--Advertisement--

दुनिया के 15 सबसे पॉल्यूटेड शहरों की लिस्ट जारी, इनमें से 14 भारत के

दिल्ली की जगह कानपुर सबसे टॉप पर है। दिल्ली इस लिस्ट में अब छठें नंबर पर आ गया है।

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 07:11 PM IST

इंटरनेशनल डेस्क. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने दुनिया के सबसे पॉल्यूटेड शहरों की लिस्ट जारी की है। इसमें आने वाले टॉप 15 शहरों में 14 शहर को अकेले भारत से हैं। हालांकि, इस बार दिल्ली की जगह कानपुर सबसे टॉप पर है। दिल्ली इस लिस्ट में अब छठें नंबर पर आ गया है। ये लिस्ट इस शहरों की जहरीली हवा के आधार पर जारी की गई है। इसमें पीएम 10 और पीएम 2.5 के स्तर को शामिल किया गया है।

ये हैं सबसे पॉल्यूटेड शहर
- पीएम 2.5 स्तर पर 2016 में सबसे प्रदूषित शहरों में कानपुर, फरीदाबाद, गया, पटना, आगरा, दिल्ली, बनारस, मुजफ्फरपुर, श्रीनगर, गुरुग्राम, जयपुर, पटियाला, जोधपुर, अलीसुबह अल सलेम कुबैत समेत चीन और मंगोलिया के कुछ शहरों को शामिल किया गया है।
- पीएम 10 स्तर पर 2016 में दुनिया के 20 शहरों में भारत के 13 शहर सबसे प्रदूषित हैं।

सबसे ज्यादा शहर उत्तर भारत के

रिपोर्ट में चिंता बढ़ाने वाली बात ये है कि लिस्ट में ज्यादातर शहर उत्तर भारत के हैं। इस लिस्ट में कानपुर टॉप पर है, तो वहीं वाराणसी तीसरे और लखनऊ 7वें नंबर पर काबिज है। हार्ट प्रॉब्लम, स्ट्रोक और लंग्स कैंसर से करीब एक चौथाई मौत की वजह एयर पॉल्यूशन की वजह से हैं।

दिल्ली का ऐसा है हाल
दिल्ली में पीएम 2.5 ऐनुल ऐवरेज 143 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है, जो नेशनल सेफ स्टैंडर्ड से तीन गुना ज्यादा है, जबकि पीएम 10 ऐवरेज 292 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है। ये नेशनल स्टैंडर्ड से 4.5 गुना ज्यादा है। हालांकि, सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के हाल में किए गए दावों के मुताबिक, 2016 के मुकाबले 2017 में एयर पॉल्यूशन के स्तर में सुधार हुआ है। बोर्ड ने अब तक 2017 के लिए हवा में मौजूदा पीएम 2.5 का डाटा जारी नहीं किया है।

108 देशों के 4300 शहरों को किया गया शामिल
- डब्ल्यूएचओ के ग्लोबल अर्बन एयर पॉल्यूशन ने 108 देशों के 4300 शहरों से पीएम 10 और पीएम 2.5 के महीन कणों का डाटा तैयार किया है। इसके मुताबिक, 2016 में वायु प्रदूषण से 42 लाख लोगों की मौत हुई है। वहीं, खाना बनाने, फ्यूल और घरेलू उपकरणों से फैलने वाले प्रदूषण से 38 लाख लोगों की मौत हुई है।
- 2016 से डब्ल्यूएचओ ने इसमें 1000 ज्यादा शहरों को शामिल किया गया है। जिससे ज्यादा से ज्यादा देश एयर पॉल्यूशन को कम करने के लिए कदम उठाएं।

ऐसे समझें पॉल्यूशन मीटर
वायु पॉल्यूशन का कंसंट्रेशन हवा के माइक्रोग्राम परक्यूबिक मीटर (µg/m3) में मापा जाता है। PM2.5 का मतलब सांस के साथ अंदर जाने वाले पार्टिकल और 2.5 माइक्रोन्स से छोटे पार्टिकल से है। बता दें कि एयर पॉल्यूशन को मापने में PM2.5 कंसंट्रेशन को सबसे अच्छा इंडिकेटर माना जाता है।


आगे की स्लाइड्स में फोटोज में देखें दिल्ली में पॉल्यूशन का हाल...

दिल्ली में पॉल्यूशन के चलते इस कदर छाई थी धुंध। दिल्ली में पॉल्यूशन के चलते इस कदर छाई थी धुंध।