Hindi News »International News »International» Grace Mugabe Wife Of Robert Was Known As Zimbabwes First Shopper

93 साल के मुगाबे ने 41 साल छोटी पत्नी की वजह से गंवाई 37 साल की सत्ता

93 साल के मुगाबे ने 41 साल छोटी पत्नी ग्रेसी की वजह से गंवाई 37 साल की सत्ता, पत्नी उपराष्ट्रपति बनना चाहती थी।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Nov 16, 2017, 06:56 PM IST

  • 93 साल के मुगाबे ने 41 साल छोटी पत्नी की वजह से गंवाई 37 साल की सत्ता, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    पत्नी ग्रेसी के साथ जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे।

    हरारे. जिम्बाब्वे में सेना ने तख्तापलट के बाद राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे को नजरबंद कर दिया है। देश में इस राजनीतिक संकट के लिए रॉबर्ट मुगाबे की पत्नी ग्रेसी को जिम्मेदार बताया जा रहा है। इसकी शुरुआत एक हफ्ते पहले ही हुई थी। जब रॉबर्ट ने अपनी पार्टी जनू-पीएफ के दूसरे सबसे बड़े नेता उपराष्ट्रपति इमर्सन मनंगावा को बर्खास्त कर दिया था। दरअसल, दिसंबर में जनू-पीएफ की सालाना कांग्रेस होने वाली थी। इसमें मुगाबे पत्नी ग्रेसी को उपराष्ट्रपति बनाने की घोषणा करने वाले थे। जिसे लेकर इमर्सन और पार्टी नेता सहमत नहीं थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुगाबे की 37 साल से चली आ रही सत्ता के अंत की पटकथा खुद ग्रेसी मुगाबे ने तैयार की। जुलाई 2018 में जिम्बाब्वे में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं। इसे लेकर पिछले कुछ समय से देश में चर्चा शुरू हो गई थी कि 93 साल के रॉबर्ट मुगाबे का अगला उत्तराधिकारी कौन होगा। जिसमें सबसे आगे उपराष्ट्रपति इमर्सन मनंगावा का नाम चल रहा था। ग्रेसी को भी दावेदार माना जा रहा था। कहा जा रहा है कि ग्रेसी जनू-पीएफ पार्टी की नेता बनना चाहती थीं, इसलिए उन्होंने रॉबर्ट मुगाबे से इमर्सन को बर्खास्त करवा दिया।पत्नी के चलते वाइस प्रेसिडेंट को किया बर्खास्त...

    रॉबर्ट गबरियल मुगाबे का जन्म 24 फरवरी 1924 को जिम्बाब्वे के कुतामा में हुआ था। उन्होंने फोर्ट हरारे यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की। वह कई स्कूलों में अध्यापक भी रहे। 1960 में उन्हें नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी का प्रमुख बनाया गया। 1962 में उन्हें जनू-पीएफ का जनरल सेक्रेटरी बनाया गया। वह जनू पार्टी के सह संस्थापक भी हैं। आजादी आंदोलन में वह कई साल तक जेल में भी रहे। जिम्बाब्वे के लोग उन्हें आजादी का हीरो मानते हैं।
    गुरिल्ला वार
    1980 में आजादी के 14 साल बाद ह्वाइट रोडेशियन नेता इयान स्मिथ ने सरकार को चुनौती दी थी। मुगाबे ने स्मिथ के खिलाफ गुरिल्ला वार लड़ा।
    उम्र सिर्फ संख्या

    राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे उम्र को सिर्फ संख्या मानते हैं। 93 साल के मुगाबे विश्व के सबसे उम्रदराज राष्ट्र प्रमुख हैं। हाल ही में उन्होंने कहा था कि वह 2018 में होने वाले चुनावों में फिर खड़े होंगे। हालांकि वह काफी समय से अस्वस्थ चल रहे थे।
    इस्तीफा
    अपने 93वें जन्मदिन पार्टी पर मुगाबे ने कहा था कि 'इस्तीफे की मांग पार्टी के अंदर से आनी चाहिए। ऐसी स्थिति में मैं पद छोड़ दूंगा, यदि मैं काम नहीं कर पाऊंगा तो मैं पार्टी से कहूंगा कि वे मुझे पदमुक्त कर दें।'
    निजी सेना
    2000 में जब एक जनमत संग्रह में मुगाबे को हार का सामना करना पड़ा तो उन्होंने स्वयं पूर्व फौजियों के साथ निजी सेना का गठन किया।

    40 साल से रॉबर्ट मुगाबे के दाहिना हाथ थे इमर्सन
    - 75 साल के पूर्व उपराष्ट्रपति इमर्सन मनंगावा को लोग 'क्रोकोडाइल' कहते हैं। क्योंकि वह 40 साल से रॉबर्ट मुगाबे के दाहिने हाथ बने हुए थे।
    - आजादी के बाद वह इंटेलिजेंस के चीफ और कैबिनेट मंत्री भी रहे। सेना के नियंत्रण के बाद वह बुधवार को बर्खास्तगी के बाद दिखाई दिए।
    - इससे पहले उन्होंने कहा कि जनू-पीएफ रॉबर्ट और उनकी पत्नी ग्रेसी की पर्सनल प्रापर्टी नहीं है। उन्होंने समर्थकों से अगले चुनाव में ग्रेसी के खिलाफ लड़ने की अपील की थी।
    - उपराष्ट्रपति इमर्सन सत्तारूढ़ जनू-पीएफ पार्टी में दूसरे नंबर के नेता थे, इसलिए ग्रेसी ने करवाया बाहर।

  • 93 साल के मुगाबे ने 41 साल छोटी पत्नी की वजह से गंवाई 37 साल की सत्ता, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    पत्नी ग्रेसी के साथ जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे।
  • 93 साल के मुगाबे ने 41 साल छोटी पत्नी की वजह से गंवाई 37 साल की सत्ता, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    सेना ने तख्तापलट के बाद राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे को नजरबंद कर दिया है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×