लार्ड्स क्रिकेट ग्राउंड, लंदन

निर्माण 1814
दर्शक क्षमता 30000
पहला वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (26 अगस्त, 1972)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v भारत (14 जुलाई, 2018)
अधिकतम स्कोर 334/4 (ENG vs IND, 7 जून 1975)
न्यूनतम स्कोर 107 (SA vs ENG, 12 जुलाई 2003)

लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड लंदन के सेंट जॉन्स वुड में है। इसका नामकरण इसके संस्थापक थॉमस लॉर्ड के नाम पर रखा गया है। इसका स्वामित्व मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) के पास है। इसका ज्यादातर हिस्सा 20वीं सदी के आखिर में तैयार हुआ है।

लॉर्ड्स में दुनिया का सबसे पुराना खेल संग्रहालय भी है, जहां द एशेज समेत क्रिकेट से जुड़ी दुनिया की सबसे यादगार चीजें सहेज कर रखी हुईं हैं। यहां विस्डन की एक क्षतिग्रस्त प्रति भी मौजूद है।

शुरुआत में लॉर्ड्स पर टेनिस, तीरंदाजी जैसे खेल भी होते थे। प्रथम विश्व युद्ध में मारे गए कनाडा के सैनिकों की विधवाओं और अनाथों हेतु रकम जमा करने के लिए यहां बेसबॉल टूर्नामेंट भी हो चुका है।

एजबेस्टन, बर्मिंघम

निर्माण 1882
दर्शक क्षमता 24,803
पहला वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (28 अगस्त, 1972)
आखिरी वनडे बांग्लादेश v भारत (16 जून, 2018)
अधिकतम स्कोर 408/9 (ENG vs NZ, 9 जून 2015)
न्यूनतम स्कोर 230 (ENG vs SA, 18 अगस्त 1998)

बर्मिंघम के इस मैदान पर इस वर्ल्ड कप के दौरान सेमीफाइनल समेत 5 मैच खेले जाएंगे। यहां के दर्शक जोशीले और उत्साही हैं, यही वजह है कि इस स्टेडियम को इंग्लैंड का ईडन गार्डन भी कहते हैं।

बर्मिंघम यूरोप का सबसे युवा शहर है। इसकी 40% जनसंख्या की उम्र 25 से कम है। भारत ने अब तक यहां 10 मैच खेले हैं, जिनमें से उसे 7 में जीत हासिल हुई है।

द ओवल, लंदन

निर्माण 1845
दर्शक क्षमता 23500
पहला वनडे इंग्लैंड v वेस्टइंडीज (7 सितंबर, 1973)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (13 जून, 2018)
अधिकतम स्कोर 398/5 (NZ vs ENG, 12 जून 2015)
न्यूनतम स्कोर 83/1 (AUS vs BAN, 5 जून 2017)

द ओवल क्रिकेट ग्राउंड दक्षिण लंदन में है। यह सरे काउंटी क्रिकेट क्लब का होमग्राउंड है। इंग्लैंड ने पहले टेस्ट की मेजबानी सितंबर 1880 में इसी मैदान पर की थी। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान अनिल कुंबले के लिए यह काफी लकी ग्राउंड है। उन्होंने 2007 में इसी मैदान पर अपना पहला टेस्ट शतक लगाया था।

हालांकि, सचिन तेंदुलकर अपने करियर के दौरान इस मैदान पर कभी भी शतक नहीं लगा पाए। इस मैदान पर पहले फुटबॉल के मैच भी खेले जा चुके हैं। यह वॉक्सहाल स्टेशन से करीब 800 गज दूर है।

सोफिया गार्डेंस, कार्डिफ

निर्माण 1967
दर्शक क्षमता 15600
पहला वनडे ऑस्ट्रेलिया v न्यूजीलैंड (20 मई, 1999)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (16 जून, 2018)
अधिकतम स्कोर 342/8 (ENG vs AUS, 16 जून 2018)
न्यूनतम स्कोर 138 (SL vs NZ, 9 जून 2013)

यह ग्लेमॉर्गन का होमग्राउंड है। यह इस वर्ल्ड कप का दूसरा सबसे छोटा स्टेडियम है। सबसे युवा इंटरनेशनल वेन्यू भी है। यहां पहला वनडे 1999 में खेला गया था।

