Hindi News »International News »Middle East» Saudi Prince Tour Of America Speaks On Kingdom And New Rising

रूढ़िवाद से मेरी पीढ़ी को भी नुकसान हुआ, महिला-पुरुष बराबरी के हकदार: सऊदी क्राउन प्रिंस

मंगलवार को डोनाल्ड ट्रम्प से मिलेंगे सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Mar 19, 2018, 09:28 PM IST

  • रूढ़िवाद से मेरी पीढ़ी को भी नुकसान हुआ, महिला-पुरुष बराबरी के हकदार: सऊदी क्राउन प्रिंस
    +1और स्लाइड देखें
    अपने ढाई हफ्तों के अमेरिका दौरे के पहले दिन मोहम्मद बिन सलमान ने अमेरिकी चैनल को इंटरव्यू दिया। - फाइल

    वॉशिंगटन.सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान सोमवार को अमेरिका पहुंचे। करीब ढाई हफ्ते के दौरे में वे मंगलवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से भी मिलेंगे। रविवार को एक अमेरिकी टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में सलमान से सऊदी के बारे में कई तीखे सवाल कए गए। उन्होंने महिलाओं से लेकर सऊदी में चल रहे बदलावों पर अपनी राय रखी।

    इस्लाम:

    - प्रिंस सलमान ने बताया- “सऊदी अरब शुरुआत से ही रूढ़िवाद इस्लाम की राह पर चला है। जो कि गैर-मुस्लिमों से सावधान रहना सिखाता है, महिलाओं को उनके मूलभूत अधिकारों से दूर रखता है और लोगों की सामाजिक जिंदगी को काफी बंदिशें लगा देता है, क्योंकि वो फिल्म नहीं देख सकते, थियेटर नहीं जा सकते और गाने नहीं सुन सकते।”
    - उन्होंने कहा, “ इन बंदिशों की वजह से हमारी पीढ़ी को सबसे ज्यादा परेशानी उठानी पड़ी है।” बता दें कि सऊदी में 1979 के बाद रूढ़िवाद की लहर के चलते मनोरंजन के सारे साधनों पर बैन लगा दिए गए थे।
    - हालांकि, अपने विजन 2030 के तहत प्रिंस सलमान सऊदी को सॉफ्ट इस्लाम की तरफ ले जाना चाहते हैं। हाल ही में उन्होंने देशभर में मनोरंजन के साधनों को शुरू करने के आदेश दिए हैं।

    महिलाओं के अधिकार:

    - इंटरव्यू में सलमान से महिलाओं पर भी सवाल किया गया, जिसके जवाब में प्रिंस ने कहा कि महिलाएं पूरी तरह से पुरुषों के बराबर हैं। आखिरकार हम सब इंसान हैं, इस लिहाज से पुरुषों और महिलाओं में कोई फर्क नहीं है।
    - प्रिंस ने कहा कि सरकार जल्द ही महिलाओं और पुरूषों को बराबर वेतन दिए जाने के लिए नियम बना सकती है। ये बराबरी के लिए सऊदी का बड़ा कदम होगा।
    - बता दें कि क्राउन प्रिंस बनाए जाने के बाद से ही सलमान ने महिलाओं के लिए पर लागू कई कड़े कानूनों को खत्म किया है। कानूनों में ढील के चलते अब सऊदी में महिलाओं को कार ड्राइविंग, स्टेडियम में एंट्री, खुद अपनी मर्जी से बिजनेस शुरू करने और कपड़े पहनने जैसी आजादियां दी गई हैं।

    मैं गांधी या मंडेला नहीं: प्रिंस

    - प्रिंस सलमान पर सऊदी नागरिकों से टैक्स वसूलकर अपने ऊपर खर्च करने के आरोप लगते रहे हैं। इस बारे में पूछे जाने पर प्रिंस ने कहा कि ये उनका निजी मामला है।
    - उन्होंने कहा, “मैं कोई गरीब नहीं हूं, मैं अमीर हूं। जहां तक मेरे निजी खर्चों की बात है तो मैं गांधी या मंडेला भी नहीं हूं।

    विजन 2030 का असर

    - सऊदी अरब की गिनती दुनिया के सबसे कट्टरपंथी देश के तौर पर होती है, जहां महिलाओं के लिए पाबंदियां बहुत ज्यादा और सख्त हैं।
    - बता दें कि क्राउन प्रिंस सलमान के सॉफ्ट इस्लाम अपनाने के फैसले से पहले सऊदी इकलौता ऐसा देश था जहां महिलाओं की ड्राइविंग पर रोक थी और स्टेडियम में उनकी एंट्री बैन थी।
    - हालांकि, देश विजन 2030 के लिए सोशल और इकोनॉमिक रिफॉर्म के तहत इन पाबंदियों और नियम-कायदों को ढील देने की कोशिश में लगा हुआ है।

  • रूढ़िवाद से मेरी पीढ़ी को भी नुकसान हुआ, महिला-पुरुष बराबरी के हकदार: सऊदी क्राउन प्रिंस
    +1और स्लाइड देखें
    पिछले साल भी डोनाल्ड ट्रम्प से व्हाईट हाउस में मिले थे क्राउन प्रिंस। -फाइल
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Middle East

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×