Hindi News »International News »International» Photos Of Church Of The Holy Sepulchre And The Tomb Of Jesus Christ

अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS

ये चर्च ईसाई समुदाय के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है और दुनियाभर से लोग यहां पहुंचते हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 01, 2018, 06:43 PM IST

  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
    चर्च ऑफ होली स्पल्चर।

    इंटरनेशनल डेस्क.दुनियाभर में ईस्टर सेलिब्रेट किया जा रहा है। इस दिन ईसा मसीह दोबारा जीवित हुए थे। येरुशलम के चर्च ऑफ नेटिविटी को उनका जन्मस्थान माना जाता है। वहीं, येरुशलम में ही मौजूद चर्च ऑफ होली स्पल्चर को उनके आखिरी स्थान के तौर पर पहचाना जाता है। कहा जाता है कि इसी चर्च में वो चट्टान है, जिस पर ईसा मसीह को दफनाने के लिए रखा गया था। बता दें, पिछले साल ही इसकी मरम्मत का भी काम पूरा हुआ है। इसलिए सुनाई गई थी मौत की सजा...

    मान्यताओं के अनुसार, यहूदियों के उच्च धर्माध्यक्ष और प्राचीन इजरायल की सुप्रीम काउंसिल ने ईशनिंदा का दोषी पाते हुए ईसा मसीह को मौत की सजा सुनाई गई थी। तब इजरायल के येरुशलम (अब इजरायल की राजधानी) में जिस जगह पर चर्च ऑफ होली स्पल्चर बना है, वहीं उन्हें सूली पर चढ़ाया गया (क्रूसीफिकेशन) था और बाद में वहीं दफना दिया गया। उन्हें पहली सदी में ही सूली पर चढ़ाया गया था। इस जगह की पहचान चौथी सदी में ही हो गई थी। ये चर्च ईसाई समुदाय के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है और दुनियाभर से लोग यहां पहुंचते हैं। इसे गोलगोथा और द प्लेस ऑफ स्कल के नाम से भी जाना जाता है।

    टॉम्ब में ईसा मसीह की कब्र और उनके पुनर्जीवित होने की जगह मानता
    इसकी पहचान एक ऐसे जगह के तौर पर की गई, जहां शहर की दीवार के बाहर एक वीरान पत्थर की खदान है। ईसा मसीह के सूली पर चढ़ाए जाने के करीब 10 साल बाद इस जगह को तीसरी दीवार बनाकर घेर दिया गया। हालांकि, ईसाई समुदाय मौजूदा वक्त में गार्डन टॉम्ब पर ईसा मसीह की कब्र और उनके पुनर्जीवित होने की जगह मानता है। इस जगह की खोज 1867 में हुई, जिसके बाद 1894 से गार्डन टॉम्ब और इसके आस-पास के बगीचों का ईसाइयों के धार्मिक स्थल के तौर पर रख-रखाव किया जा रहा है।

    पिछले साल की गई मरम्मत
    - पिछले साल इस जगह की मरम्मत की गई। रेस्टोरेशन का काम शुरू करने से पहले श्राइन को काले कपड़ों से ढक दिया गया था।
    - यहां का स्ट्रक्चर बहुत पुराना हो चुका था, जिसके चलते इसके गिरने का खतरा मंडरा रहा था। वर्ल्ड मॉन्युमेंट फंड के बोनी बुर्नहम ने कहा कि अगर अभी इसकी मरम्मत नहीं होती तो खतरा बढ़ जाता।
    - बोनी ने कहा कि मरम्मत के काम के बाद अब ये मॉन्युमेंट पूरी तरह से सुरक्षित हो गया है। चर्च ऑफ द हॉली स्पल्चर के बीच मौजूद ये स्ट्रक्चर लाइमस्टोन और मार्बल का बना है।
    - इसके मरम्मत के काम में करीब 26 करोड़ रुपए का खर्च आया, जिसके लिए दुनियाभर से डोनेशन पहुंचीं।

    आगे की स्लाइड्स में देखें इस मकबरे की PHOTOS...

  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
  • अब ऐसा दिखता है ईसा मसीह का मकबरा, ये हैं अंदर की PHOTOS, international news in hindi, world hindi news
    +9और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×