नेशनल जियोग्राफिक की रिपोर्ट के मुताबिक, कार्डिफ छठा सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। यहां की 18.8% जनसंख्या किसी भी धर्म को नहीं मानती। टीम इंडिया ने यहां अब तक 4 मैच खेले हैं। इनमें से उसे 3 में जीत हासिल हुई है।

ट्रेंट ब्रिज, नॉटिंघम

निर्माण 1841
दर्शक क्षमता 23500
पहला वनडे इंग्लैंड v वेस्टइंडीज (7 सितंबर, 1973)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (13 जून, 2018)
अधिकतम स्कोर 398/5 (NZ vs ENG, 12 जून 2015)
न्यूनतम स्कोर 83/1 (AUS vs BAN, 5 जून 2017)

इस मैदान पर पहला टेस्ट 1899 में खेला गया था। यह नॉटिंघमशायर काउंटी क्रिकेट क्लब का होमग्राउंड है। यह लॉर्ड्स के बाद दुनिया का दूसरा सबसे पुराना क्रिकेट स्टेडियम है।

नॉटिंघम को यूनेस्को ने 2015 में ‘सिटी ऑफ लिटरेचर’ का दर्जा दिया है। यहां दुनिया का सबसे पुराना प्रोफेशनल फुटबॉल क्लब नॉट्स काउंटी है। टीम इंडिया ने इस मैदान पर अब तक 6 मैच खेले हैं। इसमें उसे 3 में जीत और 3 में हार में हार मिली।

काउंटी ग्राउंड, ब्रिस्टल

निर्माण 1889
दर्शक क्षमता 15000
पहला वनडे न्यूजीलैंड v श्रीलंका (13 जून, 1983)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v पाकिस्तान (14 मई, 2019)
अधिकतम स्कोर 369/9 (ENG vs WI, 24 सितंबर 2017)
न्यूनतम स्कोर 92 (ZIM vs ENG, 6 जुलाई 2003)

इंग्लैंड के सबसे सफल फर्स्ट क्लास क्रिकेटर डॉ विलियम गिल्बर्ट ग्रेस ने खेल को बढ़ावा देने के लिए 1889 में यह स्टेडियम खरीदा था। एवोन नदी के किनारे बसे इस शहर को 2015 में यूरोपियन ग्रीन कैपिटल का दर्जा दिया गया।

यह ब्रिटेन की सबसे पहली साइकल सिटी है। यहां टीम इंडिया वनडे में कभी हारी नहीं है। उसने यहां 3 मैच खेले और सभी जीते हैं।

हेडिंग्ले, लीड्स

निर्माण 1890
दर्शक क्षमता 17000
पहला वनडे इंग्लैंड v वेस्टइंडीज (5 सितंबर, 1973)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v पाकिस्तान (19 मई, 2019)
अधिकतम स्कोर 351/9 (ENG vs PAK, 19 मई 2019)
न्यूनतम स्कोर 193 (IND vs ENG, 2 जून 1982)

इस मैदान पर 1899 में टेस्ट और 1973 में पहली बार वनडे खेला गया था। हालांकि, अब तक यहां एक भी टी-20 मैच खेला नहीं गया है। यहां रग्बी के मैच के अलावा कॉन्सर्ट भी होते हैं। लीड्स ब्रिटेन में रोजगार का सबसे बड़ा केंद्र है।

यहां के 77% लोग प्राइवेट सेक्टर में हैं। इस वर्ल्ड कप में यहां 4 मैच होंगे। भारत की बात करें तो उसका रिकॉर्ड यहां अच्छा नहीं है। उसने यहां अब तक 9 मैच खेले हैं, जिसमें सिर्फ 3 ही जीत पाया है, जबकि 6 में उसे हार का सामना करना पड़ा है।

रोज बाउल, साउथैम्प्टन

निर्माण 2001
दर्शक क्षमता 20000
पहला वनडे दक्षिण अफ्रीका v जिम्बाब्वे (10 जुलाई, 2003)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v पाकिस्तान (11 मई, 2019)
अधिकतम स्कोर 373/3 (ENG vs PAK, 11 मई 2019)
न्यूनतम स्कोर 65 (USA vs AUS, 13 सितंबर 2004)

