Hindi News »International News »Pakistan» Maulana Abul Kalam Azad: The Man Who Knew The Future Of Pakistan

मौलाना आजाद ने 70 साल पहले देख लिया था पाकिस्तान का फ्यूचर

आजाद भारत के पहले शिक्षामंत्री और स्वतंत्रता सेनानी मौलाना अबुल कलाम एक जेहीन और तेजतर्रार शख्सियत के इंसान थे।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Feb 22, 2018, 06:33 PM IST

  • मौलाना आजाद ने 70 साल पहले देख लिया था पाकिस्तान का फ्यूचर, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें

    स्पेशल डेस्क.आजाद भारत के पहले शिक्षामंत्री और स्वतंत्रता सेनानी मौलाना अबुल कलाम एक जेहीन और तेजतर्रार शख्सियत के इंसान थे। 22 फरवरी 1958 को वे इस दुनिया से रुखसत हो गए। मुस्लिम लीग के मोहम्मद अली जिन्ना के सामने खड़े होने वाले कद्दावर कांग्रेसी नेता थे। जब मुस्लिम लीग भारतीय मुस्लिमों की रहनुमाई कर रही थी और पाकिस्तान बनने की तहरीक चला रही थी। तब मौलाना आजाद पाकिस्तान के भविष्य को लेकर कई सवाल खड़े कर रहे थे। उन्होंने एक सिरे से जिन्ना के दो कौमी नजरियात (टू नेशन थ्योरी) को खारिज कर दिया था।

    70 साल पहले पाकिस्तान का फ्यूचर बताने वाला नेता
    इसमें कोई शक नहीं की, मौलाना आजाद एक सच्चे भारतीय मुस्लिम थे। उन्होंने 1946 में बंटवारे से ठीक पहले चट्टान नाम की मैगजीन में पत्रकार शोरिश काश्मीरी को एक इंटरव्यू में दिया था। इस इंटरव्यू में पाकिस्तान को भविष्य को लेकर जो बातें कही थीं, पाकिस्तान आज उसी रास्ते पर है।

    आइए जानते हैं क्या था मौलाना आजाद ने


    1.पाकिस्तान के ही मक्कार सियासतदान खुद ही सेना के लिए मार्शल लॉ का रास्ता बनाएंगे
    - ये बात एकदम सच साबित हुई। इस मुल्क में नेता काफी कमजोर थे। आजादी के बाद पाकिस्तान की सियासत को वहां आर्मी ने कंट्रोल करना शुरू कर दिया। देश में कई मार्शल लॉ लग चुके हैं। मार्शल का मतलब होता है सेना का शासन।

    2.​पाकिस्तान के पड़ोसी देशों से ताल्लुकात हमेशा खराब रहेंगे। यकीनन जंग होगी
    - इस बात में भी कोई शक नहीं। पाकिस्तान के हमसाए मुल्क ईरान, भारत, अफगानिस्तान से रिश्ते हमेशा से तल्ख रहे हैं।

    3.​बिजनेसमैन और नेता पाकिस्तान की जीडीपी का सत्यानाश कर देंगे। इसको बेच खाएंगे
    पाकिस्तान में भ्रष्टाचार चरम पर है। पॉलीटिशियन से लेकर बिजनेसमैन तक सभी लोग देश की प्रॉपर्टी को खा रहे हैं। ज्यादातर नेता अपने हिसाब से पॉलिसी बदलकर खुद और साथियों को फायदा पहुंचाते हैं।

    4. ​आगे चलकर यहां पिछड़ा तबका बैचेन हो जाएगा और विद्रोह करेगा

    - पाकिस्तान में कई ऐसे तबके हैं, जिनके साथ मजहबी, रंग के आधार पर भेदभाव होता है। शिया-सुन्नी झगड़े, अहमदी, हजारा और बलूची कम्युनिटी पर जुल्म इसके उदाहरण हैं।


    5.​पाकिस्तान अपनी इन हरकतों की वजह से दो टुकड़ों टूट जाएगा
    -जब ये जुल्म बढ़ने लगे तो पूर्वी पाकिस्तान में बंगाली मुस्लिमों ने विद्रोह दिया। जिसके नतीजा सभी जानते हैं, 1971 में बांग्लादेश अस्तित्व में आया।

    6.​पाकिस्तान के युवा मायूस हो जाएगा। वो मजहब से दूर हो जाएगा और टू नेशन थ्योरी से भी भरोसा उठ जाएगा।

    7. विदेशी ताकतें इस मुल्क को कंट्रोल करने की साजिश करेंगी
    - बीते 70 सालों से पाकिस्तान, अमेरिका, चीन, अरब देशों की कठपुतली बना हुआ है। ये देश जब चाहे जैसे चाहे अपने हिसाब से पाकिस्तानी नेताओं को ट्रीट करते हैं और उनसे अपना फायदे के लिए नीतियां बनवाते हैं।

    8. पाकिस्तान में कट्टरपंथी ताकतों को बढ़ावा मिलेगा और उससे मुल्क को खतरा हो जाएगा

  • मौलाना आजाद ने 70 साल पहले देख लिया था पाकिस्तान का फ्यूचर, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pakistan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×