Hindi News »International News »International» No Job For H1B Visa Holders Spouse In America As Per Trump Government Decision

अमेरिका में नौकरी नहीं कर सकेंगे एच1बी वीजाधारक के जीवनसाथी, भारतीयों पर ज्यादा असर

ओबामा सरकार के समय लागू किए एच1बी वीजा देने का प्रावधान ट्रम्प प्रशासन खत्म करने जा रहा है।

Bhaskar News | Last Modified - Apr 25, 2018, 01:46 AM IST

अमेरिका में नौकरी नहीं कर सकेंगे एच1बी वीजाधारक के जीवनसाथी, भारतीयों पर ज्यादा असर, international news in hindi, world hindi news

वॉशिंगटन.एच1बी वीजाधारक के पति-पत्नी अमेरिका में नौकरी नहीं कर सकेंगे। ट्रम्प प्रशासन इस पर पूरी तरह रोक लगाने की योजना बना रहा है। इसका सबसे ज्यादा असर अमेरिका में काम कर रहे भारतीयों पर होगा, क्योंकि सबसे अधिक एच1बी वीजा भारतीय ही लेते हैं। वर्क परमिट वाले जीवनसाथी में भी सबसे ज्यादा भारत के ही हैं। यूएस सिटिजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेज के डायरेक्टर फ्रांसिस सिसना ने यह जानकारी दी।

अब तक क्या हैं एच-4 वीजा के प्रावधान?

- एच1बी वीजाधारक ने अगर स्थायी निवासी यानी ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन किया है तो उसके जीवनसाथी को वर्क परमिट के तौर पर एच-4 वीजा देने का प्रावधान है। ओबामा सरकार के समय 2015 में यह लागू हुआ था। ट्रम्प प्रशासन इस प्रावधान को खत्म करने जा रहा है।

‘बाई अमेरिकन, हायर अमेरिकन’ के तहत लिया फैसला

- यूएस सिटिजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेज के डायरेक्टर के मुताबिक, इसी गर्मियों में इसका आदेश जारी हो सकता है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ‘बाई अमेरिकन, हायर अमेरिकन’ नीति पर काम कर रहे हैं। इसका मकसद अमेरिका के स्थानीय निवासियों को ज्यादा संख्या में नौकरी दिलाना है।

- सिसना ने बताया कि ट्रम्प सरकार एच1बी वीजा के नियम सख्त करने के प्रस्ताव पर भी काम कर रही है। एच1बी वीजा तकनीकी विशेषज्ञता वालों को मिलता है।

एच1बी वीजा के 60% आवेदन भारतीयों के

अप्रैल के पहले हफ्ते में कंपनियों को एच1बी वीसा के लिए आवेदन करना पड़ता है। हर साल 85,000 वीसा दिए जाते हैं। इनमें 20,000 अमेरिकी यूनिवर्सिटी से मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई करने वालों के लिए हैं। औसतन 60-65% आवेदन भारतीयों के होते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए International News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: amerika mein Naokari nahi kar sakenge ech1bi vijaadhaark ke jivnsaathi, bharatiyon par jyada asar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×