विदेश

--Advertisement--

हम पर कोई शक न करे, पाकिस्तान से निपटने के लिए सभी ऑप्शंस खुले हैं: अमेरिका ने दी वॉर्निंग

US की यह वॉर्निंग पाकिस्तान को दी जाने वाली करीब 12668 करोड़ रुपए की मदद रोके जाने के बाद आई है।

Danik Bhaskar

Jan 06, 2018, 01:59 PM IST
हाल ही में ट्रम्प ने कहा था कि अमेरिका को पाकिस्तान की मदद के बदले झूठ और फरेब के सिवाय कुछ नहीं मिला। -फाइल हाल ही में ट्रम्प ने कहा था कि अमेरिका को पाकिस्तान की मदद के बदले झूठ और फरेब के सिवाय कुछ नहीं मिला। -फाइल

वॉशिंगटन. अमेरिका ने कहा है कि अगर पाकिस्तान अपने यहां पनाह पाए तालिबान और हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई नहीं करता तो अमेरिका के पास सभी ऑप्शन खुले हुए हैं। व्हाइट हाउस से यह वॉर्निंग शुक्रवार को पाकिस्तान को दी जाने वाली करीब 2 अरब डॉलर (12668 करोड़ रुपए) की मदद रोके जाने के बाद आई है।

ट्रम्प ने जताई थी नाराजगी

- नए साल के पहले ट्वीट में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे पर खरी-खोटी सुनाई थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि 15 साल में अमेरिका ने पाकिस्तान को मदद के नाम पर 33 अरब डॉलर (करीब 2 लाख करोड़ रुपए) दिए, लेकिन बदले में उसे झूठ और फरेब के सिवाय कुछ नहीं मिला।

'अमेरिका पर किसी को शक नहीं होना चाहिए'
- ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के एक सीनियर अफसर ने रिपोर्टर्स से कहा, "सुरक्षा के लिए दी जाने वाली मदद से इतर भी अमेरिका के पास कई तरीके हैं, जिससे वह पाकिस्तान से निपट सकता है और उसे तालिबान-हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ कार्रवाई करने को तैयार कर सकता है।"
- "यह खतरा दूर करने के लिए अमेरिका के संकल्प पर किसी को शक नहीं करना चाहिए और मैं कहूंगा कि सभी ऑप्शंस खुले हैं।"

किन ऑप्शंस पर किया जा रहा विचार?
- कुछ लोग व्हाइट हाउस से पाकिस्तान को दिए गैर-नाटो मददगार का दर्जा वापस लेने, इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड और यूनाइटेड नेशंस के जरिए उस पर दबाव बनाने को कह रहे हैं।

- हालांकि, ऑफिसर ने यह खुलासा नहीं किया कि अमेरिका किस तरह का एक्शन लेने के बारे में सोच रहा है।

मदद रोके जाने पर PAK ने कहा था कि अमेरिका चाहे तो दिए गए पैसे का ऑडिट अपनी एजेंसी से करा सकता है। -फाइल मदद रोके जाने पर PAK ने कहा था कि अमेरिका चाहे तो दिए गए पैसे का ऑडिट अपनी एजेंसी से करा सकता है। -फाइल
Click to listen..