Hindi News »International News »International» How The CIA Tortured Its Detainees For Interrogation

सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख

यहां हम इन्टेरोगेशन के कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बता रहे हैं, जिसे सीआईए इस्तेमाल कर चुका है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 15, 2018, 02:19 PM IST

  • सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    इंटरनेशनल डेस्क.अमेरिका की सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) की कमान पहली बार एक महिला के हाथों सौंपी गई है। अब इसका जिम्मा जीना हास्पेल उठाएंगी। सीआईए को दुनिया की सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी में से एक माना जाता है। एजेंसी आतंकवाद के आरोप में बंद कैदियों को 180 घंटे तक जगाने से लेकर उनके कपड़े उतरवाने तक उन्हें तरह-तरह से इन्टेरोगेट करती है। सीआईए की कैद से निकले कई कैदियों ने यहां के टॉर्चर के दर्दनाक तरीकों के बार में भी बताया था और कहा था कि हम हर दिन यहां से रिहाई की दुआ करते थे। लीक हुई रिपोर्ट्स में सामने आ चुका है सच...

    मानवाधिकार संस्था ह्यूमन राइट वॉच ने इसके इन्टेरोगेशन प्रोग्राम को क्रूर और गैर कानूनी बताया था। ओबामा एडमिनिस्ट्रेशन की ओर से जारी सीआईए मेमोज और इंटरनेशनल कमेट ऑफ रेड क्रॉस की लीक हुई रिपोर्ट्स में भी इनके तरीकों की सच्चाई सामने आ चुकी है। यहां हम इन्टेरोगेशन के कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बता रहे हैं, जिसे सीआईए इस्तेमाल कर चुका है।

    उतरवा दिए जाते कैदियों के कपड़े

    सीआईए पूछताछ के लिए कैदियों के कपड़े तक उतरवा लेती है। हालांकि, 2005 में जस्टिस डिपार्टमेंट ने इसे लेकर सीआईए को एक मेमो जारी किया था और इसे लेकर आपत्ति जताई गई थी। इसमें लिखा गया था कि एक कैदी को नेकेड करने पर उसे आगे शर्मिंदगी झेलनी पड़ेगी।

    आगे की स्लााइड्स में जानें टॉर्चर के ऐसे ही बाकी तरीके...

  • सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    180 घंटे तक रखते हैं जगाकर
    कैदियों को 48 घंटे से 180 घंटों तक जगाकर रखा जाता है और वो भी खड़ा करके। इसके लिए उन्हें अथॉरिटी हासिल है। उन्हें खड़ाकर हाथों को ऊपर उठाकर बांध दिया जाता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सीआईए ने अरसाला खान नाम के एक कैदी को ऐसे ही करीब 56 घंटे जगाकर रखा था। इसके अलावा सीआईए की कैद में रहे 14 कैदियों ने बताया था उन्हें सोने ही नहीं दिया जाता। इनमें से एक ने बताया कि जैसे ही हमें नींद आती वैसे ही एक गार्ड मेरे पास आता और मेरी आंखों पर पानी का स्प्रे कर जाता था।

  • सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    पिटाई करना और पेट पर घूंसे मारना
    इसका जिक्र 2009 में अमेरिकन सिविल लिबर्टीज यूनियन को सरकार से मिले डॉक्युमेंट में किया गया है। इसमें पूछताछ के लिए पैरों से कैदी के पेट पर मारा जाता है और उसके एब्डॉमिनल पर घूंसे मारे जाते। सीआईए इस तरीके का इस्तेमाल 2004 से पहले करती थी, वो भी जस्टिस डिपार्टमेंट की मंजूरी लिए बिना इसे किया जाता था।

  • सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    छोटे से बॉक्स में रखकर पूछताछ
    कई बार कैदी को इन्टेरोगेशन के लिए एक छोटे से बॉक्स में डाल दिया जाता था, जिसमें उनके लिए हिलना भी मुश्किल होता था। कई बार 18 घंटे तक कैदी बक्से में पड़े रहते। बुश की सरकार के दौरान 2002 में अबु जुबायदाह को बारी-बारी ऐसे ही बॉक्स में रखा गया। अबु ने बताया था कि इसमें सांस लेना तक मुश्किल होता था। इन्टेरोगेटर के पास बॉक्स के अंदर नुकसान न पहुंचाने वाले इन्सेक्ट्स (कीड़े) डालने का भी ऑप्शन होता है। ये टेक्निक अबु जुबाएदाह पर इस्तेमाल की गई थी।

  • सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    लिक्विड डाइट पर रखते हैं जिंदा

    पूछताछ के लिए कैदियों की डाइट से भी खिलवाड़ किया जाता था। कई बार उन्हें सिर्फ सॉलिड या तो फिर कभी सिर्फ लिक्विड फूड दिया जाता। सीनेट की रिपोर्ट के मुताबिक, 2002 में कैदी जुबाएदाह को लिक्विड डाइट पर रखा गया था। उसे सिर्फ न्यूट्रीशियंस वाला लिक्विड डाइट और पानी दिया जा रहा था।

  • सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    दीवार पर सिर मारकर पूछताछ
    कई बार कैदियों का सिर दीवार में मारकर उन्हें इन्टेरोगेट किया जाता है। सीनेट रिपोर्ट के मुताबिक, मार्च 2003 में जुबाएदाह का सिर कॉन्क्रीट की दीवार से मार-मारकर उससे पूछताछ की गई थी।वहीं, अलकायदा लीडर खालिद शेख मोहम्मद से भी ऐसी ही पूछताछ की गई थी।

  • सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसी का टॉर्चर, यमदूत भी मांगते हैं रहम की भीख, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    बिना कपड़े बर्फ जैसे ठंडे पानी रखे जाते हैं कैदी

    नेकेड कैदियों को जमीन पर तिरपाल बिछाकर बैठा दिया जाता था। तिरपाल को मोड़कर बाथटब जैसा बना दिया है, जिसमें रेफ्रिजेरेटर का ठंडा पानी भर दिया जाता है। राज उगलने वाले के लिए साआईए की टीम ऐसे तरीके अपनाती आ रही है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए International News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: How The CIA Tortured Its Detainees For Interrogation
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×