Hindi News »International News »America» Trade War Is Like Treating Flu With Chemotherapy: Jack Ma

जुकाम के लिए कीमोथैरेपी क्यों: अमेरिका-चीन ट्रेड वार पर अलीबाबा के फाउंडर जैक मा का बयान

आईएमएफ चीफ क्रिस्टीन लेगार्दे ने भी बाहरी दुनिया के लिए व्यापार के रास्ते बंद कर लेने की सोच पर चिंता जाहिर की है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Apr 10, 2018, 06:13 PM IST

  • जुकाम के लिए कीमोथैरेपी क्यों: अमेरिका-चीन ट्रेड वार पर अलीबाबा के फाउंडर जैक मा का बयान, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    जैक मा चीन के मशहूर ई-कॉमर्स ग्रुप अलीबाबा के फाउंडर हैं। - फाइल

    बीजिंग. चीन के मशहूर ई-कॉमर्स ग्रुप अलीबाबा के संस्थापक जैक मा ने चीन और अमेरिका के बीच ट्रेडवार को लेकर बयान दिया। उन्होंने कहा, "दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच कारोबारी दिक्कतें आम बात है, लेकिन इसके लिए ट्रेड वार जैसे हथकंडे उसी तरह हैं जैसे जुकाम का इलाज कीमोथैरेपी से किया जाए।" जैक मा ने एशिया एनुअल कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रम्प के व्यापारिक फैसले की निंदा भी की।

    'समस्या बढ़ाने की बजाय समाधान ढूंढ़ें'

    - चीन की न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, जैक मा ने सोमवार को ट्रंप द्वारा चाइनीज सामान पर इंपोर्ट टैरिफ के फैसले की निंदा की। उन्होंने कहा, "यह ऐसा है मानो सर्दी का इलाज नहीं किया जा रहा, बल्कि पूरी बॉडी और पूरे सिस्टम को नुकसान पहुंचाया जा रहा हो।"

    - उन्होंने कहा, "दो देशों के बीच व्यापार परस्पर सम्मान का मुद्दा है और कोई भी ग्लोबलाइजेशन को नहीं रोक सकता। व्यापार नियमों और बातचीत पर चलता है। अगर व्यापार बंद होता है तो युद्ध शुरू हो जाता है।

    - अमेरिका-चीन व्यापार घाटे को समस्या मानने से जैक मा ने इनकार कर दिया। जैक मा ने अमेरिका में इकोनॉमिक ग्रोथ, बेरोजगारी दर में कमी और द्विपक्षीय व्यापार में अमेरिकी कंपनियों के मोटे मुनाफे का हवाला भी दिया।

    आसान हों कारोबारी तौर तरीके- आईएमएफ
    - जैक मा के साथ ही इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड की मैनेजिंग डायरेक्टर क्रिस्टीन लेगार्दे ने व्यापार के तौर तरीकों को आसान करने और पारदर्शिता बढ़ाने पर जोर दिया। उन्होंने ग्लोबल इकोनॉमी की चुनौतियों को लेकर भी चिंता जाहिर की। जिनमें कॉरपोरेट ऋण और जनसंख्या जैसी चुनौतियां शामिल हैं।

    अमेरिका-चीन बड़े कारोबारी पार्टनर
    - यूएस सेंसस ब्यूरो के मुताबिक, 2017 के दौरान अमेरिका ने चीन को कुल 130,369.5 मिलियन डॉलर का माल एक्सपोर्ट किया था। वहीं, चीन से 505,597.1 मिलियन डॉलर का माल इंपोर्ट किया था। फरवरी 2018 तक अमेरिका चीन को 19,641.4 मिलियन डॉलर का माल एक्सपोर्ट कर चुका है, वहीं 84,855.6 मिलियन डॉलर का माल चीन से इंपोर्ट कर चुका है।

    क्या था पूरा मामला

    - 22 मार्च को अमेरिका ने चीन से आयात पर 3.25 लाख करोड़ का आयात शुल्क लगाया था। इसके बाद चीन ने भी जवाब में अमेरि‍का के 128 प्रोडक्‍ट पर 25 फीसदी तक आयात शुल्क लगा दिया। अमेरिका ने चीन को धमकी देते हुए कहा था कि अगर चीन ने व्यापार के तरीके नहीं बदले तो उस पर 100 अरब डॉलर (6500 करोड़) का टैरिफ लगा दिया जाएगा।

  • जुकाम के लिए कीमोथैरेपी क्यों: अमेरिका-चीन ट्रेड वार पर अलीबाबा के फाउंडर जैक मा का बयान, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    अमेरिका ने चीन से आयात पर 3.25 लाख करोड़ का आयात शुल्क लगाया था। - फाइल
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए America Latest News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Trade War Is Like Treating Flu With Chemotherapy: Jack Ma
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From America

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×