• Hindi News
  • National
  • These 5 Activities Connect With Spirituality In Busy Life, Get Benefit To Body And Mind

इतनी शक्ति हमें देना दाता:व्यस्त जीवन में आध्यात्मिकता से जोड़ती हैं ये 5 क्रियाएं, शरीर और मन को होता है फायदा

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अध्यात्म हमारे जीवन के हर पहलू में मौजूद है। इस भागदौड़ भरी जिंदगी में अध्यात्म हर किसी के लिए शांति पाने का एक सहारा बन गया है। अध्यात्म को कई लोग पूजा-पाठ और दान कर ही समझ पाते हैं। तो कई इसका अभ्यास न कर पाने पर इच्छाशक्ति की कमी से लेकर वक्त न मिलने का बहाना बनाते हैं। इसलिए यहां हम आपको बता रहे हैं 5 सबसे आसान और ताकतवर आध्यात्मिक क्रियाएं जिन्हें रोजमर्रा की जिंदगी में अपनाकर अपना जीवन सफल बना सकती हैं।

फायदे

  • आत्मशांति
  • आत्मसंतुष्टि
  • अंदरूनी खुशी
  • परमात्मा से सीधा संपर्क
  • सही-गलत पहचानने में आसानी
  • तनाव से लड़ने की शक्ति

इन क्रियाओं में से अपनी इच्छा अनुसार कम से कम एक क्रिया को आदत बनाएं और खुद इसके फायदे को अनुभव करें।

1. प्रार्थना

यह एक तरह का आध्यात्मिक पुल है जो हमें सीधे परमात्मा से जोड़ता है। परमात्मा जो सभी चीजों का केंद्र है, जो सभी चीजों में और उसके माध्यम से जीवित है। रोज की एक प्रार्थना हमें प्रेम, स्नेह, जीवन, शांति, शक्ति, सुंदरता और आनंद के भावों का अहसास कराती है।

2. ध्यान

ध्यान शरीर के लिए आध्यात्मिक दवा की तरह काम करता है। दिन में केवल 15 मिनट का ध्यान दिमागी शांति के साथ सेहत के लिए फायदेमंद है। प्रकृति के करीब बैठकर ध्यान लगाने से शारीरिक और मानसिक संतुष्टि का एहसास होता है।

3. जाप

जाप ध्वनि की ऊर्जा से हमें सीधे ब्रह्मांड की अनंत शक्ति से जोड़ता है। किसी भी एक मंत्र का जाप कम से कम 5 मिनट तक करें। मंत्र न करना चाहें तो केवल ओम का उच्चारण करें।

4. आभार

आभार हमें अपने दायरे से बाहर निकलकर आसपास की अच्छाई देखने में मदद देता है। बुरी परिस्थितियों में भी जो भी थोड़ा अच्छा हुआ, उसका आभार व्यक्त करना सकारात्मक जीवन की निशानी होता है।

5. निःस्वार्थ सेवा

सेवा कार्य करना एक आसान क्रिया है, लेकिन उससे पहले हमें जीवन के कई पहलुओं से गुजरना पड़ता है। इसका महत्व कई लोग स्वयं के तो कई दूसरों के अनुभवों से जानते हैं। निःस्वार्थ सेवा कार्य जैसे वृद्धों की सेवा, भूखों को खाना देना, गरीब बच्चों को पढ़ाना आदि जैसे काम कर के हमें आंतरिक संतुष्टि, सकारात्मक जीवन और आत्मविश्वास मिलता है।

कैसे करें इन क्रियाओं का अभ्यास?

  1. अपनी इच्छा अनुसार एक क्रिया को चुनें।
  2. प्रार्थना, जप, ध्यान करने की शुरुआत 5 मिनट से करें। यदि आपको बेहतर महसूस होता है तो धीरे-धीरे समय बढ़ाएं।
  3. आभार सीखने के लिए हर उस व्यक्ति को शुक्रिया कहें जिनके कामों से आपके चेहरे पर मुस्कान आए।
  4. यदि हो सके तो प्रकृति के करीब जाकर अभ्यास करें।
  5. आध्यात्मिक किताबें पढ़ें। इससे आपके मन में बसी शंकाओं को दूर करने में मदद मिलेगी।
खबरें और भी हैं...