--Advertisement--

हाफिज सईद ने अपनी रिहाई को बेगुनाही का सबूत बताया

जमात-उद-दावा ने सईद की रिहाई के बाद एक वीडियो संदेश जारी किया है।

Danik Bhaskar | Nov 25, 2017, 10:50 AM IST
हाफिज सईद। हाफिज सईद।

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जमात-उद-दावा के सरगना और वर्ष 2008 के मुबंई हमलों के मुख्य षडयंत्रकर्ता हाफिज सईद ने नजरबंदी से रिहा होने के बाद आज अपने समर्थकों से कहा कि उसकी रिहाई उसकी बेगुनाही का सबूत है। जमात-उद-दावा ने सईद की रिहाई के बाद एक वीडियो संदेश जारी किया है। वीडियो में सईद अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा," मुझे खुशी है कि मेरे खिलाफ कोई भी आरोप सिद्ध नहीं हुआ। ऐसा होने पर मेरे और देश के हितों को नुकसान पहुंच सकता था। अल्लाह का शुक्र है कि कोई दोष सिद्ध नहीं हुआ।"

सईद ने अपनी नजरबंदी के लिए भारत को दोषी ठहराया है। सईद ने जम्मू कश्मीर की आजादी पर कहा, "हमारा संघर्ष जारी रहेगा। हम पाकिस्तान के सभी लोगों को इसके लिए एकजुट करेंगे।" पाकिस्तान के न्यायालय ने सईद को कल रिहा कर दिया था। इसके बाद सईद ने अपने समर्थकों के साथ मिठाई और चॉकलेट केक के अपनी रिहाई की खुशी मनायी। जमात-उद-दावा के हबीबुल्लाह ने कहा कि रिहाई की खुशी में समर्थक जुमे की नमाज से पहले सईद के घर आ रहे हैं। उन्होंने कहा, "आज सईद जुमे की नमाज का नेतृत्व करेंगे।"

सईद की नजबंदी के दौरान जमात-उद-दावा ने मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) नाम से राजनीतिक दल भी शुरू किया। जिसे चुनावों में हजारों वोट भी मिले। इस दल को पाकिस्तान के सेवानिवृत सैन्य और सरकारी अधिकारियों का समर्थन हासिल है जबकि सेना इससे इंकार करती है। सईद मुंबई हमले में हाथ होने से इंकार करता रहा है। वर्ष 2008 के मुंबई हमले में 166 लोग मारे गए थे। अमेरिका ने सईद पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है। सईद इस साल जनवरी से नजरबंद था।

हाफिज सईद। हाफिज सईद।