Hindi News »International News »International» Strange And Unusual Taxes In The World

सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX

स्पेन के बैलेयारिक आइलैंड में आने वाले सभी टूरिस्ट्स को सूरज की रोशनी के लिए टैक्स देना पड़ता है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jan 02, 2018, 02:14 PM IST

  • सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें
    स्पेन का बैलेयारिक आइलैंड।

    इंटरनेशनल डेस्क.सऊदी अरब और यूनाइटेड अरब अमीरात में पहली बार कोई टैक्स लगाया गया है। यहां रेवेन्यू बढ़ाने के लिए वैट टैक्स लगाया गया है। इनका अभी इनकम टैक्स लगाने का अभी कोई प्लान नहीं है। हालांकि, दुनिया में कई जगहों पर ऐसी चीजों पर भी टैक्स लगे हैं, जिनके बारे में कल्पना भी नहीं की जा सकती। यहां हम ऐसे ही 7 अजीबोगरीब टैक्स के बारे में बता रहे हैं।

    सूरज की रोशनी पर टैक्स, बैलेयारिक

    स्पेन के बैलेयारिक आइलैंड में आने वाले सभी टूरिस्ट्स को सूरज की रोशनी के लिए टैक्स देना पड़ता है। साल 2000 में ये टैक्स लगाया गया। इसके तहत यहां के इबिजा, मालोरका और दूसरे आइलैंड के रिजॉर्ट में रुकने वाले टूरिस्ट्स को रोजाना 1 यूरो यानी 76 रुपए देना होता है। इसका इस्तेमाल बीचेज और कोस्टल एरिया की सफाई और मेन्टेनेंस के लिए किया जाएगा।

    आगे की स्लाइड्स में जानें ऐसे बाकी 6 अजीबोगरीब टैक्स के बारे में...

  • सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    प्राइवेट स्विमिंग पूल पर टैक्स, ग्रीस

    ग्रीस में प्राइवेट हाउस में स्विमिंग पूल बनवाने को लग्जरी का हिस्सा माना जाता है। ऐसे में स्विमिंग पूल बनवाने वाले हर होम ओनर को साल का 800 यूरो टैक्स देना जरूरी है। इसीलिए एथेंस में ज्यादातर लोगों चोरी-छिपे पीछे ये स्विमिंग पूल बनवा रखे हैं।

  • सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    जंक फूड पर टैक्स, हंगरी

    हंगरी में 1 सितंबर 2011 में चिप्सोवी टैक्स लागू किया गया। इसके तहत पैक्ड फूड क्रिस्प्स, बिस्कुट, केक और पैक्ड एनर्जी ड्रिंक्स पर टैक्स लगता है। इस टैक्स के पीछे सरकार का मकसद हंगरी के नागरिकों को हेल्दी फूड के लिए प्रोत्साहित करना है।

  • सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    प्लास्टर लगवाने पर टैक्स, ऑस्ट्रिया

    ऑस्ट्रियन आल्प्स स्की और स्नोबोर्ड के लिए बेस्ट प्लेज में से एक है। हर साल यहां 150,000 स्कीयर्स को फैक्चर और चोटिल होकर हॉस्पिटल जाना पड़ता है। इसे देखते हुए यहां सरकार ने जिप्सम प्लास्टर नाम का टूरिस्ट टैक्स लगाने का फैसला किया। इसे टूरिस्ट्स से होटल और रिजॉर्ट ओनर कलेक्ट करते हैं।

  • सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    शेड पर टैक्स, वेनिस

    वेनिस में 1993 में सरकार ने उन रेस्टोरेंट, शॉपकीपर्स और प्रॉपर्टी मालिकों पर टैक्स लगाने का फैसला किया, जिन्होंने अपनी प्रॉपर्टी से सिटी अथॉरिटी की जमीन पर शेड लगा रखा था। इसे शेड टैक्स का नाम दिया गया। इसके बाद बहुत से ओनर्स ने अपनी प्रॉपर्टी से ये शेड हटा लिए।

  • सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    चॉपस्टिक पर टैक्स, चीन

    चीन में हर तकरीबन 45 बिलियन चॉपस्टिक फेंकी जाती है, जिसका प्रोडक्शन 25 मिलियन पेड़ों से होता है। इस वजह के चलते स्टेट अथॉरिटी ने डिस्पोजिबल चॉपस्टिक खरीदने पर स्पेशल टैक्स लगाया। इसका मकसद ये है कि लोग प्लास्टिक की चॉपस्टिक का इस्तेमाल करें, जो कई बार इस्तेमाल की जा सकती है। हालांकि, चाइनीज ट्रेडिशन के चलते इस टैक्स के बावजूद इनकी बैंबू चॉपस्टिक की खपत को कम नहीं किया जा सका।

  • सूरज की रोशनी के लिए भी यहां देने पड़ते हैं पैसे, ये हैं 7 अजीबोगरीब TAX, international news in hindi, world hindi news
    +6और स्लाइड देखें

    ग्रिल पर कुकिंग करने पर टैक्स, बेल्जियम

    2007 में बेल्जियम के वूलोनिया में लोकल गर्वंमेंट ने ग्रिल पर खाना पकाने को लेकर टैक्स लगाने का फैसला किया। इसका मकसद ग्लोबल वॉर्मिंग से जंग लड़ना है। यहां ऐसा मानना है कि ग्रिल कुकिंग से पर्यावरण में 50 से 100 ग्राम ग्रीनहाउस गैसेज प्रोड्यूस करता है। इसे लागू करने के लिए बकायादा हेलिकॉप्टर से इलाके के चेकिंग होती और हेलिकॉप्टर थर्मल इमेजिंग कैमरों से लैस रहते हैं।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×