके पेरेंट्स को डिनर, पार्टी, पिकनिक आदि के लिए राजी करने लगे। अब घर का माहौल बदलने लगा था। फिर हम उनकी मां से मिले। हमने उनसे अफेयर की बात नहीं की, सिर्फ ये कहा कि आपका बेटा घर के माहौल से डिस्टर्ब है, आपको उसे अपना अधिक समय देना चाहिए। हमारे बताने के बाद मां को अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने घर में ज्यादा समय बिताना शुरू किया। अब उनके परिवार का माहौल बहुत अच्छा हो गया है। मां ने भी अपने अफेयर को छोड़ बच्चों के साथ समय बिताना शुरू कर दिया है।

पेरेंट्स को बच्चों के बारे में सोचना चाहिए

नम्रता कहती हैं, “सोशल मीडिया और मोबाइल चैटिंग ने एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को बढ़ावा दिया है। अब लोगों के लिए कनेक्टेड रहना मुश्किल काम नहीं है इसलिए वो फोन के माध्यम से हर समय एक दूसरे से जुड़े रहते हैं। लेकिन इसका नुकसान ये होता है कि वो परिवार को कम समय देने लगते हैं। परिवार का समय वो अपने अफेयर को देते हैं, जिससे परिवार में संवाद कम होने लगता है और बच्चे उपेक्षित महसूस करते हैं। अफेयर में आगे बढ़ने से पहले पेरेंट्स को बच्चों के बारे में जरूर सोचना चाहिए। यदि आपकी पार्टनर से नहीं बनती, तो काउंसलर से कंसल्ट करें। यदि फिर भी बात नहीं बनती, तो उस रिश्ते से अलग हो जाइए। एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से आप अपने दांपत्य जीवन और बच्चों के भविष्य दोनों के साथ खिलवाड़ करते हैं। माता-पिता के अफेयर के बारे में जानने के बाद बच्चे किसी पर जल्दी विश्वास नहीं कर पाते। इसका असर उनेक अफेयर और आगे चलकर उनकी मैरिड लाइफ पर भी पड़ता है। वो अपने लाइफ पार्टनर पर भी विश्वास नहीं कर पाते।”

पेरेंट्स के अफेयर का टीनेजर पर असर

पेरेंट्स के प्रेम प्रसंग के बारे में पता चलने के बाद टीनेजर्स के दिमाग में उथल-पुथल मच जाती है, उन्हें समझ नहीं आता कि क्या करें, अपने दिल की बात किससे कहें।

पेरेंट्स पर से उनका विश्वास कम हो जाता है और इसका असर उनके खुद के अफेयर पर भी पड़ता है, वो किसी पर जल्दी विश्वास नहीं कर पाते।

कई टीनेजर में गुस्सा बढ़ जाता है, वो बात-बात पर चिढ़ने लग जाते हैं।

अफेयर की बात खुलने पर घर में झगड़े होने लगते हैं, कई बार पेरेंट्स अलग भी हो जाते हैं, इन सब बातों का बच्चों पर सबसे ज्यादा असर होता है।

ऐसे टीनेजर्स की नींद डिस्टर्ब हो जाती है, वो ठीक से सो नहीं पाते।

मन से पेरेंट्स के अफेयर की बात निकालने के लिए कई टीनेजर नशा करने लगते हैं, ऑनलाइन गेम्स खेलना शुरू कर देते हैं, बहुत ज्यादा टीवी देखने लगते हैं, वो किसी भी हालत में शांत नहीं रह पाते।

कई टीनेजर बिस्तर गीला करने लग जाते हैं।