--Advertisement--

चीन सरकार ने 6 करोड़ लोगों को गरीबी से उबारा, हमारे नेता करते रहे अच्छे दिन के वादे

नई सरकार आती है और जनता से नए वादे करती है लेकिन उनमें से कितने वादे पूरे हो पाते हैं।

Danik Bhaskar | Feb 13, 2018, 04:06 PM IST

नई सरकार आती है और जनता से नए वादे करती है लेकिन उनमें से कितने वादे पूरे हो पाते हैं। लेकिन चीन ने इस मामले में मिसाल पेश की है। एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के दारोमदार संभालने ही पिछले पांच सालों में चीन ने लगभग 6 करोड़ लोगों को गरीबी रेखा से बाहर निकाला है। हालांकि, चीन की तरह ये संघर्ष भारत में भी जारी है लेकिन मोदी सरकार अभी तक ऐसा कुछ नहीं कर पाई है। चीन के राज्य परिषद कार्यालय ने यह रिपोर्ट की है जारी...


- चीन के राज्य परिषद कार्यालय की ओर से पब्लिश इस खबर में बताया गया है कि यह कम से कम 13 मिलियन की वार्षिक कटौती के बराबर था। चीन में गरीबी दर साल 2012 में 10.2 प्रतिशत से घटकर 2017 में 3.1 प्रतिशत तक आ गई है, जो अभी तक एक रिकॉर्ड है।


- बता दें कि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि चीन का उद्देश्य एक समृद्ध समाज बनाना है और साल 2020 तक इसे पूरी तरह से गरीबी मुक्त करना भी है। पिछले साल तक चीन में राष्ट्रीय गरीबी रेखा के नीचे 30 मिलियन चीनी आते थे। पिछले तीन दशकों से गरीबी से नीचे रहे रहे 600 मिलियन से ज्यादा हटा दिया गए हैं।

- इस रिपोर्ट में यह दावा भी किया गया है कि साल 2018 तक 10 लाख लोग की गरीबी दूर कर दी जाएगी। पिछले साल तक गरीबी रेखा के नीचे आने वाले लोगों आंकड़ा 30.46 मिलियन था।


- गौरतलब है कि शी जिनपिंग का यह दूसरा कार्यकाल चल रहा है। गरीबी उन्मूलन के खिलाफ इन्होंने यह लड़ाई साल 2013 में शुरू की थी। इन्होंने अपनी ही पार्टी के करीब 13 लाख पदाधिकारियों, 120 सरकारी अफसरों और 200 मंत्री स्तर के लोगों सजा दी।

- इसके अलावा दर्जन भर उच्च रैंकिंग सैन्य अधिकारी, सरकारी कंपनियों के कई वरिष्ठ अधिकारियों और पांच राष्ट्रीय नेता इनमें शामिल हैं। चीन में कम्युनिस्ट शासन के इतिहास में यह भ्रष्टाचार के खिलाफ अब तक का सबसे बड़ा अभियान था।

अगली स्लाइड्स में देखें चीन में गरीबी रेखा के नीचे वाले वालों का जीवन...