पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

भय्यूजी महाराज से लेकर दुनिया की मशहूर फैशन डिजाइनर को डिप्रेशन ने मार डाला

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर. भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को खुद को गाेली मारकर खुदकुशी कर ली। उन्होंने छह लाइन के सुसाइड नोट में तनाव में होने की बात कही है। उन्होंने लिखा, "मैं काफी तनाव में हूं, परेशान हूं, मैं जा रहा हूं। मेरे पीछे परिवार को देखने के लिए कोई यहां होना चाहिए।" हैरानी की बात है कि अाध्यात्मिक संत कहे जाने वाले भय्यूजी भी तनाव से पीछा नहीं छुड़ा पाए। ये इत्तेफाक ही है कि बीते एक हफ्ते में दुनिया के दो और मशहूर लोगों ने सुसाइड किया है। इनमें मशहूर अमेरिकन शेफ एंटनी बॉर्डेन और फैशन डिजाइनर केट स्पेड शामिल हैं। दीपिका पादुकोण ने दोनों मशहूर हस्तियों के सुसाइड का जिक्र करते हुए एक इंस्टाग्राम पोस्ट की है। ये पोस्ट डिप्रेशन के बारे में है।दीपिका ने कहा है कि इन लोगों ने सुसाइड नहीं किया है, बल्कि डिप्रेशन ने इन्हें मार डाला है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर डिप्रेशन कितनी बड़ी चीज है, जिसके सामने दुनिया को फतह करने वाली ये शख्सियतें भी हार गईं। महामारी की तरह है डिप्रेशन...

 

- भय्यूजी महाराज देश के हाईप्रोफाइल संत माने जाते थे। वह पीएम मोदी से लेकर आरएसएस प्रमुख भागवत के करीबी थे। मर्सीडीज जैसी महंगी कारों में चलने वाले भय्यूजी रोलेक्स घड़ी पहनते थे और आलीशान घर में रहते थे। राजनीति से लेकर कारोबारी जगत और फिल्म इंडस्ट्री तक में अपनी दखल रखते थे। वह अपने फॉलोअर्स को जीवन जीने के सकारात्मक तरीके बताते थे। फिर ऐसा क्या हुआ कि इतनी सकारात्मक सोच रखने वाला इंसान अचानक डिप्रेशन में आ गया और अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। 
- दीपिका पादुकोण ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि डिप्रेशन इन दिनों एक महामारी की तरह बढ़ रहा है। अपनी पोस्ट में जिन लोगों के नाम दीपिका ने लिए हैं, वह कोई छोटे-मोटे लोग नहीं थे। केट स्पेड वो फैशन डिजाइनर थीं, जिन्हें दुनियाभर में लाखों-करोड़ों लोग फॉलो करते थे। उनकी वजह से दुनिया का फैशन ट्रेंड बदलता था। वहीं, दूसरी ओर से एंटनी बॉर्डेन फूड इंडस्ट्री का जाना माना नाम था। ये वो लोग थे, जो ऐसे मुकाम पर पहुंचे थे, जिन्हें छूना हर किसी के लिए आसान नहीं था। 
- तीनों केस में सिर्फ एक ही सवाल उठता है कि शोहरत और बुलंदियों तक पहुंचने के बाद भी इन मशहूर हस्तियों के जीवन में आखिर क्या खालीपन था, जिसका वह हल नहीं निकाल सकते थे?
- WHO की रिपोर्ट कहती है कि दुनिया में हर 40 सेकंड में एक शख्स सुसाइड करता है। हर साल करीब 8 लाख लोग सुसाइड से मरते हैं। सुसाइड करने वालों की एवरेज उम्र 15 से 29 साल होती है। 
- वहीं, भारत में खुदकुशी करने वालों औसतन उम्र 30 साल है। 90% लोग मेंटल डिसऑर्डर की वजह से सुसाइड करते है, उसमें भी पुरुषों की संख्या महिलाओं से ज्यादा है। देश में हर दिन करीब 300 सुसाइड होते हैं। इसमें से फैमिली प्रॉब्लम और बीमारियां 44% सुसाइड का कारण बनती हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपका कोई सपना साकार होने वाला है। इसलिए अपने कार्य पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित रखें। कहीं पूंजी निवेश करना फायदेमंद साबित होगा। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता संबंधी परीक्षा में उचित परिणाम ह...

और पढ़ें