--Advertisement--

सबसे बड़ी लूट में से एक, चोरों ने पार कर दिए थे 216 करोड़ रु. के जेवर-कैश

हैटन गार्डन रेड के मामले में प्रॉसीक्यूशन और अभियुक्त चोरी के सामान की कीमत को लेकर एकमत हो गए हैं।

Danik Bhaskar | Dec 08, 2017, 07:32 PM IST

लंदन. ब्रिटिश इतिहास में हुई अब तक की सबसे बड़ी चोरियों में से एक हैटन गार्डन रेड फिर खबरों में है। इस मामले में प्रॉसीक्यूशन और अभियुक्त चोरी के सामान की कीमत को लेकर एकमत हो गए हैं। इसके बाद अब चोरी हुए लाखों पाउंड के सामान उनके मालिकों को लौटाए जाएंगे। 2015 में हुई इस रेड में करीब 216 करोड़ रुपए के जेवरात, जवाहरात और कैश चोरी हुआ था। हालांकि, इसका दो तिहाई हिस्सा अभी रिकवर नहीं किया जा सका है। 34 करोड़ के कैश और सामान लौटाए गए...

- प्रोसीक्यूटर फिलिप स्टोट ने वूलविच क्राउन कोर्ट में कहा कि अहम नतीजा ये है कि कुछ प्रॉपर्टी रिकवर कर ली गई है और पीड़ितों को लौटा दिया जाएगा।
- उन्होंने कहा कि पीड़ितों को बहुत लंबे वक्त तक इंतजार करना पड़ा। ये तो प्रॉसीक्यूशन की चिंता है कि जितनी जल्दी हो सके उन्हें सामान वापस मिले।
- हालांकि, चोरी गए दो तिहाई सामान का अभी हिसाब नहीं मिला है। वहीं, अब तक सिर्फ 34 करोड़ का कैश और सामान ही सही मालिकों को लौटाया गया। जबकि बाकी लौटाया जाना है।
- चोरी के इस मामले में सात लोगों को दोषी ठहराया गया था। इनमें से पांच को 7 साल जेल की सजा सुनाई गई थी।
- वहीं इसी मामले में कार्ल वुड नाम के एक अन्य दोषी को तीन महीने के अंदर 43 लाख रुपए लौटाने को कहा गया था। साथ ही, 6 साल जेल की सजा सुनाई थी।
- इस मामले में दोषी सातवें शख्स ह्यूग डॉयल को 21 महीने जेल की सजा सुनाई गई थी। उस पर क्रिमिनल प्रॉपर्टी ट्रांसफर करने और कंवर्ट करने का आरोप था।

कब और कैसे हुई थी चोरी ?
2015 में लंदन के हैटन गार्डन सेफ डिपॉजिट कंपनी में हुई इस घटना में बूढ़े चोरों की एक गैंग ने कंपनी की अंडरग्राउंड सेफ्टी डिपॉजिट वॉल्ट की दीवार काटकर 216 करोड़ की ज्वैलरी पार कर दी थी। ईस्टर हॉलिडे के दिन हुई इस चोरी में पुलिस को पहले 120 करोड़ की चोरी की खबर मिली, लेकिन बाद में जांच से सामने आया कि चोरी की गई ज्वैलरी की कीमत 216 करोड़ के आसपास थी। चोरी के वक्त कंपनी के 73 में 44 बॉक्स को 40 लोग इस्तेमाल कर रहे थे।

आगे की स्लाइड्स में देखें इस चोरी से जुड़ी फोटोज...