--Advertisement--

ऐसा था हिटलर का टॉर्चर कैम्प, यहूदी रोज करते थे अपनी मौत का इंतजार

यहूदियों को खत्म करने का सिलसिला मई से पोलैंड के कन्सन्ट्रेशन कैम्प से शुरू हुआ था और दुनिया के अन्य देशों तक पहुंच गया।

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 12:27 PM IST
चेकोस्लोवाकिया के बोहेमिया रीजन के पास बना कन्सन्ट्रेशन कैम्प। चेकोस्लोवाकिया के बोहेमिया रीजन के पास बना कन्सन्ट्रेशन कैम्प।

इंटरनेशनल डेस्क. सन् 1933 में जर्मनी की सत्ता पर काबिज हुए एडोल्फ हिटलर ने देश में एक नस्लवादी साम्राज्य की स्थापना की। यहूदियों के लिए हिटलर की ये नफरत होलोकॉस्ट के रूप में सामने आई। यहूदियों को खत्म करने का सिलसिला मई से पोलैंड में खुले ऑशविच कन्सन्ट्रेशन कैम्प से शुरू हुआ था और धीरे-धीरे दुनिया के अन्य देशों तक पहुंच गया। ऐसा ही एक कैम्प चेकोस्लोवाकिया में भी बनाया गया था। दुनिया को गुमराह करने के लिए ‘ज्यूइश टाउन’ के नाम से बनाया गई थी फर्जी सिटी...


- जर्मनी ने 1938 में चेकोस्लोवाकिया को अपने कब्जे में ले लिया था। इसके बाद जर्मन आर्मी का यहां 1945 तक कब्जा रहा
- इस दौरान भी यहां के यहूदियों पर जमकर जुल्म ढाया गया। हिटलर के आदेश पर यहां बोहेमिया रीजन के पास एक सिटी बनाई गई।
- इसके लिए यहां कई बिल्डिंग्स का भी निर्माण किया गया। इस शहर में यहूदियों को बसाने के नाम पर बनाई गई थी।
- हालांकि, इसके पीछे का मकसद सिर्फ यही था कि यहां लाकर यहूदियों का नरसंहार किया जा सके।कैम्प ऐसी जगह और इस तरह बनाया गया था कि वहां से भाग पाना नामुमकिन था।
- बूढ़े और बीमारों को गैस चेंबर में मौत दे दी जाती थी। कैम्प में चार गैस चैंबर थे, जहां हर दिन सैकडों लोगों को मौत दी जाती थी।
- जो गैस चेंबर से बच जाते थे, उन्हें भूखे-प्यासे रखकर मजदूरी करवाई जाती थी। इस तरह लोग तड़प-तड़पकर मर जाते थे। इस तरह चेकोस्लोवाकिया में करीब 5 सालों के दौरान करीब 60 हजार यहूदियों की हत्या की गई।

क्या था होलोकॉस्ट?
- होलोकॉस्ट इतिहास का वो नरसंहार था, जिसमें छह साल में करीब 60 लाख यहूदियों की हत्या कर दी गई थी।
- इनमें 15 लाख सिर्फ बच्चे थे। कई यहूदी अपनी जान बचाकर देश छोड़कर भाग गए। कुछ कन्सनट्रेशन कैम्पों में क्रूरता के चलते तिल-तिल कर मरे।

आगे की स्लाइड्स में देखें होलोकॉस्ट की PHOTOS...