अमेरिका में मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों की यात्रा पर जारी रहेगी रोक, ट्रम्प के फैसले का सुप्रीम कोर्ट ने समर्थन किया

DainikBhaskar.com | Jun 26,2018 22:39 PM IST

अमेरिका में मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों की यात्रा पर रोक जारी रहेगी। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को उस याचिका को रद्द कर दिया, जिसमें ट्रम्प के फैसले को चुनौती दी गई थी। याचिका में आरोप लगाया गया था कि ट्रम्प का फैसला मुसलमानों के साथ भेदभाव करने वाला है। 5 जजों के पैनल में 4 जजों ने राष्ट्रपति के फैसले का समर्थन किया है। ट्रम्प ने राष्ट्रपति बनते ही जनवरी 2017 में 7 मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों की अमेरिका यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया था। हालांकि, मार्च 2017 में इराक और अप्रैल में चाड से प्रतिबंध हटा दिए थे। ईरान, लीबिया, सोमालिया, सूडान, सीरिया और यमन के नागरिकों पर यह रोक जारी है। इसके अलावा दो अन्य देश उत्तर कोरिया और वेनेजुएला के कुछ अफसर और उनके परिवार के भी अमेरिका की यात्रा करने पर रोक लगी है।

कश्मीर भारत का अभिन्न अंग, खोखले दावों से सच्चाई नहीं बदलेगी: संयुक्त राष्ट्र में भारत का पाकिस्तान को जवाब

DainikBhaskar.com | Jun 26,2018 14:35 PM IST

संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में कश्मीर का मुद्दा उठाने पर भारत ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोधी ने सोमवार को कहा था कि कश्मीर हत्या और नरसंहार जैसे गंभीर अपराधों से पीड़ित जगहों में शामिल है। पाकिस्तान के दावों पर भारत ने विरोध दर्ज कराया। भारत के प्रथम सचिव संदीप कुमार बय्यापु ने जवाब के अधिकार में कहा कि पाकिस्तान चाहे कितने भी खोखले दावे कर ले, लेकिन सच्चाई नहीं बदलेगी। जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और पाकिस्तान का कोई प्रयास वास्तविकता को नहीं बदल सकता।

अमेरिकी अफसर का दावा: ट्रम्प और किम की मुलाकात से पहले रहस्यमय आवाजों से हुआ बीमार, अमेरिका ने कहा ये जानकारी गलत

DainikBhaskar.com | Jun 26,2018 12:10 PM IST

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम उन-जोंग और डोनाल्ड ट्रम्प की मुलाकात के पहले अमेरिकी सिक्युरिटी फोर्स के एक अफसर को सिंगापुर में अजीब सी आवाज सुनाई दी थी। इस अफसर का मानना है कि ये आवाज ठीक वैसी ही थी जैसी अमेरिकी राजनियकों को क्यूबा और चीन में सुनाई दी थी। बाद में ये अफसर बीमार पड़ गया था। इसे फौरन इलाज के लिए ले जाया गया। अमेरिकी के चार अफसरों ने बताया कि यह गलत जानकारी थी। ये अफसर ट्रम्प के दौरे से पहले सुरक्षा जांच के लिए पहुंचा था। इसका 12 जून को ट्रम्प और किम की मुलाकात पर कोई असर नहीं पड़ा। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जिन अमेरिकन ने 4 देश के 7 शहरों में सेवा की उनमें से 26 ने इस तरह की बीमारी का सामना किया है।

अमेरिका में 2 भारतीयों पर डाक विभाग से 100 करोड़ की धोखाधड़ी करने का आरोप, गुपचुप तरीके से हासिल करते थे सील

DainikBhaskar.com | Jun 26,2018 12:05 PM IST

अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के दो लोगों पर डाक विभाग से 1.6 करोड़ डॉलर (करीब 109 करोड़ रुपए) की धोखाधड़ी करने का आरोप लगा है। योगेश पटेल (58) और अरविंद लक्कमसानी (57) शिकागो के बाहरी इलाके में एकमुश्त डाक भेजने वाली कंपनी प्रोडिगी मेलिंग सर्विस (पीएमएस) चलाते हैं। उन्होंने यह धोखाधड़ी डेविड गर्गनो (51) नाम के अमेरिकी शख्स के साथ मिलकर की।