Hindi News »International News »International» Wimbledon Rufus The Hawk Has Double The Workload As Pigeons Hide

विम्बलडन के मैदान की रूफस नाम का बाज 10 साल से कर रहा निगरानी, उसके पास कबूतरों को भगाने की जिम्मेदारी

रूफस की लोकेशन पता लगाने के लिए उसके शरीर में रेडियो ट्रांसमीटर लगाया गया

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jul 18, 2018, 03:17 PM IST

  • विम्बलडन के मैदान की रूफस नाम का बाज 10 साल से कर रहा निगरानी, उसके पास कबूतरों को भगाने की जिम्मेदारी, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    रूफस जब सिर्फ 16 हफ्तों का था, तभी से विम्बलडन में अपनी सेवा दे रहा है।

    लंदन. इंग्लैंड में खेले जा रहे विम्बलडन में बीते 10 साल से रूफस बाज को एक अहम जिम्मेदारी मिली हुई है। वह इस प्रतियोगिता के लिए तय किए गए 42 एकड़ क्षेत्रफल की सालभर निगरानी करता है। दरअसल, विम्बलडन ग्रास कोर्ट पर खेला जाने वाला इकलौता ग्रैंड स्लैम है। इसकी घास को कबूतर नुकसान पहुंचाते थे, ऐसे में रूफस को उन्हें भगाने की जिम्मेदारी सौंपी गई। विम्बलडन के आयोजक ऑल इंग्लैंड क्लब ने रूफस की तैनाती की है। यह अमेरिकी हैरिस प्रजाति का बाज है। इसकी देखभाल करने वाली इमोजेन डेविस के मुताबिक, रूफस रोज सुबह 5 से 9 बजे तक ड्यूटी करता है।

    रूफस के 10 हजार से ज्यादा फॉलोअर्स : डेविस ने बताया कि रूफस की लोकेशन के बारे में पता लगाने के लिए उसके शरीर में रेडियो ट्रांसमीटर लगाया गया है। 2012 में उसका ट्विटर अकाउंट भी बनाया गया। इसे 10 हजार से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। रूफस जब सिर्फ 16 हफ्तों का था, तभी से विम्बलडन में अपनी सेवा दे रहा है।

  • विम्बलडन के मैदान की रूफस नाम का बाज 10 साल से कर रहा निगरानी, उसके पास कबूतरों को भगाने की जिम्मेदारी, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    रूफस का 2012 में ट्विटर अकाउंट भी बनाया गया। इसे दस हजार से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं।
  • विम्बलडन के मैदान की रूफस नाम का बाज 10 साल से कर रहा निगरानी, उसके पास कबूतरों को भगाने की जिम्मेदारी, international news in hindi, world hindi news
    +2और स्लाइड देखें
    रूफस 42 एकड़ क्षेत्रफल में फैले विम्बलडन के मैदान की रखवाली करता है।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From International

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×