Hindi News »International News »International» Pakistan Plans To Takover Financial Assets And Charities Run By Hafiz Saeed

हाफिज सईद की चैरिटीज और फाइनेंशियल एसेट्स को अपने अधिकार में लेगी PAK सरकार, सीक्रेट डॉक्युमेंट्स में खुलासा

हाफिज सईद के दो फाउंडेशन जमात उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत को टेरर ऑर्गनाइजेशन घोषित कर चुका है अमेरिका।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 01, 2018, 05:17 PM IST

  • हाफिज सईद की चैरिटीज और फाइनेंशियल एसेट्स को अपने अधिकार में लेगी PAK सरकार, सीक्रेट डॉक्युमेंट्स में खुलासा, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    हाफिज सईद की चैरिटीज को अपने अधिकार में ले सकती है पाकिस्तान सरकार।

    इस्लामाबाद. पाकिस्तानी सरकार आतंकी हाफिज सईद पर शिकंजा कसने की योजना बना रही है। हाफिज की चैरिटीज और फाइनेंशियल एसेट्स को पाक सरकार अपने कब्जे में लेने जा रही है। प्रोविंशियल गवर्मेंट और डिपार्टमेंट्स को भेजे गए अपने सीक्रेट ऑर्डर में सरकार ने इस प्लान का जिक्र किया है। बता दें कि अमेरिका ने हाफिज सईद को आतंकी घोषित किया है। इसके अलावा उससे जुड़े संगठन जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत को भी टेररिस्ट फ्रंट्स की कैटेगरी में रखा है।

    सीक्रेट डॉक्युमेंट्स में है टेकओवर का आॅर्डर

    - न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, 19 दिसंबर को फाइनेंस मिनिस्ट्री ने लॉ एनफोर्समेंट और पाकिस्तान की 5 प्रांतों की सरकार से सईद की प्रॉपर्टी को अधिकार में लेने के लिए एक्शन प्लान मांगे थे।

    - 19 दिसंबर के इन डॉक्युमेंट्स को ‘फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स इश्यूज’(FATF) को रिफर किया गया है। इनमें सईद की दोनों चैरिटीज के खिलाफ एक्शन लेने की बात कही गई है।

    - बता दें कि FATF मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फाइनेंसिंग जैसे मामलों से निपटने वाली एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है। आतंकियों को पैसे मुहैया कराने के लिए पाकिस्तान को इस संस्था से वॉर्निंग मिल चुकी है।

    सईद पर PAK का पहला बड़ा एक्शन

    - अगर पाकिस्तान सरकार इस प्लान पर अमल करती है तो ये हाफिज सईद के नेटवर्क पर सरकार का पहला बड़ा एक्शन होगा। जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन के पाकिस्तान में करीब 300 मदरसे और स्कूल हैं। इसके अलावा कई हॉस्पिटल, पब्लिशिंग हाउस और एंबुलेस सर्विस भी चलती हैं।
    - पाकिस्तानी अधिकारियों के मुताबिक, दोनों संगठनों के साथ करीब 50 हजार से ज्यादा वॉलंटियर्स और पेड वर्कर्स जुड़े हैं।

    अमेरिका के प्रेशर में नहीं हम: पाकिस्तान

    - पाकिस्तान के इंटीरियर मिनिस्टर अहसान इकबाल के मुताबिक, उन्होंने सभी अधिकारियों से आतंकी संगठनों के लेन-देन और फंडिंग को खत्म करने के लिए कहा है।
    - न्यूज एजेंसी को दिए लिखित जवाब में इकबाल ने कहा कि आतंकियों के खिलाफ एक्शन अमेरिका के दबाव में नहीं लिए गए हैं। “हम किसी को खुश नहीं कर रहे। हम एक जिम्मेदार देश की तरह अपने लोगों और इंटरनेशनल कम्युनिटी के लिए काम कर रहे हैं।”

    सईद UN की ब्लैक लिस्ट में शामिल

    - सईद मुंबई में नवंबर 2008 में किए गए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड है। इस हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी।
    - उसे यूनाइटेड नेशंस ने यूएन सिक्युरिटी काउंसिल रिजोल्यूशन 1267 के तहत दिसंबर 2008 में ब्लैक लिस्टेड किया था।

    कौन है हाफिज सईद?

    - हाफिज सईद आतंकी संगठन जमात-उद-दावा का चीफ है। ये एक दूसरे आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का को-फाउंडर भी है। इन दोनों संगठनों का भारत में कई आतंकी हमलों में हाथ पाया गया है। हाफिज के सिर पर अमेरिका ने 1 करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है। इसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी हो चुका है।
    - पाक सरकार ने हाफिज का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (ECL) में भी शामिल किया है। यानी यह पाक छोड़कर नहीं जा सकता। पाकिस्तान ने हाफिज सईद को आतंकी भी माना है। पंजाब प्रोविन्स की सरकार ने सईद का नाम एंटी-टेररिज्म एक्ट (ATA) के 4th शेड्यूल में शामिल कर रखा है।
    - हाफिज सईद मुंबई के 26/11 हमले का मास्टरमाइंड है। इन हमलों में 6 अमेरिकी नागरिकों समेत 166 लोग मारे गए थे।
    - भारत पाकिस्तान से लगातार मुंबई हमले की जांच दोबारा से करने मांग करता रहा है। भारत की ये भी मांग है कि हाफिज और लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी पर केस चलाया जाए। इसके लिए भारत पहले ही पाक को सबूत दे चुका है।

  • हाफिज सईद की चैरिटीज और फाइनेंशियल एसेट्स को अपने अधिकार में लेगी PAK सरकार, सीक्रेट डॉक्युमेंट्स में खुलासा, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    अमेरिका ने हफिज को आतंकी घोषित किया है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×