Hindi News »International News »International» Iranian Woman Gets Two Years Jail For Removing Headscarf

हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम

जर्मन न्यूज वेबसाइट डायचे वेले की रिपोर्ट के आधार पर यहां हम उन्हीं पाबंदियों के बारे में बता रहे हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 08, 2018, 08:40 PM IST

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
    ये फोटो एक ईरानी महिला ने रियल फ्रीडम ऑफ ईरानी वुमन नाम के फेसबुक पेज पर पोस्ट की थी। ये पेज ईरान में महिलाओं पर लगी पाबंदियों का विरोध करता है। (फाइल फोटो।)

    इंटरनेशनल डेस्क.ईरान में एक महिला को पब्लिक प्लेस पर बुर्का न पहनने पर दो साल की सजा सुनाई गई है। सजा के दौरान महिला को 3 महीने तक पैरोल भी नहीं मिलेगी। ईरान में बीते दिसंबर से लेकर अब तक 30 से भी ज्यादा लड़कियों और महिलाओं को हिजाब न पहनने पर अरेस्ट किया जा चुका है। ईरान में ऐसी ही कई तरह की पाबंदियां हैं। महिलाएं नहीं कर सकतीं ये काम...

    ईरान में महिलाओं को साइकिल चलाने से लेकर सेल्फी लेने, हुक्का पीने, कैफे में जाने और कपड़े पहनने तक कई तरह की पाबंदियों का सामना करना पड़ता है। जर्मन न्यूज वेबसाइट डायचे वेले की रिपोर्ट के आधार पर यहां हम उन्हीं पाबंदियों के बारे में बता रहे हैं।

    आगे की स्लाइड्स में जानें इन पाबंदियों के बारे में...

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    पुरुषों की परमिशन के बिना ट्रैवल करने की छूट नहीं
    ईरान सरकार द्वारा पास किए गए कानून के तहत महिलाएं पुरुष गार्जियन की परमिशन के बिना देश से बाहर नहीं जा सकती हैं। सिंगल महिलाओं को इसके लिए लिखित तौर पर पिता की परमिशन लेना जरूरी है। वहीं, शादीशुदा महिलाओं को इसके लिए पति की परमिशन लेनी पड़ती है। हालांकि, इस कानून का फीमेल एमपी ने भी विरोध जताया था।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    स्टेडियम में फुटबॉल देखना मना, खिलाड़ियों के साथ नहीं ले सकतीं सेल्फी

    ईरान में फुटबॉल बहुत पॉपुलर है। इसके बावजूद यहां महिलाएं स्टेडियम में बैठकर मेल टीम का फुटबॉल मैट नहीं देख सकती हैं। इसी साल अप्रैल में तेहरान के आजादी स्टेडियम से मैच देखते आठ महिलाओं के ग्रुप को अरेस्ट तक कर लिया गया था। ये पुरुषों के भेष में मैच देखने के लिए पहुंची थी। इसके साथ ही यहां महिलाओं के लिए पुरुष खिलाड़ियों के साथ सेल्फी लेने पर भी पाबंदी है। यहां की एथमिक कमेटी (आचार समिति) ने ये नियम-कायदे लागू किए हैं।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    महिलाओं का साइकिल चलाना है प्रतिबंधित
    ईरान में महिलाओं के लिए साइकिल चलाना प्रतिबंधित है। पिछले साल ईरान के सुप्रीम लीडर अल खमैनी ने इसे लेकर इस्लामिक फतवा जारी किया था। इस पाबंदी पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा था कि महिलाओं का पब्लिक प्लेस और ऐसी जगहों पर साइकिल चलाना प्रतिबंधित है, जहां वो अनजान लोगों की नजरों के सामने हों।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    कॉफी शॉप और कैफे में नहीं कर सकतीं काम
    इस इस्लामिक रिपब्लिक देश के पुलिस चीफ खलील हेलाली ने दो साल पहले मीडिया से कहा था कि महिलाएं कॉफी शॉप और पारंपरिक कैफे में काम करने के लिए प्रतिबंधित हैं। उन्होंने कहा था अगर किसी महिला को कैफे चलाना है तो वो लाइसेंस लेकर कॉफी शॉप चला सकती है, लेकिन उसे चलाने के लिए महिला को मेल वर्कर ही रखने होंगे। हालांकि, देश में इसके लिए कोई कानूनी तौर पर पाबंदी नहीं है।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    बिना हिजाब घर से बाहर निकालने की मनाही
    आर्टिकल 683 के मुताबिक, ईरान में बिना हिजाब महिलाओं के घर से बाहर निकलने पर भी पाबंदी है। इतना ही नहीं, हिजाब के अगल-बगल से भी अगर बाल नजर आ रहे हैं, तो इसे भी अंदर करना जरूरी है। चाहे इसके लिए अपनी हेयरस्लाइल ही क्यों न बदलवानी पड़े।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    गैर-मुस्लिम शख्स से नहीं कर सकतीं शादी
    इस्लामिक देश के कानून के तहत ईरान के पुरुषों को गैर-मुस्लिम महिला से शादी करने की इजाजत है। क्योंकि शादी के बाद वो खुद ब खुद मुस्लिम हो जाएगी। पर महिलाएं गैर-मुस्लिम शख्स से शादी नहीं कर सकती हैं। भले ही युवक शादी के बाद इस्लाम कबूल करने को राजी हो, लेकिन फिर भी इसकी इजाजत नहीं है।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    सबवे और बस में पुरुषों के सेक्शन में नहीं बैठ सकतीं

    ईरान में सबवे और बस में महिलाओं के लिए अलग से एक छोटा सेक्शन होता है। उन्हें पुरुषों के सेक्शन में जाने की मनाही है। मेन्स सेक्शन काफी बड़ा होता है। वो पूरा का पूरा खाली हो तब भी महिलाएं उसमें एंट्री नहीं ले सकती हैं।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    पति की परमिशन के बिना नहीं कर सकतीं JOB

    ईरान में महिलाएं पति की परमिशन के बिना नौकरी नहीं कर सकतीं। सिविल कोड के आर्टिकल 1105 के मुताबिक, पति और पत्नी के रिलेशन में फैमिली के मुखिया की भूमिका में पति होता है। ऐसे में आर्टिकल 1117 के मुताबिक, पति ऐसी किसी भी जॉब से पत्नी को मना कर सकता है, जो फैमिली के इन्ट्रेस और प्रतिष्ठा के खिलाफ हो।

  • हिजाब उतारने पर 2 साल की जेल, यहां महिलाएं नहीं कर सकतीं ये 9 काम, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें

    म्यूजिक कॉन्सर्ट का हिस्सा बनना है मना
    कतर के डेली न्यूजपेपर अल शार्क के मुताबिक, यहां महिलाएं किसी भी म्यूजिकल कॉन्सर्ट में हिस्सा नहीं ले सकती हैं। ईरान के 13 प्रॉविन्स में महिला म्यूजीशियन और परफॉर्मर्स को स्टेज पर किसी भी तरह से परफॉर्म करना मना है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए International News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Iranian Woman Gets Two Years Jail For Removing Headscarf
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×