--Advertisement--

1971 की जंग: PAK का साथ दे रहे इस प्रेसीडेंट ने इंदिरा गांधी को दी थी गाली

जंग में 91000 पाक युद्धबंदी कैद कर लिए गए थे, लेकिन पाक सरकार के निवेदन पर सभी पाकिस्तानी युद्धबंदी रिहा कर दिए थे।

Dainik Bhaskar

Dec 02, 2017, 07:19 PM IST
तत्कालीन अमेरिकन प्रेसिडेंट रिचर्ड निक्सन के साथ स्व. इंदिरा गांधी। तत्कालीन अमेरिकन प्रेसिडेंट रिचर्ड निक्सन के साथ स्व. इंदिरा गांधी।

इंटरनेशनल डेस्क. भारत के इतिहास में 3 दिसंबर की एक यादगार दिन है। क्योंकि, साल 1971 में पाकिस्तानी फौज ने भारत पर हमला बोल दिया था। हालांकि, इस जंग में भी पाकिस्तान की करारी हार हुई और बांग्लादेश को पाकिस्तान से आजाद करा लिया गया था। इस जंग से जुड़ी एक अहम बात यह भी है कि इसमें तत्कालीन अमेरिकन प्रेसिडेंट रिचर्ड निक्सन और इंडियन प्राइम मिनिस्टर इंदिरा गांधी भी आमने-सामने थे। उस समय अमेरिका को आंख दिखाने की हिम्मत किसी में नहीं थी, लेकिन इंदिरा गांधी के आगे रिचर्ड की एक न चली। जब भारतीय फौज ने पाकिस्तान पर हमला बोल दिया, तब रिचर्ड इतना झल्लाया था कि उसने इंदिरा गांधी को गाली दे दी थी। अमेरिका ने पाकिस्तान की मदद के लिए भेजा था अपना जंगी जहाज...

- यह वह समय था, जब पाकिस्तान की फौज बांग्लादेश पर जमकर जुल्म ढा रही थी।

- विद्रोह करने वाले पुरुषों को गोलियों से भूना जा रहा था और लाखों की संख्या में महिलाओं को रेप हो रहा था।
- इस दौरान भारत ही बांग्लादेश की मदद के लिए आगे आया। इंदिरा गांधी ने बांग्लादेश से भाग रहे शरणार्थियों के लिए देश की सरहद खोल दी थी।
- भारतीय सेना पाकिस्तान पर हमले के लिए आगे बढ़ रही थी। यही बात अमेरिका को पसंद नहीं आई।
- इस समय अमेरिका का प्रेसिडेंट रिचर्ड निक्सन था, जिसने भारत को चेतावनी दी थी कि वह पाकिस्तान के मामले में दखलंदाजी न करे।
- लेकिन, इंदिरा गांधी ने निक्सन की बात पर ध्यान नहीं दिया था। इससे निक्सन को अपना अपमान महसूस हुआ।
- इसी के चलते पाकिस्तान की मदद के लिए अमेरिका ने अपना सातवां बेड़ा भी भेज दिया था।

निक्सन ने इंदिरा को ‘बिच’ तो किसिंजर ने भारतीयों को ‘बास्टर्ड’ बोला
- यह जानकारी 2011 में सामने आए खूफिया दस्तावेज से सामने आई थी।
- जब भारतीय सेना पाकिस्तान में दाखिल हो गई, तब प्रेसिडेंट निक्सन और उसके नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर के बीच बातचीत हुई थी।
- इन्हें सबसे ज्यादा बुरा इसी बात का लगा था कि उनकी बात को इंदिरा गांधी ने सिरे से नकार दिया था।

- इसी के चलते रिचर्ड ने इंदिरा गांधी को ‘बिच’ तो हेनरी ने भारतीयों को ‘बास्टर्ड’ कहकर गाली दी थी।

इंदिरा गांधी ने किसिंजर को साफ शब्दों में दी थी वॉर्निंग
- जंग शुरू होने के करीब चार महीने पहले यानी की जुलाई महीने में अमेरिका के नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर पाकिस्तान होते हुए भारत की भी यात्रा पर आए थे।
- इस दौरान इंदिरा गांधी ने किसिंजर को बताया था कि बांग्लादेश के लोगों पर पाकिस्तानी आर्मी किस तरह जुल्म ढा रही है।
- लेकिन, किसिंजर ने इस बात को मानने से इंकार कर दिया था।
- इंदिरा गांधी ने उन्हें धमकी थी कि अगर आप कुछ नहीं करेंगे तो फिर हमें ही कुछ करना होगा।
- जब किसिंजर ने पूछा कि ऐसा क्या करने वाले हैं आप, तब इंदिरा गांधी ने उस मीटिंग में शामिल जनरल मानेकशॉ की ओर इशारा करते हुए कहा था..तो फिर हमें इनकी मदद लेनी पड़ेगी।
- जनरल मानेकशॉ की तरफ इशारा ही था कि अब भारत सीधी सैन्य कार्रवाई करेगा।