इस स्टेडियम में पहली बार वर्ल्ड कप के मैच होंगे। इस स्टेडियम के बाहरी हिस्से में 18 होल का गोल्फ कोर्स है। इस स्टेडियम में हर साल नवंबर में आतिशबाजी का प्रदर्शन होता है। भारत ने अब तक यहां 3 मैच खेले हैं।

इनमें से वह सिर्फ एक में ही जीत हासिल कर पाया है, जबकि 2 में उसे हार का सामना करना पड़ा है। इस वर्ल्ड कप में यहां 5 मैच होंगे। भारत के 2 मैच होंगे। पहला 5 जून को दक्षिण अफ्रीका और दूसरा 22 जून को अफगानिस्तान से होगा।

काउंटी ग्राउंड, टांटन

निर्माण 1882
दर्शक क्षमता 6500
पहला वनडे इंग्लैंड v श्रीलंका (11 जून, 1983)
आखिरी वनडे भारत v श्रीलंका (26 मई, 1999)
अधिकतम स्कोर 373/6 (IND vs SL, 26 मई 1999)
न्यूनतम स्कोर 216 (SL vs IND, 26 मई 1999)

इस मैदान का निर्माण तो 1882 में ही हो गया था, लेकिन यहां पहला अंतरराष्ट्रीय मैच 1983 में हुआ। यानी पहले अंतरराष्ट्रीय मैच की मेजबानी के लिए उसे 101 साल इंतजार करना पड़ा। यहां 1983 में वर्ल्ड कप का एक मैच (श्रीलंका और इंग्लैंड के बीच) हुआ था।

यह मौजूदा वर्ल्ड कप का सबसे छोटा स्टेडियम है। यहां बेसबॉल के मैच और कॉन्सर्ट भी हो चुके हैं। इस वर्ल्ड कप में यहां 3 मैच होंगे। भारत ने अब तक यहां एक मैच खेला और उसमें जीत हासिल की है।

ओल्ड ट्रैफर्ड, मैनचेस्टर

निर्माण 1857
दर्शक क्षमता 19000
पहला वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (24 अगस्त, 1972)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (24 जून, 2018)
अधिकतम स्कोर 318/7 (SL vs ENG, 28 जून 2006)
न्यूनतम स्कोर 213 (ENG vs IND, 22 जून 1983)

इस स्टेडियम का निर्माण 1857 में हुआ था। यहां पहला अंतरराष्ट्रीय मैच (टेस्ट) 1884 में खेला गया था। इंग्लैंड के ही फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड के स्टेडियम का नाम भी ओल्ड ट्रैफर्ड ही है। यहां पर म्यूजिक कॉन्सर्ट भी होते हैं।

मैनचेस्टर दुनिया का पहला औद्योगिक शहर है। इस वर्ल्ड कप में यहां सेमीफाइनल समेत 6 मैच खेले जाएंगे। भारत को भी यहां 2 मैच खेलने हैं। उसका पहला मैच 16 जून को पाकिस्तान और दूसरा 27 जून को वेस्टइंडीज से होना है। भारत ने अब तक यहां 8 मैच खेले हैं। इसमें से उसने 3 जीते और 5 हारे हैं।

रिवरसाइड, चेस्टर-ली-स्ट्रीट

निर्माण 1995
दर्शक क्षमता 17000
पहला वनडे पाकिस्तान v स्कॉटलैंड (20 मई, 1999)
आखिरी वनडे इंग्लैंड v ऑस्ट्रेलिया (21 जून, 2018)
अधिकतम स्कोर 314/4 (ENG vs AUS, 21 जून 2018)
न्यूनतम स्कोर 99 (ENG vs SL, 25 मई 2014)

यह ब्रिटेन के सबसे नए मैदानों में से एक है। फर्स्ट सेंचुरी में रोमन लोगों ने स्ट्रीट शहर में चेस्टर नाम का एक किला बनाया। उसी के नाम पर इस शहर का नाम पड़ा। इस शहर में यूनेस्को की वर्ल्ड हैरिटेज साइट ‘डरहम कैसल-डरहम कैथेड्रल’ है।

इस वर्ल्ड कप में यहां 3 मैच खेले जाएंगे। हालांकि, भारत को यहां कोई मैच नहीं खेलना है। टीम इंडिया ने अब तक इस मैदान पर 2 मैच खेले हैं। हालांकि, दोनों ही बेनतीजा रहे हैं।

विज्ञापन