--Advertisement--

ऐसे बदतर हाल में रोहिंग्या मुस्लिमों के यहां हुई शादी, सामने आईं PHOTOS

ये शादी कॉक्स बाजार के कुतुपालोंग रिफ्यूजी कैम्प में हुई, जहां साढ़े 6 लाख से ज्यादा रोहिंग्या रिफ्यूजी रह रहे हैं।

Danik Bhaskar | Jan 03, 2018, 12:10 AM IST
शादी के बाद सद्दाम और शौफीका। शादी के बाद सद्दाम और शौफीका।

इंटरनेशनल डेस्क. शादी की फोटोज बांग्लादेश के रोहिंग्या रिफ्यूजी कैम्प की हैं। यहां म्यांमार से आए एक जोड़े की धूमधाम से शादी हुई। कैम्प में बदतर हालात के बीच इस शादी में मेहमान के इनवाइट करने और नाच-गाने से लेकर दावत तक सबकुछ हुआ। कैम्प में एक तरफ जहां शादी का जश्न था। वहीं, दूसरी तरफ सैकड़ों अपने रहने के लिए ठिकाने तलाश रहे थे। भागने से पहले से था शादी का प्लान...

- ये शादी कॉक्स बाजार के कुतुपालोंग रिफ्यूजी कैम्प में हुई, जहां म्यांमार से हिंसा के बाद भागकर आए साढ़े 6 लाख से ज्यादा रिफ्यूजी रह रहे हैं।
- रिफ्यूजी बीते साल अगस्त से यहां रहने के ठिकाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। लोग यहां बांस के पोल गाड़ और उस पर प्लास्टिक शीट डालकर रह रहे हैं।
- दोनों ही दूल्हा-दुल्हन म्यांमार के खा मउंग सेक गांव से हैं। इस गांव को रोहिंग्या के फोइरा बाजार के तौर पर जाना जाता है, जहां करीब 1000 दुकानें हैं।
- 23 साल के सद्दाम और शौफीका का ताजा हिंसा से पहले से शादी करने का प्लान था, लेकिन इन्हें शादी बांग्लादेश के इस कैम्प में आकर करनी पड़ी।

गांव छोड़ भागना पड़ा
- सद्दाम की फैमिली दुकान चलाती थी, लेकिन अगस्त में भड़की हिंसा में मिलिट्री फोर्स ने मकान जला दिए गए और और उन्हें भागना पड़ा।
- इस दौरान कई हफ्तों के लिए सद्दाम का शौफीका से कनेक्शन टूट गया था, लेकिन कुतुपालोंग कैम्प फिर एक साथ हो गए।
- अब तीन महीने बाद दोनों ने शादी सेलिब्रेट की। शौफीका ने जहां हाथों पर मेंहदी लगवाई, तो वहीं सद्दाम नए कपड़ों में परफ्यूम लगाए नजर आए।
- मौलवी ने रंगीन कंबलों से सजे एक छोटे से टेन्ट में इनका निकाह पढ़वाया। इस दौरान वहां सिर्फ पुरुष गेस्ट मौजूद थे।
- शौफीका ने शादी के दौरान अपना ज्यादातर वक्त अलग टेन्ट में बिताया, जहां महिला गेस्ट्स मौजूद थीं।
- इसके बाद दावत में पहले मेल गेस्ट्स को खाना परोसा गया। इसके बाद महिलाएं और फिर बच्चों को खाना खिलाया गया।

अब भविष्य की सता रही चिंता
- सद्दाम से जब पूछा गया कैम्प में शादी करने का अनुभव कैसा रहा तो उन्होंने कहा कि यहां कम से कम हमें कोई पैसे तो नहीं देने पड़े।
- सद्दाम ने बताया कि उनके गांव में उनसे कहा गया था कि अगर वो शादी करना चाहते हैं तो उन्हें 370 डॉलर की रकम देनी होगी।
- हालांकि, शादी के बाद इस जोड़े को अब अपने भविष्य की भी चिंता सता रही है। वो तय नहीं कर पा रहे कि इस भीड़ से भरे कैम्प में वो अपनी फैमिली कैसे बढ़ाएंगे।
- सद्दाम ने कहा कि वो बच्चों के लिए भी इंतजार करेंगे। अभी ये तय करना जरूरी है कि वो यहीं रहेंगे या फिर म्यांमार लौटेंगे।

आगे की स्लाइड्स में देखें इनकी शादी की फोटोज...