Hindi News »International News »International» Tsunami Unclaimed Possessions Of Victims Still Unidentified

इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस

सुनामी के 10 साल पूरे होने पर थाईलैंड पुलिस ने कार्गो कंटेनर खोला था, जिसमें पीड़ितों के ये लावारिस सामान रखे गए थे।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Dec 26, 2017, 05:30 PM IST

  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
    सुनामी पीड़ितों के सामान।

    इंटरनेशनल डेस्क.आज से 13 साल पहले सुनामी ने एक साथ 14 देशों में जबदरस्त तबाही मचाई थी। इस आफत के इतने साल बाद भी अभी सैकड़ों लाशों को दावेदारों का इंतजार है। वहीं, एक बड़ी संख्या उन कीमती सामानों की भी है, जिन पर अब तक किसी ने दावेदारी नहीं पेश की है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने स्पेशल परमिशन पर 2011 में इन सामानों की फोटोज ली थीं। ताबूतों में रखे हैं लावारिस शव...

    - सुनामी के 10 साल पूरे होने पर थाईलैंड पुलिस ने उस कार्गो कंटेनर को खोला था, जिसमें पीड़ितों के ये लावारिस सामान रखे गए थे।
    - इनमें घड़ियों, बौद्ध धर्म से जुड़ लॉकेट के साथ सोने की चेन, हार, कैश, पर्स और मोबाइल समेत तमाम तरह के सामान शामिल हैं।
    - 3/12 मीटर का ये कंटेनर इससे पहले पहचान के लिए कई थाई पुलिस एजेंसियों में जा चुका है, जिसके बाद 2011 में इसे थाईलैंड के ताकुआ पा जिला पुलिस को सौंप दिया गया।
    - 2011 के बाद अब पहली इस कंटेनर को रॉयटर्स के अनुरोध पर तब खोला गया है, जब सरकारी नियमम द्वारा इन सामानों को नीलामी के लिए रखा जा सकता है।
    - शुरुआती तौर पर माना जा रहा था कि कंटेनर में उन पीड़ितों के ही सामान हैं, जिनकी पहचान नहीं हो पाई है। बाद में आईकार्ड और क्रेडिट कार्ड जैसे सामानों पर पीड़ितों के रिश्तेदारों ने दावा किया।
    - थाईलैंड में सुनामी के दौरान 2,332 लापता हुए और 5,395 लोग मारे गए थे, जिनमें से करीब 400 लाशों को लेने अब तक कोई नहीं पहुंचा है।
    - ये मेटल के ताबूतों में कोड नंबर्स के साथ रखी हुई हैं। सुनामी में सभी 14 देशों के मिलाकर करीब 2 लाख तीन हजार लोगों ने अपनी जान गंवाई थी।।

    आगे की स्लाइड्स में देखें इन सामानों की फोटोज...

  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
  • इन कीमती सामानों को नहीं मिला दावेदार, तबाही के 13 साल बाद भी लावारिस, international news in hindi, world hindi news
    +12और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए International News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Tsunami Unclaimed Possessions Of Victims Still Unidentified
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×