Hindi News »International News »International» US Florida High School Firing 17 Killed News And Updates

फ्लोरिडा के हाईस्कूल में एक्स स्टूडेंट ने की फायरिंग, 17 लोगों की मौत; आरोपी अरेस्ट

फ्लोरिडा के हाईस्कूल में एक्स स्टूडेंट ने की फायरिंग, 17 लोगों की मौत; आरोपी अरेस्ट

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 15, 2018, 07:53 AM IST

आर्कलैंड. साउथ फ्लाेरिडा के एक हाईस्कूल में बुधवार को एक स्टूडेंट ने फायरिंग कर दी, जिसमें 17 लोगों की मौत हो गई। इनमें कई स्टूडेंट्स भी शामिल हैं। 14 लोग जख्मी हुए हैं। इनमें से तीन की हालत नाजुक है। आरोपी निकोलस क्रूज की उम्र 19 साल है। वह इसी स्कूल का पूर्व छात्र है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, उसने फायरिंग से पहले फायर अलार्म बजाया था, ताकि भगदड़ मचे और ज्यादा लोगों को निशाना बनाया जा सके। अमेरिका की खुफिया एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) जांच में लोकल ऑफिशियल्स की मदद कर रही है।

स्टूडेंट ने कब और कहां की फायरिंग?

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, मियामी से करीब 72 किमी दूर पार्कलैंड इलाके के मार्जरी स्टोनमैन डगलस हाईस्कूल में छुट्टी से पहले हुई। उस वक्त दोपहर के 2:40 (भारतीय समय से देर रात 1:10 बजे) बजे थे।

आरोपी ने घटना को कैसे अंजाम दिया?

- ब्रोवार्ड काउंटी के शेरिफ स्‍कॉट इजरायल ने बताया कि आरोपी क्रूज ने पहले स्कूल के बाहर फायरिंग की, जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई, फिर वह बिल्डिंग में घुसा और 12 और लोगों की हत्या कर दी। दो जख्मियों ने अस्पताल में दम तोड़ा।

- पुलिस के मुताबिक, आरोपी ने पहले स्कूल में दाखिल होने से पहले फायर अलार्म बजाया था। इससे स्कूल में अफरा-तफरी मच गई। इसके बाद उसने फायरिंग शुरू कर दी।

- गोलीबारी के दौरान स्टूडेंट बुरी तरह डरकर चीखने लगे। उन्होंने अपने दोस्तों और परिवार के लोगों को मदद के लिए मैसेज भेजने शुरू कर दिए।

आरोपी का क्या हुआ?

- हमला करने के बाद निकोलस क्रूज फरार हो गया था। वारदात के कुछ घंटे बाद में उसे नजदीकी शहर कोरल स्प्रिंग से अरेस्ट किया गया। अफसरों के मुताबिक भागने के लिए उसने छात्रों की भीड़ का फायदा उठाया। पुलिस अफसर शेरिफ इजरायल ने बताया कि क्रूज के पास कई हथियार हैं।

- शेरिफ ने फ्लोरिडा में रिपोर्टर्स से कहा, "हमने उन वेबसाइटों और सोशल मीडिया को खंगालना शुरू कर दिया है, जिससे वह (आरोपी) जुड़ा हुआ था...फिलहाल जो कुछ भी समझ आ रहा है, वह बेहद परेशान करने वाला है।"

क्यों की फायरिंग?

- बताया जा रहा है कि अारोपी स्टूडेंट को डिसीप्लिन तोड़ने की वजह से स्कूल से निकाल दिया गया था, जिसकी वजह से वह गुस्से में था।

मारे गए या जख्मी हुए स्टूडेंट्स में क्या कोई भारतीय है?

- इस स्कूल में कई भारतीय मूल के अमेरिकी स्टूडेंट्स भी पढ़ते हैं। उनमें से एक के जख्मी होने की खबर है। वह नवीं क्लास का स्टूडेंट है। हालांकि, वह खतरे से बाहर है।

हमले में किस हथियार का इस्तेमाल किया गया?

- पुलिस के मुताबिक, अारोपी स्टूडेंट ने इस वारदात में AR-15 असॉल्ट राइफल का इस्तेमाल किया।

- अमेरिका में फेडरल असॉल्ट वेपन्स बैन एक्ट के तहत इस राइफल के इस्तेमाल पर 1994 से 2004 तक बैन लगा रहा। हालांकि, बुश एडमिनिस्ट्रेशन में यह कानून खत्म कर दिया गया।

इस घटना पर डोनाल्ड ट्रम्प ने क्या कहा?

- अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस घटना पर ट्वीट कर संवेदनाएं जताईं। उन्होंने लिखा, "मेरी प्रार्थनाएं और संवेदनाएं फ्लोरिडा में हुई गोलीबारी में पीड़ितों के साथ हैं।"

AR-15 की क्या है खासियत?

- यह एल्यूमीनियम और सिंथेटिक मटेरियल से बनी सेमी ऑटोमैटिक राइफल है।
- इसे अमेरिकी इंजीनियर्स यूगेन स्टोनर, जिम सुलीवान और बॉब फर्मोंट ने बनाया था। पहली बार इसे 1963 में पेश किया गया।
- इससे 550 मीटर की दूर तक निशाना साधा जा सकता है।

इस साल अमेरिका के स्कूलों में फायरिंग की कितनी घटनाएं हुईं?

