--Advertisement--

दुनिया की सबसे बड़ी जंग: इस दौरान भी नजर आ जाता था ऐसा माहौल

सेकंड वर्ल्ड वॉर (1 सितंबर 1939 से 2 सितंबर 1945) के दौरान हिटलर की नाजी सेना ने दुनिया के कई देशों में जमकर तबाही मचाई।

Danik Bhaskar | Dec 19, 2017, 08:13 PM IST
बिकिनी में परेड करती हुईं अमेरिकन आर्मी की 30वीं इन्फ्रेंट्री डिविजन की फीमेल सोल्जर्स। बिकिनी में परेड करती हुईं अमेरिकन आर्मी की 30वीं इन्फ्रेंट्री डिविजन की फीमेल सोल्जर्स।

इंटरनेशनल डेस्क. सेकंड वर्ल्ड वॉर (1 सितंबर 1939 से 2 सितंबर 1945) के दौरान हिटलर की नाजी सेना ने दुनिया के कई देशों में जमकर तबाही मचाई। इस युद्ध को आज तक सबसे विनाशकारी युद्ध माना जाता है। हिटलर के चलते ही देखते-देखते आधी दुनिया इसका हिस्सा बन गई थी। 30 देशों के 100 मिलियन लोग इस युद्ध का हिस्सा बन गए थे। इसी क्रम में बमिर्ंघम के फोटोग्राफर पॉल रेनॉल्ड्स वॉर के दौरान की कुछ चर्चित फोटोज को कलराइज्ड किया है। सैनिकों की ये फोटोज उस समय की हैं, जब वे ड्यूटी पर नहीं होते थे। एक नजर में सेकंड वर्ल्ड वॉर...


- एक सितंबर, 1939 को जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर ने पोलैंड पर हमला कर जंग का एलान किया था।
- उसके साथ इटली, जापान, हंगरी, रोमानिया और बुल्गारिया थे।
- दूसरी ओर, अमेरिका, सोवियत यूनियन, ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, पोलैंड, यूगोस्लाविया, ब्राजील, ग्रीस, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, नार्वे, दक्षिण अफ्रीका, मेक्सिको, चेकोस्लोवाकिया और मंगोलिया की सेना खड़ी थी।
- छह साल चले इस युद्ध में दोनों ओर से 2 करोड़ 40 लाख सिर्फ सैनिक ही मारे गए। चार करोड़ 90 लाख नागरिकों ने जान गंवाई।
- अमेरिका और सहयोगी देशों से छह करोड़ दस लाख और जर्मनी खेमे से एक करोड़ बीस लाख लोग मारे गए।
- अमेरिका ने छह और नौ अगस्त 1945 को जापान के दो शहरों हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए।
- 15 अगस्त 1945 को जापान के शासक हिरोहितो रेडियो जापान के सरेंडर का एलान किया।
- इसके बाद दो सितंबर 1945 को जापान ने अमेरिका के सामने संरेडर कर दिया। इसके साथ वर्ल्ड वॉर का अंत हो गया।


आगे की स्लाइड्स में देखें अन्य PHOTOS...

सीरिया और तुर्की के बॉर्डर के पास राइफल्स से मछलियों का शिकार करते हुए न्यूजीलैंड के सोल्जर्स। (फोटो : 9 जुलाई, 1942) सीरिया और तुर्की के बॉर्डर के पास राइफल्स से मछलियों का शिकार करते हुए न्यूजीलैंड के सोल्जर्स। (फोटो : 9 जुलाई, 1942)
मिसिसिप्पी में चिकन भूनते हुए अमेरिकन सोल्जर। (फोटो : 1942) मिसिसिप्पी में चिकन भूनते हुए अमेरिकन सोल्जर। (फोटो : 1942)
रशियन आर्कटिक में शिकार किए गए पोलर बियर के साथ जर्मन सैनिक। (फोटो : 1943) रशियन आर्कटिक में शिकार किए गए पोलर बियर के साथ जर्मन सैनिक। (फोटो : 1943)
पापुआ न्यू गिनी में यूएस आर्मी के हॉस्पिटल के बाहर बोर्ड पर रखे हुई इंसानी खोपड़ियां। (फोटो : 1943) पापुआ न्यू गिनी में यूएस आर्मी के हॉस्पिटल के बाहर बोर्ड पर रखे हुई इंसानी खोपड़ियां। (फोटो : 1943)
श्रीलंका में एक अमेरिकी सोल्जर हाथी पर बैठकर निशाना लगाता हुआ। (फोटो : 1914) श्रीलंका में एक अमेरिकी सोल्जर हाथी पर बैठकर निशाना लगाता हुआ। (फोटो : 1914)
मेडिटेरेनियन सी के सिसिली आईलैंड पर बॉक्सिंग करते हुए ब्रिटिश सोल्जर्स। (फोटो : 1 अगस्त, 1943) मेडिटेरेनियन सी के सिसिली आईलैंड पर बॉक्सिंग करते हुए ब्रिटिश सोल्जर्स। (फोटो : 1 अगस्त, 1943)
इटली के एंजियो बीच पर अमेरिकन सोल्जर्स। (फोटो : 22 जनवरी, 1944) इटली के एंजियो बीच पर अमेरिकन सोल्जर्स। (फोटो : 22 जनवरी, 1944)
जापान के ओकिनावा में एक सोल्जर अपनी राइफल की सफाई करते हुए। इस दौरान कुछ पपीज उसके पास खेलते हुए। (फोटो : 1944) जापान के ओकिनावा में एक सोल्जर अपनी राइफल की सफाई करते हुए। इस दौरान कुछ पपीज उसके पास खेलते हुए। (फोटो : 1944)
मिस्र के पिरामिड के ऊपर उड़ान भरते हुए अमेरिका के ट्रांसपोर्ट कमांड प्लेन। (फोटो : 1943) मिस्र के पिरामिड के ऊपर उड़ान भरते हुए अमेरिका के ट्रांसपोर्ट कमांड प्लेन। (फोटो : 1943)
वेस्टर्न पेसिफिक के आईलैंड पर यूएस मरीन का सोल्जर एक बकरी को केले खिलाते हुए। (फोटो : 1944) वेस्टर्न पेसिफिक के आईलैंड पर यूएस मरीन का सोल्जर एक बकरी को केले खिलाते हुए। (फोटो : 1944)
मिस्र के हेलवान कैंप में डांस करते हुए न्यूजीलैंड के जवान। (फोटो : जून, 1941) मिस्र के हेलवान कैंप में डांस करते हुए न्यूजीलैंड के जवान। (फोटो : जून, 1941)
फिनलैंड के लैपलैंड में एक जमी हुई लेक पर एक बारहसिंहा के साथ फिनलैंड का सोल्जर। (फोटो : अक्टूबर 26, 1941) फिनलैंड के लैपलैंड में एक जमी हुई लेक पर एक बारहसिंहा के साथ फिनलैंड का सोल्जर। (फोटो : अक्टूबर 26, 1941)
जर्मनी में जीत के बाद जश्न मनाते हुए ब्रिटिश-अमेरिकन सोल्जर्स। (फोटो : 6 जुलाई, 1945) जर्मनी में जीत के बाद जश्न मनाते हुए ब्रिटिश-अमेरिकन सोल्जर्स। (फोटो : 6 जुलाई, 1945)