विदेश

--Advertisement--

एक ही रात में गायब हो गया था यहां पूरा गांव, ये हैं दुनिया की 7 रहस्यमयी जगहें

एक ही रात में ये गांव पूरी तरह से उजड़ गया और यहां रहने वालों के बारे में कोई जानकारी भी नहीं मिली।

Danik Bhaskar

Jan 07, 2018, 08:23 PM IST

इंटरनेशनल डेस्क. नेचर की खूबसूरती का कोई मुकाबला नहीं है। कई बार तो कुछ नजारे देखकर उन पर विश्वास कर पाना भी मुश्किल हो जाता है कि धरती पर ऐसी अनोखी जगह भी मौजूद है। वहीं कुछ ऐसी जगहें भी हैं, जो साइंटिस्ट्स से लेकर लोगों तक के लिए मिस्ट्री बनी रहीं। यहां हम ऐसी ही कुछ रहस्यमयी जगहों के बारे में बता रहे हैं।


एक ही रात में गायब हो गया था पूरा गांव
एंजीकुनी लेक के पास इनुइट गांव, कनाडा

कनाडा का ये पूरा का पूरा गांव गायब हो गया, वो भी बिना किसी नामोनिशान के। एक ही रात में ये गांव पूरी तरह से उजड़ गया और यहां रहने वालों के बारे में कोई जानकारी भी नहीं मिली। यहां लोगों के सामानों से लेकर हथियार अपनी ही जगहों पर मिले। वहीं, कुत्ते अपनी जगह पर जमे (जड़ हो जाना) मिले। बताया जाता है कि वो भुखमरी के शिकार हो गए थे, जबकि वहां खाना बिखरा पड़ा था। इसे लेकर अब तक कोई भी लॉजिकल थ्योरी सामने नहीं आई हैं। कुछ लोगों का मानना है कि एलियंस यहां से लोगों को अगवा कर ले गए।

आगे की स्लाइड्स में जानें बाकी रहस्यमयी जगहों के बारे में...

सैकड़ों किमी तक खुद ब खुद खिसकते हैं पत्थर
रेसट्रैक प्लाया, डेथ वैली, कैलिफोर्निया

अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्थित डेथ वैली लोगों के लिए किसी रहस्य से कम नहीं। ये ऐसी जगह है जहां पत्थर खुद ब खुद खिसकते हैं, जिन्हें सेलिंग स्टोंस का नाम दिया गया है। ये रेसट्रैक एरिया में 320 किलो तक के पत्थरों को जगह बदलते देखा गया है। इसे लेकर ढेरों साइंटिस्ट्स रिसर्च कर रहे हैं। इसमें ये भी सामने आया है कि सर्द रात में ये बर्फ की पैनल्स की मदद से 224 मीटर तक दूरी तय कर लेते हैं।

यहां बहता है खून जैसे लाल रंग का पानी
ब्लड फॉल्स, अंटार्कटिका

अंटार्कटिका का ब्लड-रेड वाटरफॉल मैकमुर्दो ड्राई वैली से बहता है। साइंटिस्ट्स का मानना है कि टेलर ग्लेशियर से लौह अयस्क वाला खारा पानी जब बर्फ से ढकी सतह पर गिरता है, तो ये सुर्ख लाल रंग का दिखाई देता है। 1911 में पहली बार ऑस्ट्रेलियन जियोलॉजिस्ट ग्रिफिथ टेलर ने इस लाल पानी को देखा था, जिसके बारे में बाद ये खुलासा हुआ कि ये लौह अयस्क वाला खारा पानी है। 

यहां गायब हो जाता हैं बड़े से बड़ा समुद्री और हवाई जहाज
बरमूडा ट्राएंगल

बरमूडा ट्राएंगल दुनिया की रहस्यमयी जगहों में से एक है। ये अमेरिका के फ्लोरिडा, प्यूर्टोरिको और बरमूडा तीनों को जोड़ने वाला एक ट्राएंगल है। यहां पहुंचते ही बड़े से बड़ा समुद्री और हवाई जहाज गायब हो जाता है। ट्राएंगल के पास पहुंचते ही न तो जहाज मिलता है और न ही उसके यात्री। वैज्ञानिक कई सालों से इस रहस्य को सुलझाने में लगे रहे। 2016 में कुछ साइंटिस्ट ने इस रहस्य के सुलझने का दावा किया है। साइंटिस्ट्स ने दावा किया है कि बरमूडा ट्राएंगल में बेहद भारी चीजों को अपनी ओर खींच लेने की ताकत बादलों की हेक्सागोनल शेप की वजह से आती है। ये बादल और 170 मील प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाएं आपस में मिलकर जब जहाज या एरोप्लेन से टकराते हैं और उन्हें खींचकर समुद्र के तल में ले जाते हैं।

हजारों की संख्या में लटकी हैं डरावनी और टूटी-फूटी डॉल्स
आइलैंड ऑफ डॉल्स, मेक्सिको


मेक्सिको सिटी से 17 मील साउथ में एक छोटा सा आइलैंड है 'ला इस्ला दी ला मुनेकॉस'। हालांकि, ये डॉल्स आइलैंड के नाम से ज्यादा फेमस है, क्योंकि यहां पर हजारों की संख्या में डरावनी और टूटी-फूटी डॉल्स लटकी हुई हैं। कहा जाता है कि इस आइलैंड पर जाने वाले व्यक्ति की मौत हो जाती है, जो बाद में एक डॉल के रूप में किसी पेड़ पर टंगा मिलता है। हालांकि ये एक भ्रम ही है। 

आज तक नहीं पता चला इन पत्थरों का रहस्य
स्टोनहेंज, इंग्लैंड

इंग्लैंड के विल्टशायर में पत्थरों की इस आकृति को स्टोनहेंज के नाम से जाना जाता है। ये साउथ में सैलिसबरी के मैदानी इलाकों में मौजूद है। आर्कियोलॉजिस्ट्स का मानना है कि ये 3000-2000 ईसा पूर्व में बना था। हालांकि, इन्हें बनवाने के पीछे मकसद क्या था, ये अब तक रहस्य ही है। 

इस गड्ढे में पिछले 46 सालों से जल रही है आग
डोर टू हेल, तुर्कमेनिस्तान


तुर्कमेनिस्तान में ये आग का गोला 'डेर टू हेल' (नरक का दरवाजा) के नाम से जाना जाता है। ये काराकुम रेगिस्तान के दरवेज गांव में मौजूद है। ये गड्ढा एक गैस क्रेटर है, जो मिथेन गैस के चलते पिछले 46 सालों से जल रहा है। ये 229 फीट चौड़ा है और इसकी गहराई 65 फीच है। ये तुर्कमेनिस्तान का मशहूर टूरिस्ट प्वाइंट हैं। 

Click to listen..