Hindi News »International News »America» North Korea Condemns U.S. Sanctions, Says This Blockade Would Be Act Of War

US द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंध का नार्थ कोरिया ने जताया विरोध, कहा- घेराबंदी युद्ध का कारण होगा

अमेरिका ने शुक्रवार को नार्थ कोरिया और चीन सहित 6 देशों में रजिस्टर्ड 27 शिपिंग कंपनियों और 28 पोतों पर प्रतिबंध लगाया।

Dainik.Bhaskar.com | Last Modified - Feb 25, 2018, 01:37 PM IST

  • US द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंध का नार्थ कोरिया ने जताया विरोध, कहा- घेराबंदी युद्ध का कारण होगा, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    नार्थ कोरिया के मुताबिक- अमेरिका दोनों कोरियाई देशों के बीच सुधरते रिश्तों को बिगाड़ना चाहता है।- फाइल

    सियोल.अमेरिका द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंधो को लेकर नार्थ कोरिया ने रविवार को विरोध जताया। नार्थ कोरिया ने कहा कि ये प्रतिबंध साउथ कोरिया से हमारे सुधरते रिश्तों को खराब करने के लिए लगाए जा रहे हैं। ये प्रतिबंध युद्ध का कारण बन सकते हैं। इससे पहले चीन ने भी इन प्रतिबंधों को लेकर आपत्ति जताई थी। बता दें कि अमेरिका ने शुक्रवार को नार्थ कोरिया और चीन सहित 6 देशों में रजिस्टर्ड 27 शिपिंग कंपनियों और 28 पोतों पर प्रतिबंध लगाया है।

    नार्थ-साउथ कोरिया संबंधों को बिगाड़ना चाहता है अमेरिका

    - एजेंसी के मुताबिक- अपने ऊपर लगाए गए नए प्रतिबंधों को लेकर नार्थ कोरिया के विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों कोरिया देशों के सहयोग से विंटर ओलंपिक का सफल होने जा रहा है।
    - नार्थ कोरिया ने कहा कि अमेरिका द्वारा विंटर ओलंपिक के आयोजन के बाद डेमोक्रेटिक पीपुल रिपब्लिक ऑफ कोरिया पर लगाए गए नए प्रतिबंध युद्ध की धमकी है।
    - अमेरिका द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंधों को युद्ध का कारण माना जाएगा।
    - बता दें कि विंटर ओलंपिक के दौरान नार्थ कोरिया के शासक किम जोंग की बहन किम यो जोंग साउथ कोरिया का दौरा करके आईं हैं। जिसके बाद दोनों देशों के रिश्तों को लेकर कई तरह के कयास लगने शुरू हो गए हैं।

    चीन ने भी किया अमेरिका का विरोध

    - नार्थ कोरिया समेत चीनी कंपनियों पर लगाए गए प्रतिबंधों को चीन ने कहा कि ये एकतरफा प्रतिबंध हैं। इन्हें अमेरिका को वापस लेना चाहिए।
    - ये प्रतिबंध बीजिंग और वॉशिंगटन में आपसी सहयोग को कम करेंगे।
    - चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि हमारा विरोध वॉशिंगटन के उस फैसले के खिलाफ है, जिसमें चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाया गया है।
    - चीन ने इन प्रतिबंधों को हटाने के लिए अमेरिका को संदेश भी भेजा है।

    अमेरिका ने लगाया था बड़ा प्रतिबंध
    - अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को व्हाइट हाउस में दिए एक बयान में कहा था कि वे नार्थ कोरिया पर अब तक का सबसे बड़ा प्रतिबंध लगाने जा रहे हैं।
    - अमेरिका ने उत्तर कोरिया और चीन सहित 6 देशों में रजिस्टर्ड 27 शिपिंग कंपनियों और 28 पोतों पर प्रतिबंध लगाया था।
    - अमरिकी ट्रेजरी डिपार्टमेंट के मुताबिक- इन शिपिंग कंपनियां पर आरोप हैं कि ये उत्तर कोरिया को संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों से बचाने का काम कर रही हैं।
    - इस दौरान ट्रंप ने कहा था कि नार्थ कोरिया को पुराने प्रतिबंधों को न मानने पर उसके ऊपर और प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं। नार्थ कोरिया द्वारा लगातार चलाए जा रहे परमाणु परीक्षण को रोकने के लिए अमेरिका ने बैन लगाया था।

  • US द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंध का नार्थ कोरिया ने जताया विरोध, कहा- घेराबंदी युद्ध का कारण होगा, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    चीन ने अपने देश की कंपनियों पर लगे प्रतिबंधों पर अमेरिका का विरोध किया है।- फाइल
  • US द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंध का नार्थ कोरिया ने जताया विरोध, कहा- घेराबंदी युद्ध का कारण होगा, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    अमेरिका ने उत्तर कोरिया और चीन सहित 6 देशों में रजिस्टर्ड 27 शिपिंग कंपनियों और 28 पोतों पर प्रतिबंध लगाया था।-फाइल
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From America

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×