--Advertisement--

'We Are Sikhs' कैंपेन को अमेरिका का टॉप अवार्ड, देश में हेट क्राइम को रोकने के लिए चलाया गया था प्रोग्राम

कैंपेन को यह अवार्ड सिखों को आम अमेरिकी दिखाने और धर्म के आधार पर भेदभाव रोकने के लिए चलाए गए अभियान के लिए मिला।

Dainik Bhaskar

Mar 22, 2018, 01:26 PM IST
'We Are Sikhs' कैंपेन को अमेरिका का पीआर वीक यूएस अवार्ड 2018 मिला। जिसे पब्लिक रिलेशन इंडस्ट्री का ऑस्कर अवार्ड भी कहा जाता है। -फाइल 'We Are Sikhs' कैंपेन को अमेरिका का पीआर वीक यूएस अवार्ड 2018 मिला। जिसे पब्लिक रिलेशन इंडस्ट्री का ऑस्कर अवार्ड भी कहा जाता है। -फाइल

वॉशिंगटन. अमेरिका में हेट क्राइम के खिलाफ सिखों द्वारा चलाए गए कैंपेन 'We Are Sikhs' को पीआर वीक यूएस अवॉर्ड मिला। इस अवॉर्ड को पब्लिक रिलेशन इंडस्ट्री का ऑस्कर भी कहा जाता है और ये यूएस का टॉप अवॉर्ड है। सार्वजनिक मुद्दों को उठाने के लिए We Are Sikhs कैंपेन को ये खिताब दिया गया।

क्या था कैंपेन का मकसद?
- अमेरिका में सिखों पर हेट क्राइम की बढ़ती बारदातों के को रोकने के लिए एक गैर- लाभकारी संगठन नेशनल सिख संगठन (एनएससी) ने 'We Are Sikhs' कैपेंन चलाया था।इसका मकसद अमेरिका के लोगों में सिख धर्म के प्रति जागरूकता फैलाना था। कैंपेन को यह अवार्ड सिखों को आम अमेरिकी दिखाने और धर्म के आधार पर भेदभाव रोकने के लिए चलाए गए अभियान के लिए मिला। इस अवार्ड प्रोग्राम का आयोजन पिछले हफ्ते न्यूयॉर्क में किया गया।

किस तरह लोगों को जागरुक किया?
- कैंपेन में टीवी एड भी दिखाए गए। इसमें सिखों को अमेरिकी पड़ोसियों के तौर पर अपने दैनिक जीवन, देशभक्ति और राष्ट्रीय मूल्यों को स्वीकार करते हुए दिखाया गया। टीवी सीरीज "गेम ऑफ थ्रोंस" और बच्चों के शो "स्पंज बॉब स्क्वायर पैंट्स" के लिए प्यार दिखाना और उनकी दाढ़ी और पगड़ी के लिए नकारात्मक धारणा का विरोध करते हुए दिखाया गया है। टीवी एड को बेस्ट फॉर कॉज के अंतिम पांच में जगह मिली है।

कितने लोग कैंपेन से जुड़े?

- एनएससी के को- फाउंडर राजवंत सिंह ने कहा, "पूरे अमेरिका में सिख समुदाय की यह बड़ी जीत है। मैं इस कैंपेन से जुड़े सभी लोगों का धन्यवाद करना चाहता हूं, जिनके कारण ये सफल हो सका है। अल्पसंख्यक सिखों के विश्वास और मूल्यों पर सवाल खड़े करके इनपर हेट क्राइम और भेदभाव किया जाता है।"
- इस कैंपेन में लगभग 13 लाख लोगों ने हिस्सा लिया जिसमें ज्यादातर सिख थे। कुछ हिंदू भी इसमें शामिल हुए। कैंपेन में 5.5 लाख वोटरों ने ऑनलाइन भाग लिया। जिसने वॉशिंगटन के प्रभावशाली संगठनों का ध्यान अपनी ओर खींचा।

- पीआरवीक के एक स्टेटमेंट में कहा गया है कि सिखों में 'आम तौर पर अमेरिकी मूल्य' हैं, उनमें सभी के लिए समानता और सम्मान' है, इनमें देशभक्ति भी है।

हेट क्राइम में सिखों पर हुए हमले

- इसी साल फरवरी में एक पैसेंजर ने कैब चलाने वाले एक सिख ड्राइवर पर यह कहकर बंदूक तान दी थी कि वह सिखों से नफरत करता है।
- नवंबर 2017 में 14 साल के सिख स्टूडेंट पर उसके साथ पड़ने वाले लड़के ने लात घूसों से इसलिए हमला कर दिया क्यों कि वह पगड़ी पहने हुए था।
-9 सितंबर 2011 में हुए हमले के बाद एक सिख की हत्या कर दी गई थी। आरोपी ने पुलिस को दिए बयान में कहा था- उसने गलतफहमी के चलते सिख पर हमला किया था। वह उसे अरब मुस्लिम समझा था। इसी तरह हेट क्राइम के चलते ही विसकोन्सिन के सिख मंदिर में 6 लोगों की सामूहिक हत्या कर दी गई थी।

इस कैंपेन में लगभग 13 लाख लोगों ने हिस्सा लिया जिसमें ज्यादातर सिख थे।- फाइल इस कैंपेन में लगभग 13 लाख लोगों ने हिस्सा लिया जिसमें ज्यादातर सिख थे।- फाइल
X
'We Are Sikhs' कैंपेन को अमेरिका का पीआर वीक यूएस अवार्ड 2018 मिला। जिसे पब्लिक रिलेशन इंडस्ट्री का ऑस्कर अवार्ड भी कहा जाता है। -फाइल'We Are Sikhs' कैंपेन को अमेरिका का पीआर वीक यूएस अवार्ड 2018 मिला। जिसे पब्लिक रिलेशन इंडस्ट्री का ऑस्कर अवार्ड भी कहा जाता है। -फाइल
इस कैंपेन में लगभग 13 लाख लोगों ने हिस्सा लिया जिसमें ज्यादातर सिख थे।- फाइलइस कैंपेन में लगभग 13 लाख लोगों ने हिस्सा लिया जिसमें ज्यादातर सिख थे।- फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..