--Advertisement--

आर्कटिक से भी ठंडा यूरोप: 15 देशों में तापमान माइनस 200 से नीचे; 35 लोगों की मौत

ब्रिटेन में तापमान माइनस 23 डिग्री तक रहा। यह 55 साल में सबसे कम है।

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:39 AM IST
यूरोप के इन देशों में पारा आर् यूरोप के इन देशों में पारा आर्

लंदन. यूरोप में बर्फीले तूफान ने भारी तबाही मचाई है। झील, नदियां और समुद्र के किनारे तक जम गए हैं। सड़कों पर बर्फ की चादर बिछी है। ट्रेनें भी आगे नहीं बढ़ पा रही हैं। यूरोपीय देश आर्कटिक से भी ज्यादा ठंडे हो रहे हैं। 15 से ज्यादा देशों में पारा आर्कटिक (माइनस 20 डिग्री सेल्सियस) से नीचे चला गया है। बर्फीले तूफान से कम से कम 35 लोगों की मौत हो गई। 2 दिन में 300 से ज्यादा फ्लाइट कैंसिल की गई हैं।

उत्तरी ग्रीनलैंड में टेम्परेचर माइनस 43 डिग्री

- ब्रिटेन में टेम्परेचर माइनस 23 डिग्री तक रहा। यह 55 साल में सबसे कम है। दो दिनों से स्कूल बंद हैं। सड़कों पर हजारों लोग फंसे हैं। स्कॉटलैंड में रेड अलर्ट जारी किया गया है।

- इटली के नेपल्स में बर्फबारी ने 50 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। राजधानी रोम में 32 साल में दूसरी बार बर्फ गिरी है।

- पोलैंड में सर्दी से इस सीजन में 50 से ज्यादा मौतें हुई हैं। 8 मौतें बुधवार को हुईं। सड़कों पर फंसे लोगों को निकालने और बर्फ हटाने के लिए सेना को तैनात किया गया है।

- रूस में नदी-झीलें जम गईं। समुद्री तट भी जम गए हैं। मॉस्को में टेम्परेचर माइनस 21 डिग्री रहा। यह सीजन में सबसे कम है।

क्या है आर्कटिक ब्लास्ट आैर इसके पीछे की वजह?

- आर्कटिक में अभी औसत टेम्परेचर माइनस 20 डिग्री है। यहां लो प्रेशर जोन बनने से धरती के ध्रुवों (Poles) से ठंडी हवाएं यूरोप की तरफ बह रही हैं। इस स्थिति को आर्कटिक ब्लास्ट कहा जाता है।

मिशिगन​: रातों रात झील ब्लू आइस में बदली

- अमेरिका के मिशिगन की ग्रेट लेक जमने के बाद ब्लू आइस में बदल गई है। झील से 30 फीट ऊपर तक ब्लू आइस बिछी हुई है।

- एक्सपर्ट के मुताबिक, यह दुर्लभ प्राकृतिक घटना है। साफ पानी की झील में बर्फ जमने के बाद जब इसमें सूरज की रोशनी पड़ती है तो उसका रिफलेक्शन पानी की सतह पर बनी बर्फ पर दिखता है। ये रिफलेक्शन ही नीले रंग का होता है।