मोदी को भी चुनावी मुद्दा बना रहे इमरान खान, कहा- नवाज ने कोशिशें कीं, लेकिन मोदी का रुख पाक विरोधी

DainikBhaskar.com | Jul 05,2018 19:16 PM IST

कराची. पूर्व क्रिकेटर और अब पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी (पीटीआई) के प्रमुख इमरान खान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी चुनावी मुद्दा बना रहे हैं। इसके लिए वे अपने धुर विरोधी नवाज शरीफ का भी पक्ष लेते दिख रहे हैं। इमरान ने गुरुवार को एक इंटरव्यू में कहा- अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भारत-पाक के रिश्तों को बेहतर करने की कोशिश की थी, लेकिन मोदी सरकार के पाकिस्तान विरोधी आक्रामक रुख ने दोनों देशों के बीच गतिरोध पैदा किया। पाकिस्तान की जटिल सियासी हकीकतों को समझने वाला शख्स ही पाकिस्तान का वजीर-ए-आजम बन पाएगा।

पाकिस्तान: पंजाब में 52% सीटें, 63% वोटर, 47% उम्मीदवार; तीनों बड़ी पार्टियों के प्रमुख भी यहीं से लड़ रहे चुनाव

Bhaskar News | Jul 04,2018 09:44 AM IST

272 सामान्य सीटों के लिए इस बार कुल 3459 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें से 46.92% पंजाब से लड़ रहे हैं। 51.83% सीटें पंजाब से ही हैं। 63% वोटर भी यहीं हैं। 1972 में बांग्लादेश के अलग होने के बाद से पाकिस्तान में अब तक 10 प्रधानमंत्री बने हैं। इनमें से 6 पंजाब से रहे हैं। 3 प्रधानमंत्री सिंध से और एक बलूचिस्तान प्रांत से हुए हैं। खैबर पख्तूनख्वा से एक भी नहीं हुए हैं।

पाकिस्तान में आम चुनाव से पहले पेट्रोल की कीमत 100 रुपए के पार, 6 महीने में 41 रुपए बढ़े दाम

DainikBhaskar.com | Jul 03,2018 20:36 PM IST

इस्लामाबाद. पाकिस्तान में 25 जुलाई को होने वाले आम चुनाव से पहले सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ा दिए हैं। पेट्रोल की कीमत में 7.54 रुपए और डीजल में 14 रुपए की बढ़ोतरी की गई है। एक लीटर पेट्रोल की कीमत अब 100 रुपए के पार हो गई है। वहीं, डीजल 119 रु/ली. हो गया है। पिछले 6 महीनों में पेट्रोल के दाम में 41 रुपए और डीजल में 29 रुपए का इजाफा किया गया है।

पाकिस्तान: पांच साल में 30% गैर-मुस्लिम वोटर बढ़े; इनमें 17 लाख हिंदू, अल्पसंख्यकों में सबसे ज्यादा

DainikBhaskar.com | Jul 02,2018 22:00 PM IST

पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव से पहले चुनाव आयोग ने गैर-मुस्लिम वोटरों के आंकड़े जारी किए। इसके मुताबिक, 5 साल के भीतर पाकिस्तान में गैर-मुस्लिम वोटरों (अल्पसंख्यक समुदाय) की संख्या में 30% इजाफा हुआ। 2013 में इनकी संख्या 27 लाख थी, जो बढ़कर 36 लाख हो गई है। इनमें हिंदू वोटर (कुल17 लाख) पहले पायदान पर हैं। दूसरे नंबर पर 16 लाख ईसाई वोटर हैं।