Hindi News »International News »Pakistan» US Said Masood Azhar Should Be Declared A Global Terrorist

मसूद अजहर एक बुरा आदमी, उसे वैश्विक आतंकी घोषित किया जाए : अमेरिका

अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव को कई देशों का समर्थन हासिल था, लेकिन चीन इसके विरोध में था।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Nov 08, 2017, 06:06 PM IST

  • मसूद अजहर एक बुरा आदमी, उसे वैश्विक आतंकी घोषित किया जाए : अमेरिका, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद का प्रमुख मसूद अजहर।
    वॉशिंगटन.आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को बुरा आदमी बताते हुए अमेरिका ने उसे वैश्विक आतंकी घोषित किया जाने की बात कही है। पठानकोट आतंकी हमले के मास्टरमाइंड अजहर को आतंकी घोषित करने के संयुक्त राष्ट्र में हुई कोशिश में चीन द्वारा अड़ंगा डालने पर अमेरिका ने यह बात कही। अजहर फिलहाल पाकिस्तान में है। उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव को अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन का समर्थन हासिल था, लेकिन चीन इसके विरोध में था।आतंकी संगठनों की सूची में पहले शामिल है अजहर...
    - इस प्रस्ताव को पिछले हफ्ते चीन ने चौथी बार रोक दिया और इसकी वजह बताई कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अलकायदा प्रतिबंध समिति के सदस्य इस पर एकमत नहीं हैं।
    - अजहर का बनाया आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित आतंकी संगठनों की सूची में पहले से शामिल है।
    - विदेश विभाग की प्रवक्ता हीदर नोर्ट ने संवाददाता सम्मेलन में चीन के कदम पर पूछे गए सवाल के बारे में कहा, 'हम निश्चित रुप से मानते हैं कि वह बहुत बुरा व्यक्ति है। हम चाहते हैं कि उसे इस सूची में शामिल किया जाए।'
    - नोर्ट ने कहा, उसे प्रतिबंधित सूची में शामिल करने पर समिति में बातचीत हो रही है। संयुक्त राष्ट्र के तहत वह सूची गोपनीय है इसलिए मैं कोई टिप्पणी नहीं कर सकती।
    - उन्होंने कहा कि चीन के कदम के बारे में तो आपको चीन की सरकार से ही पूछना पड़ेगा कि उन्होंने ऐसा क्यों किया लेकिन निश्चित ही हमारा मानना है कि वह बहुत बुरा व्यक्ति है।
  • मसूद अजहर एक बुरा आदमी, उसे वैश्विक आतंकी घोषित किया जाए : अमेरिका, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव को अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन का समर्थन हासिल था, लेकिन चीन इसके विरोध में था।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pakistan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×