--Advertisement--

फ्लोरिडा शूटिंग: स्कूल के बाहर ही मौजूद था पुलिस आॅफिसर, गोलियों की आवाज सुनने के बाद भी नहीं गया बच्चों को बचाने

14 फरवरी को हुए हमलें में 17 लोग की मौत हुई थी, जबकि कई और लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे।

Danik Bhaskar | Feb 23, 2018, 03:44 PM IST
14 फरवरी को फ्लोरिडा स्कूल में हुई शूटिंग में 17 लोग मारे गए थे, जबकि कई लोग घायल हो गए थे। 14 फरवरी को फ्लोरिडा स्कूल में हुई शूटिंग में 17 लोग मारे गए थे, जबकि कई लोग घायल हो गए थे।

वॉशिंगटन. फ्लोरिडा स्कूल शूटिंग केस में एक नया खुलासा हुआ है। लोकल शेरिफ (इंस्पेक्टर) के मुताबिक, घटना वाले दिन स्कूल में एक पुलिस अफसर मौजूद था, लेकिन गोलीबारी शुरू होने के बाद भी उसने बिल्डिंग के अंदर जाकर हमलावर को नहीं रोका। बता दें कि पिछले हफ्ते फ्लोरिडा हाईस्कूल शूटिंग की घटना में 17 स्टूडेंट्स और टीचर की मौत हो गई थी। इस घटना पर प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा था कि ऐसे हमलों को रोकने के लिए टीचर्स के हाथ में भी गन थमा देनी चाहिए।

पुलिस अफसर के पास भी थी बंदूक

- शेरिफ इजरायल ने कहा- "अफसर पीटरसन शूटिंग के दौरान कैम्पस में ही मौजूद थे। वो अपनी यूनिफाॅर्म में थे और उनके पास बंदूक भी थी। इसकी पुष्टि वीडियो फुटेज में हुई। इसके बावजूद वो करीब 4 मिनट तक बिल्डिंग के अंदर नहीं गया। हमला करीब 6 मिनट तक चला था।"

- ये पूछे जाने पर कि अॉफिसर को क्या करना चाहिए था। शेरिफ ने कहा कि उसे अंदर जाकर हमलावर को मार देना चाहिए था। उन्होंने कहा कि पीटरसन ने उन्हें बिल्डिंग के अंदर ना जाने की वजह नहीं बताई है।

- विवाद बढ़ने के बाद पीटरसन की तरफ से अभी तक कोई सफाई नहीं आई है।

स्कूल की सिक्युरिटी के लिए रखे गए थे पीटरसन

- अमेरिकी सरकार के मुताबिक, स्कूल में बच्चों की सुरक्षा और बचाव के लिए स्कूल रिसोर्स अफसर तैनात किए जाते हैं। ये पुलिस ऑफिसर होते हैं जिनके पास बंदूक भी होती है।
- अमेरिका के नेशनल एसोसिएशन ऑफ स्कूल रिसोर्स ऑफिसर्स के मुताबिक, पूरे देश में करीब 14 से 20 हजार ऐसे आॅफिसर्स हैं जो स्कूलों की सुरक्षा में लगाए गए हैं।

कहां हुई बच्चों की सुरक्षा में चूक?

- रिपोर्ट्स के मुताबिक, सर्विलांस सिस्टम पर नजर रखने वाला शख्स पुलिस को लगभग 20 मिनट पुरानी जानकारी दे रहा था। इसके चलते जहां पुलिस हमलावर की खोज कर रही थी वो उस जगह पर नहीं था।
- इसके अलावा ये भी कहा जा रहा है कि 2016 और 2017 में लोकल अथॉरिटीज को निकोलस क्रूज की स्थिति के बारे में बताया गया था। इनमें से एक जानकारी ये भी थी कि क्रूज स्कूल पर हमले की तैयारी कर रहा है।

गन कंट्रोल पर ट्रम्प का स्टैंड

- ट्रम्प ने शुक्रवार को कहा कि देश में असॉल्ट राइफल्स 21 साल से कम उम्र के बच्चों से दूर रखी जाए। ट्रम्प ने सभी स्कूलों में सिक्युरिटी गार्ड्स को बंदूक देने की बात भी कही।
- ट्रम्प ने कहा, “बच्चों की जान की सुरक्षा से ज्यादा हमारे लिए कुछ भी अहम नहीं है। इस प्रस्ताव को नेशनल राइफल एसोसिएशन और कांग्रेस भी मानेंगे।”

टीचर्स को बंदूक देने का किया था समर्थन

- व्हाइट हाउस में रखे गए एक इवेंट में ट्रम्प ने ऐसे हमले रोकने के लिए सुझाव मांगे थे। एक शख्स के टीचर्स को बंदूक देने के सुझाव पर ट्रम्प ने इसकी संभावना जताई थी।

- ट्रम्प ने कहा, “अगर टीचर्स के पास अपने लॉकर में बंदूक होगी तो उसे बचने के लिए भागना नहीं पड़ेगा। उसके पास हमलावर से निपटने का मौका होगा और सब कुछ वहीं खत्म हो जाएगा। ये आइडिया उनके लिए बहुत अच्छा होगा जो बंदूक चलाने में माहिर हैं।”

गुरुवार को ट्रम्प ने टीचर्स को बंदूक देने के सुझाव का समर्थन किया था। गुरुवार को ट्रम्प ने टीचर्स को बंदूक देने के सुझाव का समर्थन किया था।