Hindi News »World News »International News» Victory Day Is A National Holiday In Bangladesh Celebrated On December 16

पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें

dainikbhaskar.com | Last Modified - Dec 14, 2017, 11:11 AM IST

बांग्लादेश को पाकिस्तान से आजाद करवाने के लिए 3,900 भारतीय जवानों ने शहादत दी, वहीं 9,851 जवान घायल हुए थे।
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें

    इंटरनेशनल डेस्क. पड़ोसी देश बांग्लादेश ने आगामी 16 दिसंबर को अपना ‘विक्ट्री डे’ मनाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। साल 1971 में हुए इस भारत-पाक युद्ध में पाकिस्तान की शर्मनाक हार हुई और 16 दिसंबर 1971 को ढाका में 93000 पाकिस्तानी सैनिकों ने आत्मसमर्पण कर दिया। इस जंग के बाद बांग्लादेश नाम के एक नए देश का उदय हुआ। बांग्लादेश को पाकिस्तान से आजाद करवाने के लिए 3,900 भारतीय जवानों ने शहादत दी, वहीं 9,851 जवान घायल हुए थे। 30 लाख लोगों का कत्लेआम किया था पाकिस्तानी फौज ने...

     

     

    - पाकिस्तान की फौज बांग्लादेशियों पर पर कहर बरपा रही थी।
    - इस दौरान पाकिस्तानी फौज ने करीब 30 लाख लोगों का कत्लेआम किया था। 
    - फौज ने दो लाख महिलाओं से बलात्कार किया था। लाखों बच्चों को भी मौत के घाट उतार दिया था।
    - सेना के जुल्मों से बचने के लिए हजारों की संख्या में शरणार्थी रोज भारत आ रहे थे। 
    - भारत में शरणार्थियों के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने राहत शिविर लगवाए थे।
    - ये नरसंहार इतने बड़े पैमाने पर था कि लोगों लोगों की लाश ढोने के लिए गाड़ियां तक नहीं बचीं थीं। लोगों को अपने परिवार वालों की लाशें रस्सियों से बांधकर घसीटनी पड़ गई थीं।
    - जब पाकिस्तानी फौज का आतंक बढ़ता गया, तो इंदिरा गांधी ने भारतीय फौज को पाकिस्तान पर हमले का आदेश दे दिया था। सिर्फ 13 दिनों की जंग में भारतीय फौज ने पूरे पाकिस्तान को घुटने टुकने पर मजबूर कर दिया था। 

     

    क्यों शुरू हुआ था विद्रोह
    शेख मुजीबुर्रहमान पाकिस्तान के बांग्लाभाषी लोगों का नेतृत्व कर रहे थे। 1956 में यह फैसला हुआ था कि पूर्वी बंगाल को अब पूर्वी पाकिस्तान कहा जाएगा। मुजीबर्रहमान ने इसे बंगाली संस्कृति और पहचान के लिए खतरा बताया। उनको पूर्वी पाकिस्तान में बंगबंधु कहा जाता था। दिसंबर 1970 के आम चुनाव में दो सीटों को छोड़कर पूर्वी पाकिस्तान की सभी सीटों पर उनकी पार्टी आवामी लीग की जीत हुई। इस जीत के बाद पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में भी उनकी पार्टी को बहुमत मिल गया। इसके बाद देशद्रोह के आरोप में मुजीबुर्ररहमान को अरेस्ट कर लिया गया और पूर्वी पाकिस्तान में विद्रोह शुरू हो गया था। इसी विद्रोह को कुचलने के लिए पाकिस्तानी फौज ने बांग्लाभाषी लोगों पर कहर बरपाना शुरू कर दिया था, जिसका अंत बांग्लादेश के उदय के साथ हुआ।

     


    आगे की स्लाइड्स में देखें, किस तरह मचाया था पाकिस्तानी फौज ने कत्लेआम...

  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
  • पाकिस्तानी फौज ने मचाया था ऐसा कत्लेआम, लोगों को ढोनी पड़ गई थीं लाशें, international news in hindi, world hindi news
    +16और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए International News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Victory Day Is A National Holiday In Bangladesh Celebrated On December 16
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From International

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×