सिर्फ 13 दिन में ही खत्म हो गई थी जंग
- इस जंग में जनरल मानेकशा ने इंदिरा गांधी से वादा किया था कि वे एक हफ्ते के अंदर ही पूर्वी पाकिस्तान को नेस्तनाबूद कर देंगे।
- 3 दिसम्बर 1971 को पाकिस्तान ने ही भारत पर हमला बोल दिया था और मानेकशा की बहादुरी के सामने पाक सेना टिक नहीं सकी।
- 13 दिन चले इस युद्ध में एक बार फिर पाक को मुंह की खानी पड़ी और 16 दिसंबर को बांग्लादेश को पाक से आजाद करा दिया गया।
- इस जंग में 91000 पाक युद्धबंदी कैद कर भारत लाए गए थे। लेकिन पाक सरकार के निवेदन पर सभी पाकिस्तानी युद्धबंदी रिहा कर दिए गए थे।
- युद्ध के बाद प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जनरल मानेकशा से बहुत खुश हुईं और उन्हें फील्ड मार्शल बना दिया।

आगे की स्लाइड्स में देखें जंग से जुड़ी कुछ अन्य PHOTOS...

अमेरिका के तत्कालीन नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर के साथ इंदिरा गांधी। अमेरिका के तत्कालीन नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर के साथ इंदिरा गांधी।
1971 में हुए भारत-पाक युद्ध के इंडियन हीरो जनरल मानेकशॉ के साथ इंदिरा गांधी। 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध के इंडियन हीरो जनरल मानेकशॉ के साथ इंदिरा गांधी।
पाकिस्तान के जनरल नियाजी ने 90,000 पाक सैनिकों के साथ सरेंडर कर दिया था। पाकिस्तान के जनरल नियाजी ने 90,000 पाक सैनिकों के साथ सरेंडर कर दिया था।
अमेरिकन निर्मित पाकिस्तान की पनडुब्बी गाजी, जिसे डुबोकर भारतीय फौज ने फतह के झंडे गाड़ दिए थे। अमेरिकन निर्मित पाकिस्तान की पनडुब्बी गाजी, जिसे डुबोकर भारतीय फौज ने फतह के झंडे गाड़ दिए थे।
American president supports to pakistan in 1971 war
American president supports to pakistan in 1971 war
American president supports to pakistan in 1971 war
American president supports to pakistan in 1971 war
X
तत्कालीन अमेरिकन प्रेसिडेंट रिचर्ड निक्सन के साथ स्व. इंदिरा गांधी।तत्कालीन अमेरिकन प्रेसिडेंट रिचर्ड निक्सन के साथ स्व. इंदिरा गांधी।
अमेरिका के तत्कालीन नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर के साथ इंदिरा गांधी।अमेरिका के तत्कालीन नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर के साथ इंदिरा गांधी।
1971 में हुए भारत-पाक युद्ध के इंडियन हीरो जनरल मानेकशॉ के साथ इंदिरा गांधी।1971 में हुए भारत-पाक युद्ध के इंडियन हीरो जनरल मानेकशॉ के साथ इंदिरा गांधी।
पाकिस्तान के जनरल नियाजी ने 90,000 पाक सैनिकों के साथ सरेंडर कर दिया था।पाकिस्तान के जनरल नियाजी ने 90,000 पाक सैनिकों के साथ सरेंडर कर दिया था।
अमेरिकन निर्मित पाकिस्तान की पनडुब्बी गाजी, जिसे डुबोकर भारतीय फौज ने फतह के झंडे गाड़ दिए थे।अमेरिकन निर्मित पाकिस्तान की पनडुब्बी गाजी, जिसे डुबोकर भारतीय फौज ने फतह के झंडे गाड़ दिए थे।
American president supports to pakistan in 1971 war
American president supports to pakistan in 1971 war
American president supports to pakistan in 1971 war
American president supports to pakistan in 1971 war
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..