चीन ने 'स्टार वार्स' की तर्ज पर बनाई लेजर वाली एके-47; एक किमी रेंज, 2 सेकंड में 1000 राउंड फायर करेगी

DainikBhaskar.com | Jul 03,2018 13:17 PM IST

चीन ने लेजर वाली राइफल बनाई है। इसे जेडकेजेडएम-500 नाम दिया गया है। हालांकि, आम बोलचाल में इसे एके-47 कहा जा रहा है। इससे एक किलोमीटर दूर तक फायर किया जा सकता है। यह दो सेकंड में एक हजार राउंड फायर कर सकती है। इससे एक एनर्जी बीम निकलती है जिसे सामान्य आंखों से नहीं देखा जा सकता। लेजर बंद खिड़की-दरवाजे से भी पार हो सकती है। साथ ही त्वचा और ऊतकों (टिश्यूज) को नुकसान पहुंचा सकती है।

80 साल की महिला ने शुभ यात्रा के लिए विमान के इंजन में सिक्के फेंके, उड़ान में हुई 5 घंटे की देरी

DainikBhaskar.com | Jun 30,2018 08:21 AM IST

महिला ने बताया कि वह प्लेन में सुरक्षित यात्रा करना चाहती थी। इसलिए मन्नत मांगते हुए इंजन में सिक्के फेंके थे। महिला ने बताया कि वह प्लेन में सुरक्षित यात्रा करना चाहती थी। इसलिए मन्नत मांगते हुए इंजन में सिक्के फेंके थे। महिला ने बताया कि वह प्लेन में सुरक्षित यात्रा करना चाहती थी। इसलिए मन्नत मांगते हुए इंजन में सिक्के फेंके थे।

डोकलाम विवाद के 10 महीने बाद चीन ने तिब्बत में किया सैन्याभ्यास, सेना-नागरिक सामंजस्य पर जोर

DainikBhaskar.com | Jun 29,2018 19:57 PM IST

बीजिंग. चीन ने डोकलाम विवाद के 10 महीने बाद तिब्बत में सैन्याभ्यास किया। इसका मकसद नागरिकों और सेना के बीच सामंजस्य को मजबूत करना था। चीन के सरकारी न्यूज पेपर ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, मंगलवार को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए), स्थानीय कंंपनियों और सरकार ने मिलकर तिब्बत के दूरदराज के इलाके में सैन्य-असैन्य एकीकरण को परखने के लिए अभ्यास किया। इससे पहले अगस्त 2017 में तिब्बत में पीएलए ने 4600 मीटर की ऊंचाई पर 13 घंटे तक अभ्यास किया था।

चीन ने एयरपोर्ट पर 41 हजार करोड़ रु. की लागत से स्टील की छत बनाई, 31 फुटबॉल ग्राउंड जितना है आकार

DainikBhaskar.com | Jun 28,2018 10:55 AM IST

चीन ने पहली बार एक एयरपोर्ट टर्मिनल पर स्टेनलेस स्टील की छत बनाई है। ये एयरपोर्ट शेनडॉन्ग प्रांत के किंगदाओ शहर में स्थित है। छत बनाने की लागत 6 बिलियन डॉलर (41 हजार करोड़ रु.) आई है। छत का क्षेत्रफल 2 लाख 20 हजार वर्गमीटर है जो फुटबॉल के 31 मैदान के बराबर है। किंगदाओ एक तटीय शहर है। लिहाजा 0.5 मिमी मोटी चादर से बनी ये छत तेज हवा, बारिश और समुद्र किनारे होने वाले क्षरण को रोकने में सक्षम है।