--Advertisement--

चुनावी विज्ञापन देने वालों का वेरिफिकेशन शुरू करेगी फेसबुक, दखलंदाजी रोकना प्राथमिकता: जकरबर्ग

फेसबुक पर आरोप है कि अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान करीब 5 करोड़ यूजर्स के पर्सनल डेटा का गलत इस्तेमाल हुआ।

Danik Bhaskar | Apr 07, 2018, 01:47 PM IST
डेटा लीक मामले में फेसबुक के संस्थापक जकरबर्ग माफी मांग चुके हैं। -फाइल डेटा लीक मामले में फेसबुक के संस्थापक जकरबर्ग माफी मांग चुके हैं। -फाइल

न्यूयॉर्क. डेटा लीक के आरोपों के बाद फेसबुक अपनी विज्ञापन पॉलिसी को पुख्ता कर रही है। कंपनी के संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने कहा कि अमेरिका, मैक्सिको, ब्राजील, भारत और पाकिस्तान में होने वाले चुनावों में विज्ञापन देने वालों को वेरिफिकेशन कराना पड़ेगा। साथ ही चुनावों के दौरान बेहतर संवाद को समर्थन देना और बाहरी दखलंदाजी पर लगाम कसना फेसबुक की प्राथमिकता रहेगी। इसके लिए कंपनी आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस (एआई) टूल का इस्तेमाल कर रही है। बता दें कि फेसबुक पर आरोप है कि उसके 5 करोड़ यूजर्स के डेटा का अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में गलत इस्तेमाल हुआ।

2017 में हटाए हजारों फेक अकाउंट

- जकरबर्ग ने फेसबुक पोस्ट में लिखा, "2016 के अमेरिका चुनाव में रूसी दखलंदाजी का पता चलने के बाद हमने एआई टूल का इस्तेमाल किया। 2017 में जर्मन, फ्रेंच और अलबामा सिनेट के चुनावों के दौरान हजारों फेक अकाउंट हटाए थे। कुछ दिन पहले रूस के एक संगठन समेत कई वहां के कई फेक अकाउंट्स को भी बंद किया गया।"

फेसबुक पॉलिसी में 2 बदलाव करेगा

1) जकरबर्ग ने बताया, "चुनावी विज्ञापन देने वालों को वेरिफिकेशन कराना होगा। इसके लिए पहचान और पता देना होगा। अगर जानकारी नहीं दी जाती है तो ऐसे लोगों का चुनाव से जुड़ा कोई भी विज्ञापन नहीं चलाया जाएगा। इसे अमेरिका से शुरू किया जा रहा है। भविष्य में इसे बाकी देशों में भी लागू करेंगे। इसमें एक ऐसा टूल होगा, जिससे कोई भी यूजर किसी पेज के सारे विज्ञापन देख सकेगा।''

2) ''ज्यादा फॉलोअर्स वाले फेसबुक पेजों को चलाने वाले यूजर्स के लिए भी वेरिफिकेशन जरूरी होगा। इससे फेक अकाउंट से पेज ऑपरेट करना आसान नहीं होगा और झूठी सूचनाएं फैलने पर भी रोक लगेगी।''

वेरिफिकेशन के लिए फेसबुक में भर्तियां

- जकरबर्ग ने कहा कि फेसबुक पेजों और विज्ञापन देने वालों के वेरिफिकेशन के लिए कई नए लोगों को कंपनी अपने साथ जोड़ेगी। 2018 के चुनावों से पहले फेसबुक इस संकट से निकल जाएगा।

- हालांकि, जकरबर्ग ने माना कि कंपनी की इन कोशिशों से दखलंदाजी पूरी तरह से नहीं रुक सकती है। पर काफी हद तक फेक अकाउंट, पेज ऑपरेट करने वालों और चुनाव में हस्तक्षेप करने वालों के लिए कठिनाई जरूरत बढ़ेगी।

फेसबुक डेटा लीक मामला क्या है?

- कैम्ब्रिज एनालिटिका के डेटा लीक के खुलासे के बाद फेसबुक यूजर्स की जानकारियों की सुरक्षा पर सवाल उठे। जकरबर्ग ने गलती मानते हुए फेसबुक यूजर्स से माफी मांगी थी।

- फेसबुक भी आरोपों के घेरे में आ गई। आरोप है कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में करीब 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के पर्सनल डेटा का गलत इस्तेमाल हुआ। इसी चुनाव के बाद डोनाल्ड ट्रम्प राष्ट्रपति बने।

जकरबर्ग ने शुक्रवार को फेसबुक पर एक पोस्ट लिखकर पॉलिसी में बदलावों की जानकारी दी। जकरबर्ग ने शुक्रवार को फेसबुक पर एक पोस्ट लिखकर पॉलिसी में बदलावों की जानकारी दी।