- एक गन कंट्रोल ग्रुप के मुताबिक, यूएस के स्कूलों में इस साल फायरिंग की ये 18वीं घटना है। इसमें खुदकुशी करने के और वे मामले भी शामिल हैं, जिनमें कोई हताहत नहीं हुआ।

- बता दें कि जनवरी में ही बेनटॉन के एक स्कूल में 15 साल के लड़के ने फायरिंग कर दी थी, जिसमें दो स्टूडेंट्स की जान चली गई थी।

अमेरिकी सांसदों ने क्या कहा घटना पर?

- फ्लोरिडा के सीनेटर क्रिस मर्फी ने इस घटना को भयावह बताया। उन्होंने कहा, "ऐसा अमेरिका के अलावा कहीं नहीं होता, यहां ऐसा होना कोई इत्तेफाक नहीं है, न ही बदकिस्मती है, बल्कि हमारी नाकामियों की वजह से हो रहा है। इसके लिए हम जिम्मेदार हैं।"

- कांग्रेसमैन डोनाल्ड एम पायन ने कहा कि इस देश में हर दिन 46 स्टूडेंट्स मारे जा रहे हैं। सात बच्चों को गोली मारी जा रही है। ऐसा आंकड़ा दूसरे किसी दौलतमंद देश में नहीं है।
- उन्होंने अमेरिकी सांसदों से इस दुनिया को सभी बच्चों के लिए महफूज बनाने की गुहार लगाई।

गन कल्चर खत्म करने के लिए ओबामा रो पड़े थे
- दो साल पहले ऑरेगॉन के कॉलेज में नौ लोगों की हत्या के बाद तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा रो तक पड़े थे।
- उन्होंने कहा था, "अगर आज हमने कदम नहीं उठाया तो ऐसी घटनाएं नहीं रुकेंगी। जब भी मैं उन बच्चों के बारे में सोचता हूं, पागल हो जाता हूं। हम सब को संसद में गन पॉलिसी लानी चाहिए।" लेकिन अमेरिकी कांग्रेस के 70 फीसदी सांसद हथियारों की समर्थक थे। लिहाजा, ओबामा बेबस रहे।

US में करीब 31 करोड़ हथियार, 66% लोगों के पास एक से ज्यादा बंदूक
- दुनियाभर की कुल सिविलियन गन में से 48% (करीब 31 करोड़) सिर्फ अमेरिकियों के पास हैं।
- 89% अमेरिकी अपने पास बंदूक रखते हैं। 66% लोगों के पास एक से ज्यादा बंदूक हैं।
- अमेरिका में बंदूक बनाने वाली इंडस्ट्री का सालाना रेवेन्यू 91 हजार करोड़ रुपए का है। 2.65 लाख लोग इस कारोबार से जुड़े हुए हैं।

- अमेरिकी इकोनॉमी में हथियार की बिक्री सें 90 हजार करोड़ रुपए आते हैं। हर साल एक करोड़ से ज्यादा रिवॉल्वर, पिस्टल जैसी बंदूकें यहां बनती हैं।

US में 50 साल में 15 लाख लोगों की जान बंदूक ने ली

- बीते 50 साल में अमेरिका में बंदूकों ने 15 लाख से ज्यादा जान ले लीं। इसमें मास शूटिंग और मर्डर संबंधित 5 लाख मौतें हुई हैं। बाकी जानें सुसाइड, गलती से चली गोली और कानूनी कार्रवाई में गई हैं। बता दें कि अमेरिका में हथियार रखना बुनियादी हकों में आता है।

(आंकड़े - सीएनएन, सीडीसी, आईबीआईएस)

35 साल में फायरिंग की 5 बड़ी घटनाएं
लास वेगास: 1 अक्टूबर-2017 58 मौतें यह अमेरिका में 9/11 के बाद सबसे बड़ी घटना थी। 64 साल के बुजुर्ग ने म्यूजिक फेस्टिवल में आए लोगों पर अंधाधुंध गोली बरसाईं। 500 घायल भी हुए।
ऑरलैंडो: 12 जनवरी-2016 49 मौतें अमेरिकी युवक ने गे-नाइट क्लब में अंधाधुंध गोली चला दी थी। अमेरिका में पहली बार मास शूटिंग में इतनी मौतें हुई थीं। युवक आईएस आतंकी था।
न्यूटाउन: 14 दिसंबर-2014 27मौतें 20 साल के लड़के ने पहले अपनी मां को गोली मारी, फिर अपने स्कूल में जाकर 20 बच्चों समेत 27 लोगों की हत्या कर दी। खुद को भी गोली मार ली थी।
ब्लैक्सबर्ग: 16 अप्रैल-2007 32 मौतें वर्जिनिया टेक इंस्टीट्यूट में 23 साल के छात्र सिउंग-हू चो ने दो स्थानों पर गोली चलाई। पुलिस ने पीछा किया तो खुद को भी गोली मार ली थी।
किलीन: 16 अक्टूबर-1991 23 मौतें टेक्सास के किलीन में जॉर्ज हेनार्ड नाम के एक सिरफिरे युवक ने लूबीस कैफेटेरिया में गोली चला दी थी। बाद में उसने खुद को भी गोली मार ली थी।

आगे की स्लाइड में पढ़ें, 10 साल में मास शूटिंग...

ये भी पढ़ें:फ्लोरिडा: स्कूल से निकाले जाने से गुस्से में था आरोपी छात्र, AR-15 राइफल से की फायरिंग; देखें PHOTOS

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×