--Advertisement--

फेसबुक डेटा लीक पर टिम कुक ने कसा जकरबर्ग पर तंज, बोले- मैं कभी ऐसे हालात में नहीं होता

एपल स्टोर पर मौजूद फेसबुक एप पर हम तब कोई एक्शन नहीं लेंगे जब तक कि हमारी पॉलिसी का उल्लंघन नहीं होता।

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2018, 02:25 PM IST
आरोप है कि अमेरिका में राष्ट्र आरोप है कि अमेरिका में राष्ट्र

शिकागो. फेसबुक-कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक मामले में एपल के सीईओ टिम कुक ने मार्क जकरबर्ग पर तंज कसा है। बुधवार को एमएसएनबीसी को दिए एक इंटरव्यू में कुक से जब पूछा गया कि अगर वे मार्क जकरबर्ग की जगह होते तो क्या करते, तो कुक ने मुंह बनाते हुए कहा, "मैं कभी ऐसे हालात में नहीं होता। हालांकि हम फेसबुक एप को एपल स्टोर से तब तक नहीं हटाएंगे जब तक कि हमारी पॉलिसी का उल्लंघन नहीं होगा।" उन्होंने कहा कि एपल लोगों की प्राइवेसी का सम्मान करती है और उनकी पर्सनल लाइफ में कभी दखल नहीं देगी। कुक का ये इंटरव्यू शुक्रवार को एमएसएनबीसी चैनल पर लाइव होगा।


इंटरव्यू में कुक ने 7 बड़ी बातें कहीं
1)
"फेसबुक की डेटा कलेक्शन तकनीकें खराब हैं, जिसमें यूजर्स से बहुत सारी पर्सनल जानकारियां ली जाती हैं और उनको जमाकर एडवर्टाइजर्स को बेचा जाता है।"
2) "अगर हम भी अपने कंस्टमर्स की जानकारियों को ऐसे भुनाने लगें तो काफी पैसा कमा सकते हैं, लेकिन हम ऐसा कभी नहीं करेंगे।"
3) "अगर हमारे कस्टमर्स ही हमारे प्रॉडक्ट होते तो भी हम उनके बारे में कुछ भी बेचना पसंद नहीं करते।"
4) "हम लोगों की पर्सनल लाइफ में दखल देने की जरा भी कोशिश नहीं करते। प्राइवेसी हमारे लिए एक मानव अधिकार है, एक तरह से नागरिक स्वतंत्रता है और हम इसका सम्मान करते हैं।"
5) "फेसबुक ने जितनी यूजर्स प्रोफाइल जमा कर रखी हैं उन्हें वजूद में नहीं होना चाहिए। ऐसी प्रोफाइल्स का एडवर्टाइजर्स दुरुपयोग कर सकते हैं और ये हमारे लोकतंत्र के लिए भी खतरा हो सकती है।"
6) "फेसबुक जैसे डेटा स्कैंडल को रोकने के लिए कानून (रैगुलेशन) होना चाहिए। हालांकि, सबसे अच्छा रैगुलेशन सेल्फ रेगुलेशन ही होगा।"
7) "एपल स्टोर पर मौजूद फेसबुक एप पर हम तब तक कोई एक्शन नहीं लेंगे जब तक कि हमारी पॉलिसी का उल्लंघन नहीं होता।"

तीन साल पहले भी भिड़ चुके हैं कुक-जकरबर्ग
- 2015 में टिम कुक ने सिलिकॉन वैली की उन कंपनियों की आलोचना की थी जो लोगों को फ्री सर्विस देने का लालच देती हैं, लेकिन वास्तव में वे इसकी कीमत उनके पर्सनल डेटा को बेचकर वसूलती हैं। उनका सीधा इशारा फेसबुक की तरफ था।
- कुक के इस कमेंट का जवाब देते हुए जकरबर्ग ने कहा था कि एपल अपने ग्राहकों के हितों को नजरअंदाज करती है। अगर एपल को अपने ग्राहकों की फिक्र होती तो वे अपने प्रॉडक्ट्स इतने महंगे नहीं बेचते।

क्या है फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका कंपनी पर आरोप
- आरोप है कि अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान करीब 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के पर्सनल डेटा का गलत इस्तेमाल हुआ। बता दें कि इस चुनाव के बाद डोनाल्ड ट्रम्प अमेरिका के राष्ट्रपति बने थे।
- फेसबुक ने भी इस लीक को स्वीकार कर लिया है। इसीलिए पिछले हफ्ते फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग ने माफी मांगते हुए कहा कि- हमारे यूजर्स की डेटा सीक्रेसी को लेकर कंपनी से गलती हुई। हम किसी भी पर्सनल डेटा का गलत इस्तेमाल रोकने के लिए कदम उठाएंगे।

X
आरोप है कि अमेरिका में राष्ट्रआरोप है कि अमेरिका में राष्ट्र
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..