रूस का प्लेन क्रैश: आतंकी साजिश से इनकार नहीं, पुतिन ने जांच के लिए बनाया स्पेशल कमीशन

पायलट्स ने उड़ान के दौरान ATC को किसी टेक्निकल फैल्योर या प्रॉब्लम की जानकारी या अलर्ट नहीं दिया।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Feb 12, 2018, 02:43 PM IST

1 of
Russias Investigative Committee said that pilots did not report any technical problems or activate a mayday call.
रूस की इमर्जेंसी मिनिस्ट्री ने कहा है कि यह घटना आतंकी साजिश का नतीजा भी हो सकती है।

मॉस्को. प्लेन क्रैश में 71 लोगों के मारे जाने के बाद रूस अब इस मामले की जांच में जुट गया है। प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन ने जांच के लिए एक स्पेशन कमीशन बनाया है। इस बीच, देश की इमर्जेंसी मिनिस्ट्री ने कहा है कि यह घटना आतंकी साजिश का नतीजा भी हो सकती है। बता दें कि रविवार को दोमोदेदोवा एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाला पैसेंजर प्लेन मॉस्को के पास रैमेनस्की में क्रैश हो गया। हादसे में क्रू मेंबर समेत 71 लोगों की मौत हो गई थी। 

 

 

पायलट्स ने नहीं दी थी टेक्निकल प्रॉब्लम की जानकारी

- रूस की जांच एजेंसियों को प्लेन क्रैश में आतंकियों के हाथ होने का शक इसलिए हो रहा है क्योंकि इस प्लेन के पायलट्स ने उड़ान के दौरान एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स (ATC) को किसी टेक्निकल फैल्योर या प्रॉब्लम की जानकारी या अलर्ट नहीं दिया था। 
- जांच टीम ने क्रैश साइट का दौरा किया और कॉकपिट रिकॉर्डर बरामद के साथ ही कुछ अहम सबूत जमा किए। यह जानकारी इमर्जेंसी मिनिस्ट्री ने दी। जांच टीम ने कहा है कि क्रैश की वजहों का इतनी जल्दी पता नहीं लगाया जा सकता। 
- दूसरी तरफ, प्रेसिडेंट पुतिन ने भी जांच के लिए एक अलग स्पेशल कमीशन बना दिया है। रशियन इन्वेस्टिगेटिव कमेटी की स्पोक्सवुमन स्वेतलाना पेट्रेंको ने कहा कि घटना की क्रिमिनल इन्वेस्टिगेशन की जाएगी।  

 

कैसे हुआ हादसा?

- एंटोनोव An-148 प्लेन को रूस की डोमेस्टिक सारातोव एयरलाइंस ऑपरेट करती है। ये प्लेन ऑर्स्क जा रहा था। इस पर 65 पैसेंजर और 6 क्रू मेंबर्स थे। 71 लोगों में से किसी की जान नहीं बची। हादसा मॉस्को लोकल टाइम के मुताबिक, दोपहर करीब सवा दो बजे हुआ। 
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, क्रैश के कुछ मिनट पहले प्लेन का एटीसी से संपर्क टूट गया था। इसके बाद यह राडार्स पर भी नजर नहीं आया। जिस इलाके में मलबा मिला वहां भारी बर्फबारी हो रही थी। मलबा एयरपोर्ट से करीब 25 किलोमीटर दूर मिला। 

 

मारे गए लोगों में तीन बच्चे भी

- हादसे में जो 71 लोग मारे गए हैं, उनमें तीन बच्चे भी शामिल हैं। राष्ट्रपति पुतिन ने हादसे पर गहरा दुख जताया। 
- An-148 एयरक्राफ्ट 2010 में बनाया गया था। 2016 के बाद रूस का यह पहला बड़ा विमान हादसा है। उस वक्त रूस की डिफेंस मिनिस्ट्री का एक जेट जो सीरिया जा रहा था, काले सागर में गिर गया था। इसमें 92 लोग मारे गए थे। 

 

चश्मदीदों ने आग का गोला गिरते देखा

- न्यूज एजेंसीज के मुताबिक, रैमनस्की में ऑर्गुनोवो विलेज में चश्मदीदों ने प्लेन को आग के गोले की तरह आसमान से गिरते हुए देखा था।
- रूस के सरकारी टेलिविजन ने इस क्रैश के बाद का एक वीडियो भी दिखाया। वीडियो में घटना के बाद बर्फ पर जगह-जगह बिखरा प्लेन का मलबा दिखाई दे रहा है।

 

हाल के वर्षों में हुए रूस के बड़े विमान हादसे

नवंबर 2017: रूस के पूर्वी इलाके में एक लाइट एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया, इसमें सवार सभी 6 लोगों की जान चली गई।
दिसंबर 2016: रूस के मशहूर रेड आर्मी बैंड को ले जा रहा मिलिट्री प्लेन ब्लैक सी के सोची रिसॉर्ट से टेक-ऑफ के बाद क्रैश हो गया। इसमें सवार 92 लोगों की मौत हो गई थी।
मार्च 2016: खराब मौसम की वजह से रोस्तोव-ऑन-डॉन एयरपोर्ट पर फ्लाई दुबई का जेट लैंडिंग के दौरान क्रैश हो गया। इसमें 62 पैसेंजर्स सवार थे, जिनकी मौत हो गई।

Russias Investigative Committee said that pilots did not report any technical problems or activate a mayday call.
रविवार को दोमोदेदोवा एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाला पैसेंजर प्लेन मॉस्को के पास रैमेनस्की में क्रैश हो गया।
Russias Investigative Committee said that pilots did not report any technical problems or activate a mayday call.
जिस इलाके में मलबा मिला वहां भारी बर्फबारी हो रही थी। मलबा एयरपोर्ट से करीब 25 किलोमीटर दूर मिला।
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now