--Advertisement--

फ्लोरिडा स्कूल शूटिंग: हमले के बाद बच्चों की भीड़ के बीच छुपकर McDonalds गया था हमलावर, पुलिस ने घटना के 40 मिनट बाद पकड़ा

बैग में मैगजीन और गोलियां लेकर स्कूल में घुसा था आरोपी निकोलस क्रूज।

Danik Bhaskar | Feb 16, 2018, 03:03 PM IST
अमेरिका में 17 लोगों को मारने वाले निकोलस ने पुलिस के सामने गुनाह कबूल कर लिया है। अमेरिका में 17 लोगों को मारने वाले निकोलस ने पुलिस के सामने गुनाह कबूल कर लिया है।

फ्लोरिडा. साउथ फ्लोरिडा हाईस्कूल में शूटिंग के आरोपी निकोलस क्रूज (19) ने गुनाह कबूल कर लिया है। गुरुवार को हुई घटना में 17 लोगों की मौत हो गई थी। पुलिस के मुताबिक, हमले के बाद निकोलस बच्चों की भीड़ में शामिल होकर स्कूल से बाहर निकल गया। उसने पास के ही वॉलमार्ट स्थित सब-वे से कोल्डड्रिंक खरीदी और उसके बाद McDonalds रेस्त्रां पहुंच गया। हालांकि, पुलिस ने घटना के 40 मिनट बाद उसे कस्टडी में ले लिया था। पुलिस को दिए बयान में क्रूज ने बताया कि वो मैगजींस और गोलियां बैग में लेकर स्कूल के अंदर गया था।

क्यों दिया घटना को अंजाम?

- पुलिस अधिकारियों ने बताया कि घटना के पीछे शूटर का कोई खास मकसद सामने नहीं आया है, सिवाय इसके कि उसे डिसीप्लिन तोड़ने की वजह से स्कूल से निकाल दिया गया था।

आरोपी ने घटना को कैसे अंजाम दिया?

- ब्रोवार्ड काउंटी के शेरिफ स्‍कॉट इजरायल ने बताया कि आरोपी ने पहले स्कूल का फायर अलार्म बजाया था। इससे स्कूल में अफरा-तफरी मच गई। क्रूज ने इसका फायदा उठाकर फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई।
- इसके बाद वह बिल्डिंग में घुसा और 5 क्लासरूम्स में फायरिंग की, जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई। दो जख्मियों ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।

2 की हालत नाजुक

- गुरुवार को हुई घटना में 17 लोगों की मौत हो गई, जबकि 13 घायलों को हॉस्पिटल में रखा गया है। 2 की हालत नाजुक बताई गई है।
- पुलिस के मुताबिक, इससे पहले स्कूल पर गोलीबारी की घटना करीब 5 साल पहले हुई थी, जब एक शूटर ने बच्चों के स्कूल को निशाना बनाया था।

सोशल मीडिया पर बंदूक के साथ पोस्ट करता था फोटोज

- हमले के एक दिन बाद शूटर की फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। डॉलर स्टोर पर काम करने वाला निकोलस आमतौर पर बंदूकों के साथ इंस्टाग्राम पर फोटोज पोस्ट करता रहता था।

AR-15 राइफल से किया था हमला
- AR-15 एल्यूमीनियम और सिंथेटिक मटेरियल से बनी सेमी ऑटोमैटिक राइफल है। इसे अमेरिकी इंजीनियर्स यूगेन स्टोनर, जिम सुलीवान और बॉब फर्मोंट ने बनाया था। पहली बार इसे 1963 में पेश किया गया। इससे 550 मीटर की दूर तक निशाना साधा जा सकता है। 1994 से 2004 तक इस राइफल पर बैन लगाया था। बाद में बुश एडमिनिस्ट्रेन ने इस पर से बैन हटा लिया था।

स्कूल में फायरिंग के बाद छात्रों की भीड़ में शामिल होकर स्कूल से भाग निकला था निकोलस। स्कूल में फायरिंग के बाद छात्रों की भीड़ में शामिल होकर स्कूल से भाग निकला था निकोलस।