--Advertisement--

अमेरिकी अफसर का दावा: ट्रम्प और किम की मुलाकात से पहले रहस्यमय आवाजों से हुआ बीमार, अमेरिका ने कहा ये जानकारी गलत

अमेरिकी अफसरों ने चीन और क्यूबा में अजीब आवाजों से दिमागी चोट की शिकायत की थी।

Danik Bhaskar | Jun 26, 2018, 12:10 PM IST
  • रहस्यमय आवाजों की शिकायत के बाद अमेरिका ने 6 जून को चीन से दो नागरिकों के वापस बुलाया था
  • 2016 में क्यूबा के हवाना में सबसे पहले इस तरह की शिकायत अमेरिकी अफसरों ने की थी

वॉशिंगटन. उत्तर कोरिया के तानाशाह किम उन-जोंग और डोनाल्ड ट्रम्प की मुलाकात के पहले अमेरिकी सिक्युरिटी फोर्स के एक अफसर को सिंगापुर में अजीब सी आवाज सुनाई दी थी। इस अफसर का मानना है कि ये आवाज ठीक वैसी ही थी जैसी अमेरिकी राजनियकों को क्यूबा और चीन में सुनाई दी थी। बाद में ये अफसर बीमार पड़ गया था। इसे फौरन इलाज के लिए ले जाया गया। अमेरिकी के चार अफसरों ने बताया कि यह गलत जानकारी थी। ये अफसर ट्रम्प के दौरे से पहले सुरक्षा जांच के लिए पहुंचा था। इसका 12 जून को ट्रम्प और किम की मुलाकात पर कोई असर नहीं पड़ा। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जिन अमेरिकन ने 4 देश के 7 शहरों में सेवा की उनमें से 26 ने इस तरह की बीमारी का सामना किया है।

इन हादसों से विदेश में काम कर रहे अमेरिकी अफसरों और उनके परिवार की चिंता बढ़ा गई है। अमेरिका के मेडिकल अफसरों ने विदेश में पदस्थ राजदूतों को सतर्क रहने और अजीब तरह की आवाज सुनने पर रिपोर्ट करने के लिए कहा है।

इससे पहले 6 जून को चीन में अमेरिकी राजनयिकों को रहस्यमयी बीमारी की शिकायत के बाद अमेरिका ने उन्हें देश वापस बुला लिया था। कुछ ही दिन पहले चीन के ग्वांगझू स्थित अमेरिकी काउंसलेट के कुछ अधिकारियों और उनके परिवारवालों ने शिकायत की थी कि उन्हें अजीबोगरीब आवाज सुनाई दे रही हैं। कई लोगों ने सिरदर्द और बेहोशी की भी शिकायत की थी। इसके बाद ही अमेरिकी विदेश विभाग ने अपने दो नागरिकों को चीन से वापस बुला लिया था।

2016 में क्यूबा के हवाना में स्थित अमेरिकी दूतावास के कुछ अधिकारी और उनके परिवारवाले ऐसे ही लक्षणों के साथ बीमार पड़ना शुरू हो गए थे। उस वक्त करीब 24 लोगों ने अजीब आवाजों की वजह से सिरदर्द, घबराहट और बहरेपन जैसी समस्याओं की शिकायत की थी। इस मामले के सामने आने के बाद अमेरिका ने बिगड़ते रिश्तों की वजह से क्यूबा के डिप्लोमैट्स को देश से निकाल दिया था।