Hindi News »Business» US Tells India And Others To End Oil Imports From Iran By November 4 Or Face Sanctions

अमेरिका की भारत को चेतावनी- नवंबर तक बंद करें ईरान से तेल का आयात नहीं तो झेलने पड़ेंगे प्रतिबंध

मौजूदा समय में ईरान चीन को सबसे ज्यादा तेल निर्यात करता है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jun 28, 2018, 11:34 AM IST

अमेरिका की भारत को चेतावनी- नवंबर तक बंद करें ईरान से तेल का आयात नहीं तो झेलने पड़ेंगे प्रतिबंध

वॉशिंगटन. अमेरिका ने भारत समेत अपने कुछ सहयोगी देशों को चेतावनी दी है कि वे 4 नवंबर तक ईरान से तेल का आयात बंद कर दें वरना प्रतिबंध झेलने के लिए तैयार रहें। अमेरिकी विदेश विभाग के मुताबिक, “इस फैसले में किसी भी देश को छूट नहीं दी जाएगी। भारत और चीन को इस बारे में जानकारी दे दी गई है। इसके बावजूद अगर वहां की कंपनियां ईरान से तेल आयात बंद नहीं करतीं तो उन पर भी अन्य देशों की तरह प्रतिबंध लगाए जाएंगे।”

इराक और सऊदी अरब के बाद ईरान भारत का सबसे बड़ा तेल सप्लायर है। अप्रैल 2017 से जनवरी 2018 तक ईरान भारत को 1 करोड़ 84 लाख टन कच्चा तेल निर्यात कर चुका है। ईरान सबसे ज्यादा तेल चीन को निर्यात करता है। ऐसे में अमेरिका सहयोगी देशों पर दबाव डालकर ईरान के सबसे बड़े आय स्रोत को खत्म करना चाहता है।

अमेरिका ने लगाए हैं ईरान पर प्रतिबंध
पिछले महीने ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 2015 के ईरान परमाणु समझौते से बाहर निकलने का ऐलान किया था। अमेरिका ने आरोप लगाया था कि ईरान उसकी जानकारी के बिना परमाणु हथियार बना रहा है। समझौता रद्द होने के बाद अमेरिका ने एक बार फिर ईरान पर प्रतिबंध लगा दिए। हालांकि, ये प्रतिबंध उन्हीं उद्योगों पर लगाए हैं जो 2015 की डील में शामिल थे। इनमें तेल सेक्टर, विमान निर्यात, कीमती धातु का व्यापार और ईरानी सरकार के अमेरिकी डॉलर खरीदने की कोशिश शामिल हैं। साथ ही विदेशी कंपनियों को 90 से 180 दिनों में ईरान के साथ व्यापार खत्म करने के लिए कहा है।
विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, “हम चीन और भारत से अपील करेंगे कि वे ईरान से तेल आयात बिल्कुल खत्म कर दें। ये हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा की प्राथमिकताओं में से एक है।” अधिकारी ने दावा किया कि ट्रम्प प्रशासन का ये कदम ईरान की फंडिंग खत्म करने और क्षेत्र में उसका नुकसान पहुंचाने वाली असली छवि सामने लाने के लिए है।

ईरान ने 6 देशों के साथ किया था समझौता:ईरान ने 2015 में अमेरिका, चीन, रूस, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ एक समझौते पर दस्तखत किए थे। इस समझौते के तहत ईरान ने उस पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति जताई थी।

अगले हफ्ते अमेरिका के साथ 2+2 डायलॉग में शामिल होगा भारत:भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण अगले हफ्ते अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो और रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस से मुलाकात के लिए अमेरिका जाएंगी। ये अमेरिका के साथ 2+2 डायलॉग की शुरुआत है। माना जा रहा है कि भारत इस मुलाकात में ईरान से तेल आयात का मुद्दा उठा सकता है। हालांकि, विदेश विभाग के अधिकारी के मुताबिक, अमेरिका इस बार अपने फैसले में किसी भी देश को छूट नहीं देगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Business

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×